1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. west bengal election 2021 prashant kishor news describes khela hobe meaning avh

Khela Hobe का क्या है असली मतलब? TMC के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने बताया

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर
चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर
FIle

प. बंगाल में विधानसभा चुनाव के पहले चरण के वोटिंग में अब 5 दिन शेष बचे हैंं, ऐसे में सभी दल मतदाताओं के बीच जनसंपर्क अभियान चला रही है. बंगाल चुनाव में तृणमूल कांग्रेस खेला होबे स्लोगन का प्रयोग करती है, जबकि बीजेपी इसे हिंसा भड़काने के लिए प्रयोग करने का आरोप लगाती रही है. वहीं अब टीएमसी के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने खेला होबे का असली मतलब बताया है.

एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में प्रशांत किशोर ने कहा है कि खेला होबे का सीधा मतलब है कि बंगाल में इस बार खेल होगा. पीके ने कहा कि बीजेपी जब चुनाव लड़ती है, तो अपने सामने वाली पार्टी को तोड़ती है. इसके बाद जीत का गलत दावा करने लगती है, जिससे माहौल खराब हो जाए. खेला होबे का नारा इसलिए दिया है कि तुम कुछ भी कर लो, लेकिन तुम्हारे साथ खेला होगा.

लेफ्ट और कांग्रेस पर निशाना- चुनावी रणनीतिकार पीके ने कहा कि बंगाल में बीजेपी का उदय लेफ्ट और कांग्रेस की वजह से हुआ. ये दोनों दल विपक्ष की भूमिका निभा पाने में नाकाम रही, जिसकी वजह से बीजेपी ने यहां पांव पसारा. पीके ने कहा कि बीजेपी हिंदू-मुस्लिम कर चुनाव लड़ रही है और सरकार बनाने का सपना देख रही है.

पीएम के आसोल पोरिबर्तन पत्र अटैक- पीके ने इंटरव्यू में कहा कि पीएम मोदी आसोल पोरिबर्तन की बात करते हैं, लेकिन आसोल पोरिबर्तन क्योंं चाहिए, नहीं बताते हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी के नेता असम में कह रहे हैं कि सरकार में आने पर फ्री फूड देंगे.आप बताइए, पांच साल असम मेंं किसकी सरकार थी? बीजेपी के वादे को जनता अच्छी तरह से जानती है.

खेला होबे नारे के बारे में- खेला होबे नारा बंगाल चुनाव का सबसे मश्हूर स्लोगन बन गया है. इसे टीएमसी के प्रवक्ता देबांशु भट्टाचार्य ने लिखा है. खेला होबे को सबसे पहले बंगाल टीएमसी के नेता अनुब्रत मंडल ने गाया था. वहीं बीजेपी इस स्लोगन के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत भी करा चुकी है.

Posted by : Avinish Kumar Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें