1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. chandan sonar who became hotel businessman chandra mohan is running biggest kidnapping gang in india mtj

चंदन सोनार से होटल व्यवसायी बना चंद्रमोहन निकला देश के सबसे बड़े किडनैपिंग गिरोह का सरगना, 6 राज्यों की पुलिस को थी तलाश

By Mithilesh Jha
Updated Date
देश के सबसे बड़े अपहरण गिरोह के सरगना चंदन को सीआइडी ने किया गिरफ्तार.
देश के सबसे बड़े अपहरण गिरोह के सरगना चंदन को सीआइडी ने किया गिरफ्तार.
Prabhat Khabar

आसनसोल : तेजपाल अपहरणकांड की जांच कर रही सीआईडी ने देश के सबसे बड़े अपहरण गिरोह के सरगना चंदन सोनार को गिरफ्तार कर लिया है. 10 वर्षों से अपनी पहचान बदलकर होटल व्यवसायी के रूप में सिंघरौली (मध्यप्रदेश) में जीपी पैलेस होटल का संचालन कर रहा था. चंदन को किडनैपिंग किंग के रूप में पूरे देश में जाना जाता है.

गुजरात के हीरा व्यापारी के पुत्र सोहैल हिंगोरा के अपहरण में वह मुख्य आरोपी है. इस अपहरण में 25 करोड़ रुपये फिरौती वसूलने की बात चर्चा में है. छह राज्यों बिहार, झारखंड, उत्तरप्रदेश, छत्तीसगढ़, बंगाल और गुजरात पुलिस को विभिन्न अपहरणकांडों में उसकी तलाश थी. बराकर इलाके के युवा उद्योगपति तेजपाल सिंह अपहरण कांड में सीआइडी की टीम ने उसे गिरफ्तार किया.

2011 में जमानत पर जेल से रिहा होने के बाद हो गया गायब

वर्ष 2010 में एक अपहरण के मामले में पटना पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था. रांची और हाजीपुर जेल में भी वह बंद था. वर्ष 2011 में जमानत पर रिहा होने के बाद वह गायब हो गया. तबसे वह अपनी पहचान बदलकर सिंघरौली में रहने लगा. वहां वह एक शानदार होटल बनाया. इसके साथ ही वह ठेकेदारी का कार्य भी करता था. सिंघरौली में उसने कोई अपराध नहीं किया.

अन्य राज्यों में होने वाले हर अपहरण में उसका नाम आता था. उसके शागीर्द पुलिस को कांड में उसकी संलिप्ता की जानकारी देते, लेकिन वह कहां है, अभी कैसा दिखता है, इसकी जानकारी पुलिस को नहीं होती थी. सूरत के हीरा व्यापारी के पुत्र सोहैल हिंगोरी का अपहरण पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था. इस कांड में चंदन का नाम आया.

झारखंड के कई अपहरण मामले में था चंदन का हाथ

वर्ष 2020 में रायपुर से व्यवसायी प्रवीण सोमानी के अपहरण में भी चंदन सोनार गैंग का नाम आया. इसके अलावा भी झारखंड के गोमिया से व्यवसायी महाबीर जैन, रांची में होटल कावेरी के संचालक लव भाटिया, ज्वेलर परेश मुखर्जी, जमीन कारोबारी मदन सिंह के बेटे के अपहरण में भी इस गिरोह का नाम आया. इसके अनेकों शागिर्द पकड़े गए लेकिन पुलिस को चंदन हाथ नहीं लगा.

तेजपाल अपहरण में फिरौती लेने की बात स्वीकारी

प्राथमिक पूछताछ में चंदन ने सीआईडी अधिकारियों को बताया कि फिरौती की पूरी रकम (2.60 करोड़ रुपये) उसने संग्रह की थी. उसने किसे कितना पैसा दिया इसे लेकर बार-बार वह अपना बयान बदल रहा है. अधिकारियों को उम्मीद है कि रिमांड अवधि में मामले का पूरा खुलासा हो जाएगा.

सगे संबंधियों से नहीं रखता था संपर्क

चंदन सिंघरौली में अपने माता-पिता, भाई, पत्नी और एक बेटे के साथ रहता है. उसकी दो बहनें भी हैं. सीआईडी को उसने बताया कि बहनों के साथ भी वह कोई संपर्क नहीं रखता था. उसे डर था कि किसी प्रकार उसके नाम का खुलासा हो गया तो पुलिस उसे गिरफ्तार कर लेगी. किसी सगे-संबंधी को दस वर्षों में उसने फोन पर भी बात नहीं की.

फिरौती से 500 करोड़ से अधिक कमाये

चंदन सोनार और उसके गिरोह का मुख्य पप्पू चौधरी ने अपहरण के जरिये 500 करोड़ रुपये से अधिक की उगाही की है. सीआईडी की टीम इसकी भी जांच कर रही है. पूरे देश में कुल 40 अपहरण के मामलों में चंदन सोनार गिरोह का नाम सामने आया है. किसी भी कांड को अंजाम देने के लिए चंदन उस इलाके के लड़कों को ही काम में लगाता था. पूरा प्लान खुद तैयार करता था, स्थानीय लड़के उसपर अमल करते थे. स्थानीय लड़कों के पकड़े जाने के बाद भी चंदन के नाम का खुलासा नहीं होता था. जिसके कारण ही वह अबतक पुलिस से बचता रहा है.

सीआइडी टीम को मिल रही है हर राज्य से सराहना

चंदन सोनार को पकड़ने के लिए राज्य सीआईडी टीम को सभी राज्यों से सराहना मिल रही है. छह राज्यों में चंदन का आतंक रहा है. व्यवसायी उसका नाम सुनते ही कांप जाते थे. 10 वर्षों तक नाम बदलकर सिंघरौली में रहने की भनक किसी भी राज्य की पुलिस को नहीं मिली थी.

पश्चिम बंगाल सीआईडी की टीम द्वारा उसे गिरफ्तार करने की सूचना सभी राज्यों में पहुंच गयी है. जहां जिस थाने में भी चंदन के खिलाफ मामला दर्ज है या अपहरण हुआ है, सभी जगहों की पुलिस सीआईडी से संपर्क किया है. वे यहां आकर चंदन से पूछताछ करेंगे. दस वर्षों के दौरान उसके कहां-कहां कांड किया इसका खुलासा हो सकता है.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें