21.1 C
Ranchi
Saturday, February 24, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeराज्यउत्तर प्रदेशRamadan 2023: हर मुस्लिम पर रोजा रखना फर्ज, जानें कब से हुई शुरुआत

Ramadan 2023: हर मुस्लिम पर रोजा रखना फर्ज, जानें कब से हुई शुरुआत

Ramadan 2023: रमजान के मुकद्दस महीने में हर मर्द, औरत और बालिग पर रोजे फर्ज हैं, लेकिन कुछ लोगों को रोजा न रखने की छूट भी मिली है. इनको रोजा न रखने पर गुनहगार नहीं माना जाएगा. कुरान और हदीस के मुताबिक हर बालिग मर्द और औरत पर रमजान का रोजा रखना फर्ज है.

Ramadan 2023 : रमजान के मुकद्दस महीने में हर मर्द, औरत और बालिग पर रोजे फर्ज हैं, लेकिन कुछ लोगों को रोजा न रखने की छूट भी मिली है. इनको रोजा न रखने पर गुनहगार नहीं माना जाएगा. कुरान और हदीस के मुताबिक हर बालिग मर्द और औरत पर रमजान का रोजा रखना फर्ज है. लेकिन जो लोग बीमार हैं, बहुत वृद्ध (बुजुर्ग) हैं, शरीर में रोजा रखने की क्षमता नहीं है, मानसिक रूप से बीमार हैं, बहुत छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं को रोजा न रखने की छूट दी गई है.

कोई बीमार व्यक्ति अगर ठीक महसूस करें, तो वह पहली फुर्सत में रोजा रख सकते हैं, जो व्यक्ति हमेशा बीमार रहता है. उसे 30 दिन रोजे के बदले 60 गरीबों को दोनों वक्त का खाना खिलाने, या 60 गरीबों को पौने दो किलो गेहूं या इसके बराबर बाजार की कीमत पर रकम अदा करने का हुक्म है. अगर कोई व्यक्ति यात्रा में है, और उसे रोजा रखने में परेशानी हो, तो ऐसे में सफर खत्म होते ही रोजा रखने की बात कही गई है, लेकिन वह सफर खत्म होने के बाद रोजा नहीं रखता, तो वह गुनहगार होगा.

कौन से लोग रोज नहीं रख सकते हैं

ऐसे लोग, जो बालिग और शारीरिक रूप से स्वस्थ होते हुए भी रोजे नहीं रखते, ऐसे लोग गुनहगार हैं, और इन्हें जहन्नुम नसीब होती है. इस्लामिक कैलेंडर के नौंवे महीने रमजान में रोजा रखने की शुरुआत दूसरी हिजरी में हुई है. उलमा कहते हैं कि कुरान की दूसरी आयत सूरह अल बकरा में कहा गया है कि रोजा तुम पर उसी तरह फर्ज है, जैसे पहले की उम्मत पर फर्ज था. कहा जाता है कि पैगंबर साहब के हिजरत कर मदीना पहुंचने के एक साल बाद मुसलमानों को रोजा रखने का हुक्म मिला. इसके बाद रोजा रखने की शुरुआत हुई.

Also Read: ईद की खुशियां मातम में बदली, बरेली-नैनीताल हाईवे पर सड़क हादसा, बाइक सवार पति-पत्नी की मौत
उम्मत पर 50 दिन के रोजे होते फर्ज

उलमा कहते हैं कि रमजान में अल्लाह ने 50 दिन के रोजे उम्मत पर फर्ज किए थे. पैगंबर मुहम्मद साहब को जब अल्लाह ने अपना नबी बनाया, तो अल्लाह ने उनकी उम्मत पर 50 दिन का रोजा रखने का हुक्म दिया था, लेकिन पैगंबर मुहम्मद साहब ने अल्लाह से गुजारिश की कि मेरी उम्मत 50 दिनों के फर्ज रोजे रखने में परेशानी आएगी. इसके बाद अल्लाह ने पैगबंर की गुजारिश कबूल कर रमजान में 30 दिन के रोजे उम्मत पर फर्ज किए. मगर, नाफिल रोजे कभी भी रख सकते हैं. ईद के बाद छह रोजे, मुहर्रम, बकरीद, शाबान, रजब आदि महीने में भी रख सकते हैं. इसके साथ ही पीर (सोमवार) और जुमेरत (गुरुवार) का रोजा रखने का काफी सबाब है. रोजे की सेहरी भी बहुत जरूरी है.

रिपोर्ट मुहम्मद साजिद बरेली

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें