1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. students burn the effigy of the vice chancellor on the organization of iftar party in bhu sht

BHU में पहली बार इफ्तार पार्टी के आयोजन पर मचा बवाल, छात्रों ने कुलपति का पुतला फूंककर जताई नाराजगी

काशी हिंदू विश्वविद्यालय में कुलपति ने इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया, जिस पर छात्रों ने आक्रोश जताते हुए कुलपति का पुतला फूंककर जमकर विरोध-प्रदर्शन किया.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
बीएचयू में पहली बार हुआ इफ्तार पार्टी का आयोजन
बीएचयू में पहली बार हुआ इफ्तार पार्टी का आयोजन
Prabhat khabar

Varanasi News: काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में कुलपति ने महिला महाविद्यालय में इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया, जिसपर छात्रों ने आक्रोश जताते हुए कुलपति का पुतला फूंककर जमकर विरोध-प्रदर्शन किया. इतना ही नहीं छात्रों ने कुलपति आवास के बाहर जमकर नारे भी लगाए. छात्रों ने कुलपति का विरोध करते हुए कहा कि अगर करना है इफ्तार तो चले जाएं एएमयू और जामिया, क्योंकि आज तक बीएचयू में कभी भी इफ्तार पार्टी नहीं हुई.

बीएचयू में पहली बार हुआ इफ्तार पार्टी का आयोजन

बीएचयू के शोधार्थी शुभम सिंह ने बताया कि पिछले पांच साल से वह अध्यनरत हैं.कभी भी यहां इफ्तार पार्टी नहीं हुई है. बीएचयू प्रशासन ने प्रेस रिलीज जारी कर इफ्तार पार्टी का आयोजन किया. जोकि पहली बार मेरी जानकारी में हुआ है. इसके खिलाफ हम लोगों ने कुलपति का पुतला फूंका है. विश्वविद्यालय में ऐसा इस तरह का कभी नहीं होता है. विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से मजहबी रंग देने की कोशिश जा रही हैं. जोकि गलत है. हम सभी छात्र कड़े शब्दों में इसकी निंदा करते हैं.

छात्रों ने वीसी का पुतला फूंककर जताई नाराजगी

आशीर्वाद श्रीवास्तव ने बताया कि हम लोगों ने आज वीसी सर को इफ्तार पार्टी करते हुए देखा तो यह सोचा कि एकेडमिक रूप से सर हमेशा अलग रहते हैं. जब भी छात्र बात करना चाहते हैं तो अलग रहते हैं, लेकिन इफ्तार पार्टी के लिए इनके पास समय है. जहां देश में एक तरफ़ नागरिक समान संहिता की बात हो रही हैं, वही देश में दूसरी तरफ़ काशी हिंदू विश्वविद्यालय में सामान्य परंपरा से हटकर के इफ्तार पार्टी का आयोजन करना निंदनीय है.

इसके पूर्व के वीसी जीसी त्रिपाठी ने नवररात्रि में फलाहार भोज देने की परंपरा शुरू की थी, परंतु नए कुलपति ने इस परंपरा को धूमिल कर दिया और यह नई परम्परा शुरू की. इसका हम सब विरोध करते हैं और इसलिए हमने कुलपति का पुतला फूंका है.

रिपोर्ट- विपिन सिंह

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें