1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. a letter written to the dm on aligarhs jama masjid to release the occupation nrj

अलीगढ़ की जामा मस्जिद पर आरटीआई ने छेड़ी बहस, डीएम के लिए कब्जा मुक्ति को लिखा पत्र

आरटीआई के जवाब में जामा मस्जिद को सार्वजनिक भूमि पर बने होने, जामा मस्जिद के निर्माण के बारे में कोई जानकारी न होने, जामा मस्जिद पर मालिकाना हक व्यक्ति विशेष का न होने की जानकारियों ने अलीगढ़ की जामा मस्जिद को अवैध ठहराकर ढाने के लिए सियासत तेज कर दी है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Aligarh
Updated Date
आरटीआई एक्टिविस्ट ने छेड़ी अलीगढ़ की जामा मस्जिद के खिलाफ अभियान.
आरटीआई एक्टिविस्ट ने छेड़ी अलीगढ़ की जामा मस्जिद के खिलाफ अभियान.
Prabhat Khabar

Aligarh News: वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद के बाद अब अलीगढ़ की ऊपरकोट स्थित जामा मस्जिद सुर्खियों में आ गई है. आरटीआई के जवाब में जामा मस्जिद को सार्वजनिक भूमि पर बने होने, जामा मस्जिद के निर्माण के बारे में कोई जानकारी न होने, जामा मस्जिद पर मालिकाना हक व्यक्ति विशेष का न होने की जानकारियों ने अलीगढ़ की जामा मस्जिद को अवैध ठहराकर ढाने के लिए सियासत तेज कर दी है.

ये मांगी सूचनाएं...

आरटीआई एक्टिविस्ट केशव देव ने नगर निगम से 23 जून 2021 में सूचनाएं मांगी थी कि जामा मस्जिद किस की जमीन पर बनी है? जामा मस्जिद का निर्माण कब हुआ? जामा मस्जिद जिस जमीन पर बनी है, उस पर किसका मालिकाना हक है? नगर निगम ने 31 जुलाई 2021 में जन सूचना अधिकार अधिनियम के अंतर्गत सूचना दे दी.

मिली चौंकाने वाली जानकारी...

नगर निगम ने अलीगढ़ की जामा मस्जिद पर मांगी गई सूचनाओं पर बताया कि जामा मस्जिद सार्वजनिक भूमि पर बनी है. जामा मस्जिद के निर्माण के बारे में कोई अभिलेख उपलब्ध नहीं है. जामा मस्जिद पर मालिकाना हक किसी व्यक्ति विशेष का नहीं है. सार्वजनिक भूमि पर मस्जिद निर्माण की इन जानकारियों ने जामा मस्जिद को अवैध ठहराने की सियासत को गर्म कर दिया है.

वैध कब्जा मुक्ति के लिए डीएम को भेजा पत्र...

आरटीआई एक्टिविस्ट केशव देव ने 8 मई 2022 को अलीगढ़ के जिलाधिकारी के साथ कमिश्नर, नगर आयुक्त और एडीए के उपाध्यक्ष को अलीगढ़ की जामा मस्जिद के बारे में पत्र भेजा. पत्र में केशव देव ने मांग की है कि जामा मस्जिद सार्वजनिक भूमि पर बनी है. इस भूमि पर किसी व्यक्ति विशेष का अधिकार नहीं है. जामा मस्जिद राष्ट्रीय धरोहर सार्वजनिक भूमि पर बनी है. हजारों वर्ष पुराने इतिहास के अनुसार अपरकोर्ट किला हिंदू राजाओं की राजधानी रहा. इसलिए सरकारी सार्वजनिक भूमि से जामा मस्जिद सहित अवैध कब्जा किला, शिव मंदिर, ऊपर कोर्ट किला को कब्जा मुक्त कराया जाए.

यहां पहले था किला...

आरटीआई एक्टिविस्ट केशव देव ने 'प्रभात खबर' को बताया कि अलीगढ़ की जामा मस्जिद पहले किला था, जिसे मॉडिफाई कर मस्जिद बनाया गया होगा. सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार जामा मस्जिद सार्वजनिक भूमि पर बनी है, इसके निर्माण का भी कोई पता नहीं है. जामा मस्जिद पर किसका मालिकाना हक है, यह भी पता नहीं है. यह जामा मस्जिद को अवैध ठहराने के लिए काफी है.

रिपोर्ट : चमन शर्मा

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें