1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. simdega
  5. fisherman trapped in torrential river for 24 hours amid heavy rain and lightning in simdega district of jharkhand ndrf team of ranchi came to rescue in the morning mtj

VIDEO: मूसलाधार बारिश के बीच रात भर उफनायी नदी में फंसा रहा मछुआरा, सुबह पहुंची एनडीआरएफ की टीम

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
भारी बारिश के बीच मछुआरे विल्सन ने रात भर चट्टान पर बितायी रात.
भारी बारिश के बीच मछुआरे विल्सन ने रात भर चट्टान पर बितायी रात.
Ravikant Sahu

सिमडेगा (रविकांत साहू) : झारखंड में मछली पकड़ने के लिए नदी में गया एक मछुआरा बीच नदी में फंस गया. रात भर वह उफनायी नदी में फंसा रहा. रविवार को नदी के बीचोबीच फंस गये इस युवक ने पूरी रात नदी में बितायी. सोमवार सुबह एनडीआरएफ की टीम रेस्क्यू करने के लिए पहुंची.

बानो थाना क्षेत्र के कोयल नदी से एनडीआरएफ की टीम ने सोमवार (5 अक्टूबर, 2020) को उसको रेस्क्यू करके सुरक्षित नदी से बाहर निकाला. जानकारी के मुताबिक, रामजोल निवासी विलन मड़की मछली मारने के लिए शनिवार को दोपहर में नदी के बीच अन्य दिनों की तरह ही गया था.

मछली मारने के दौरान ही मूसलाधार बारिश के कारण नदी का जलस्तर अचानक बढ़ गया. जल स्तर बढ़ने एवं नदी का पाठ चौड़ा होने के कारण विल्सन मड़की नदी से बाहर नहीं निकल सका. रात भर जिंदगी और मौत से चट्टान पर बैठकर जूझता रहा.

इस दौरान मूसलाधार बारिश भी हो रही थी. लगातार बिजली कड़क रही थी. इतना संकट झेलते हुए भी विल्सन ने हिम्मत नहीं हारी. मड़की चट्टान पर बैठा रहा. सुबह में जानवर चराने गये कुछ लोगों ने विल्सन को चट्टान पर बैठे देखा. इसके बाद ग्रामीणों को सूचना दी गयी.

ग्रामीणों ने इसकी सूचना थाना को दी. बानो थाना प्रभारी भी ग्रामीणों के साथ रस्सी वगैरह लेकर नदी के तट पर पहुंचे. तेज धार व चौड़ा पाट के कारण वे लोग कुछ नहीं कर पाये. इसके बाद जिला के पुलिस कप्तान डॉक्टर शम्स तबरेज ने एनडीआरएफ के एडीजी से बात की.

एनडीआरएफ की टीम ने विल्सन को सुरक्षित निकाला, तो सबने ली राहत की सांस.
एनडीआरएफ की टीम ने विल्सन को सुरक्षित निकाला, तो सबने ली राहत की सांस.
Ravikant Sahu

एसपी ने विल्सन को बचाने के लिए एनडीआरएफ की टीम भेजने का आग्रह किया. एसपी के आग्रह पर तत्काल एनडीआरएफ की टीम रांची से रवाना हुई और बानो पहुंची. एनडीआरएफ की टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर पूरे इलाके का मुआयना किया. ग्रामीणों से जानकारी ली कि पानी के नीचे पत्थर है या नहीं.

ग्रामीणों से पुख्ता जानकारी मिलने के बाद एनडीआरएफ की टीम बोट लेकर नदी के बीचोबीच गयी और विल्सन मड़की सकुशल नदी से बाहर निकाल लिया. एनडीआरएफ की टीम की ग्रामीणों ने जमकर तारीफ की. विल्सन के बाहर आने पर उनके परिजनों के चेहरे पर खुशी साफ दिखाई पड़ रही थी.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें