1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. the case of getting money by taking money in the trauma center of the largest hospital rims of jharkhand has gone viral on social media cm hemant becomes strict orders for inquiry given smj

झारखंड के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में पैसा लेकर बेड दिलाने का मामला सोशल मीडिया में वायरल, CM हेमंत हुए सख्त, दिये जांच के आदेश

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
 रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में पैसे लेकर बेड उपलब्ध कराने का मामला सोशल मीडिया में हुआ वायरल.
रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में पैसे लेकर बेड उपलब्ध कराने का मामला सोशल मीडिया में हुआ वायरल.
फाइल फोटो.

Jharkhand news (रांची) : झारखंड की राजधानी रांची के रिम्स ट्रॉमा सेंटर में कोरोना वायरस संक्रमितों को बेड दिलाने के एवज में पैसा लेने का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुआ है. इस ऑडियो में रिम्स का अधिकृत कर्मचारी बताकर पीड़ितों से पैसा लेकर बेड उपलब्ध कराने का वादा किया गया है. सोशल मीडिया में ऑडियो वायरल होने पर सीएम हेमंत सोरेन इस मामले को लेकर काफ सख्त हुए और जांच के आदेश दिये हैं. इधर, इस मामले में पुलिस ने 3 युवक को गिरफ्तार किया है.

झारखंड के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में 30 हजार रुपये में ऑक्सीजन बेड और 50 हजार रुपये में वेंटीलेटर बेड उपलब्ध कराने का दावा करने वाले दलाल के सोशल मीडिया में ऑडियो वायरल होने के बाद सीएम हेमंत सोरेन काफी गंभीर दिखे. उन्होंने ट्विट कर रांची पुलिस को मामले का संज्ञान लेते हुए दोषियाें के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिये हैं.

क्या है पूरा मामला

रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में मजिस्ट्रेट के रूप में प्रतिनियुक्त राकेश कुमार यादव ने बरियातू थाना में एक लिखित आवेदन दिया है. इस आवेदन में बताया गया कि 27 अप्रैल, 2021 को रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में पैसा लेकर बेड उपलब्ध कराने का दो ऑडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ. इस ऑडियो में बताया जा रहा है कि 30 हजार रुपये में जेनरल ऑक्सीजन बेड और 50 हजार रुपये में रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में ऑक्सीजन वेंटिलेटर बेड उपलब्ध कराया जा रहा है. इसकी जानकारी सीनियर अधिकारी को मिलने के बाद मुझे जांच का जिम्मा सौंपा गया.

राकेश कुमार यादव के आवेदन में कहा गया कि जांच के दौरान रांची के जोड़ा तालाब निवासी मो रियाज आलम को पैसा देकर बेड उपलब्ध कराने की बात कही गयी थी. इस दौरान मो रियाज ने चाउमिन विक्रेता टुटू कुमार साव का जिक्र किया. ऑडियो में बताया गया कि टुटू कुमार साव की पहचान रिम्स ट्रॉमा सेंटर में पवन कुमार सिंह से है. पवन कुमार सिंह पैसे लेकर बेड उपलब्ध कराता है.

मो रियाज की निशानदेही पर पुलिस ने टुटू कुमार साव को पकड़ा, तो उन्होंने स्वीकार किया कि इन्हें रिम्स के वार्ड बॉय पवन कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि अगर कोई रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में पैसे देकर बेड लेना चाहता है, तो हमसे संपर्क करें. इसके बाद पुलिस ने मो रियाज और टुटू कुमार साव की निशानदेही पर वार्ड बॉय पवन कुमार सिंह को हिरासत में लिया गया.

पुलिस की गिरफ्त में आये वार्ड बॉय पवन कुमार सिंह ने अपना अपराध स्वीकार करते हुए पहले 1000 और 2000 रुपये में रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में बेड उपलब्ध कराने की बात स्वीकारी. इस दौरान यह भी बताया गया कि किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा मो रियाज से रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में बेड दिलाने के नाम पर बातचीत कर ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया. उक्त तीनों ने रिम्स के अधिकृत कर्मी बताकर लोगों को ठगने का काम किया है. इन तीनों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम की धाराओं के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज की जा रही है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें