1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. sahay yojana jharkhand to be start in naxal affected area from december 15 know what is the motive behind it srn

झारखंड के नक्सल प्रभावित इलाकों में 15 दिसंबर से शुरू होगी सहाय योजना, जानें क्या है इसके पीछे का मकसद

झारखंड सरकार नक्सल प्रभावित इलाकों में 15 दिसंबर से सहाय योजना की शुरुआत करेगी, सीएम हेमंत चाईबासा में आपकी सरकार, आपको द्वार कार्यक्रम में इसका उदघाटन करेंगे. इसका मकसद उन इलाकों में खेल को बढ़ावा देना है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Jharkhand News : नक्सल प्रभावित जिलों के लिए 15 से शुरू होगी सहाय योजना
Jharkhand News : नक्सल प्रभावित जिलों के लिए 15 से शुरू होगी सहाय योजना
ट्विटर

रांची : नक्सल प्रभावित जिलों के लिए 15 दिसंबर को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन स्पाेर्ट्स एक्शन टूवर्डस हार्नसिंग एस्परेशन ऑफ यूथ (सहाय) योजना को आरंभ करेंगे. चाईबासा में आयोजित प्रमंडल स्तरीय आपके अधिकार, आपकी सरकार, आपके द्वारा कार्यक्रम में सीएम इसका उदघाटन करेंगे.

ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम पंचायत और शहरी क्षेत्रों में वार्ड स्तर पर 14 से 19 साल के लड़के औऱ लड़कियों का खिलाड़ियों के तौर पर रजिस्ट्रेशन कराया जायेगा. यह कार्य बीडीओ नगर निकाय में सीइओ के माध्यम से कराया जायेगा. पंजीकरण कर इन खिलाड़ियों का डेटा बेस तैयार किया जायेगा. ग्राम पंचायत और शहरी क्षेत्रों में वार्ड स्तर पर फुटबॉल, हॉकी, वॉलीबॉल की अलग-अलग टीमों का चयन किया जायेगा.

एथलेटिक्स में भी पंचायत और नगर निकाय स्तर पर प्रतियोगिता कराकर तीन सर्वश्रेष्ठ पुरुष और महिला एथलीटों का चयन किया जायेगा. इसी तरह ब्लॉक, जिला व राज्य स्तर पर प्रतियोगिताएं होंगी. खिलाड़ियों को जर्सी, शार्ट्स के लिए धन दिया जायेगा. इस दौरान लोगों को मानव तस्करी, बाल विवाह, शिक्षा की आवश्यकता, डायन कुप्रथा, कुपोषण और पलायन के बारे में भी जागरूक किया जायेगा.

में खेलों के माध्यम से संघर्ष समाधान की दिशा में आगे बढ़ते हुए सामान्य जीवन शैली को प्रेरित करने और युवा वर्ग के विकास हेतु सहाय योजना संचालित करने की मंजूरी दी है. यह योजना झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला, खूंटी, सिमडेगा, गुमला जिलों में लागू की जायेगी. इसके लिए 10 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.

अलग-अलग खेल प्रतियोगिताएं होंगी आयोजित

इस योजना का उद्देश्य इन जिलों में जमीनी स्तर पर प्रतिभावान खिलाड़ियों की पहचान करना है. ताकि खेलों के माध्यम से युवाओं में स्वतस्फूर्ति की भावना उत्पन्न हो और वे अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित हो सकें. योजना के जरिये युवाओं के साथ संवाद स्थापित करने और उन्हें केंद्र और राज्य सरकार की योजना के जरिये जागरूकता पैदा करना शामिल है. योजना के तहत ब्लॉक, नगर निकाय, जिला और राज्य स्तर पर लड़के-लड़कियों के लिए फुटबॉल, हॉकी, एथलेटिक्स, वॉलीबॉल और अन्य खेल प्रतियोगिताओं का अलग-अलग आयोजन किया जायेगा.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें