1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. mother also gave her life 24 hours after the sons suicide

बेटे की आत्महत्या के 24 घंटे बाद मां ने भी दी जान

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
बेटे की आत्महत्या के 24 घंटे बाद मां ने भी दी जान
बेटे की आत्महत्या के 24 घंटे बाद मां ने भी दी जान
प्रतीकात्मत तस्वीर

नामकुम : थाना क्षेत्र की नामकुम बस्ती में रविवार को 10 वर्षीय बच्चे बॉबी कुमार की आत्महत्या के 24 घंटे बाद ही उसकी मां रेखा दादेल (45 वर्ष) ने भी आत्महत्या कर ली. बेटे के जाने का सदमा वह बर्दाश्त नहीं कर सकी और उसी बाथरूम में जाकर फांसी लगा ली, जहां उसके बेटे ने फांसी लगायी थी. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. इधर, मोहल्ले में आत्महत्या की दो घटनाओं से मातम का माहौल है.

रविवार को जब बॉबी ने आत्महत्या की थी, तब उसके माता-पिता अोड़िशा में थे. घटना की सूचना पाकर दोनों देर शाम रांची पहुंचे. पोस्टमार्टम के बाद परिवार ने देर रात शव का अंतिम संस्कार किया. इधर, रेखा का रो-रोकर बुरा हाल था. बेटी जीया के अनुसार, बॉबी की मौत से दुखी मां ने रात में ही कहा था : मैं भी फांसी लगा लूंगी. सोमवार सुबह 10 बजे पुलिस और आसपास के लोग घर आये थे. उन्होंने मां और पिता जी को समझाया था. साथ ही कुछ पैसे भी दिये थे.

दोपहर 12 बजे जीया दुकान से कुछ सामान लाने गयी थी. लौटी, तो देखा कि पिता जी सो रहे थे और मां कमरे में नहीं थी. उसने मां को ढूंढ़ना शुरू किया, तो देखा कि मां ने बाथरूम में दुपट्टे के सहारे फांसी लगा ली थी. शोर मचाने पर पिता और आसपास के लोग पहुंचे. शव को नीचे उतारा. इधर, पुलिस मां-बेटे की मौत को आत्महत्या मान रही है. थाना में दिये आवेदन में भी परिजनों ने किसी पर आरोप नहीं लगाया है.

जिस बाथरूम में बेटे ने जान दी थी, वहीं जाकर लगायी फांसी :

  • बॉबी की मौत की सूचना पाकर देर शाम ओड़िशा से लौटे थे माता-पिता, किया अंतिम संस्कार

  • बेटी ने बताया : बॉबी की मौत से सदमे में थी मां, रात में ही कहा था कि मैं भी फांसी लगा लूंगी

  • घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं, पुलिस और मुहल्ले के लोगों ने समझाया था, पैसे भी दिये थ

एक-एक कर बिखरता गया सेतु बाउरी का परिवार : सेतु बाउरी के घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. वह अॉटो चलाता है, लेकिन लॉकडाउन में उसके पास कोई काम नहीं है, इसलिए वह घर पर ही रहता है. सेतु और रेखा के चार बच्चे थे, जिसमें से बॉबी की मौत हो चुकी है. बड़ा बेटा 15 वर्षीय शनि कुमार अॉक्सफोर्ड स्कूल के समीप फार्म हाउस में काम करता है.

वहीं, 13 वर्षीय जीया कुमारी ने दो साल पहले दादी की मौत के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी. वह घर में ही रहती है. जबकि, सबसे छोटा पांच वर्षीय बेटा दिमागी रूप से कमजोर है. सेतु ने पुलिस को बताया कि उसने रेखा दादेल से प्रेम विवाह किया था. मां से मतभेद के कारण शनि डेढ़ साल से परिवार से अलग रह रहा है. बॉबी भी अक्सर कहता था कि मां के साथ नहीं रहेगा.

Post by : Pritish Sahay

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें