1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand tourism policy 2020 government is preparing tourism policy preparations are on to encourage investors srn

Jharkhand Tourism Policy 2020 : हेमंत सरकार तैयार कर रही है पर्यटन नीति, निवेशकों को प्रोत्साहित करने के लिए है ये तैयारी

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
झारखंड में पर्यटन पर निवेश करने पर 10 करोड़ तक सब्सिडी
झारखंड में पर्यटन पर निवेश करने पर 10 करोड़ तक सब्सिडी
सांकेतिक तस्वीर

ranchi news, jharkhand new tourism policy 2020, jharkhand government tourism policy 2020 रांची : झारखंड सरकार द्वारा तैयार की गयी ‘पर्यटन नीति-2020’ में पर्यटन में निवेश की संभावनाओं के मद्देनजर निवेशकों को प्रोत्साहित करने की तैयारी है. निवेशकों को निवेश करने पर पूंजी का 30 प्रतिशत या अधिकतम 10 करोड़ रुपये तक सब्सिडी दी जायेगी. अनुसूचित क्षेत्र में निवेशकों को अतिरिक्त पांच प्रतिशत इंसेंटिव दिया जायेगा.

इसके अलावा टूरिज्म यूनिट शुरू करने पर बिजली दरों में 30% तक की छूट दी जायेगी. निवेशकों को लोन इंटरेस्ट में 50% सब्सिडी (अधिकतम 25 लाख रुपये तक) पांच वर्षों के लिए उपलब्ध करायी जायेगी. अनुसूचित क्षेत्र में निवेशकों को लोन इंटरेस्ट में अतिरिक्त पांच प्रतिशत इंसेंटिव देने का प्रावधान किया जा रहा है.

राज्य में लगनेवाले नयी पर्यटन इकाई को अगले पांच सालों तक एसजीएसटी के भुगतान में 75% की छूट और स्टांप ड्यूटी में दो प्रतिशत की छूट दी जायेगी. राज्य के सभी रजिस्टर्ड टूरिज्म केंद्रों का पहले पांच साल तक होल्डिंग टैक्स भी माफ किया जायेगा.

10 लाख से अधिक रोजगार उपलब्ध कराने की योजना :

नयी पर्यटन नीति में राज्य के 230 से अधिक चयनित पर्यटन स्थलों के विकास के साथ 10 लाख से अधिक रोजगार के मौके उपलब्ध कराने की योजना बनायी गयी है. राज्य में क्षमता निर्माण के लिए आइएचएम, रांची द्वारा प्रत्येक वर्ष 120 छात्रों को अल्प अवधि का पर्यटन से संबंधित प्रशिक्षण दिया जायेगा. देवघर में फूड क्राफ्ट संस्थान की लांचिंग कर कमजोर वर्ग को प्राथमिकता देकर पर्यटन से संबंधित रोजगार सृजन की रूपरेखा तय की गयी है.

टूरिस्ट सिक्योरिटी फोर्स के गठन की प्रक्रिया शुरू होगी : सरकार द्वारा पर्यटकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए टूरिस्ट सिक्योरिटी फोर्स (टीएसएफ) के गठन की प्रक्रिया शुरू की जायेगी. टीएसएफ में भूतपूर्व सेवाकर्मियों को प्रशिक्षित किया जायेगा. स्थानीय युवाओं को भी टीएसएफ में जगह दी जायेगी.

इसके अलावा 24 घंटे संचालित होनेवाले टूरिस्ट हेल्पलाइन की स्थापना भी की जायेगी. राज्य में आनेवाले पर्यटकों का पूरा ब्योरा पर्यटन विभाग के सेंट्रल कंट्रोल रूम में रहेगा, ताकि जरूरत होने पर समय पर सहायता उपलब्ध करायी जा सके.

वहीं, नयी पर्यटन नीति में धार्मिक के अलावा माइनिंग पर्यटन को बढ़ावा देने की योजना तैयार की जा रही है. खनन क्षेत्र में पर्यटकों के लिए खनन कंपनियों के साथ मिल कर सुविधाएं शुरू की जायेंगी. इसके अलावा इको टूरिज्म, सांस्कृतिक टूरिज्म, शिल्प और व्यंजन टूरिज्म, एडवेंचर टूरिज्म, वीकेंड गेटवे, फिल्म टूरिज्म, मनोरंजक पार्क, कल्याण पर्यटन की कार्ययोजना पर भी काम चल रहा है.

रूरल टूरिज्म विकसित किया जायेगा : पर्यटन विभाग राज्य की ग्रामीण संस्कृति से रूबरू कराने के लिए रूरल टूरिज्म विकसित करेगा. इसके तहत संस्कृति और ग्रामीण क्षेत्रों को पर्यटन से जोड़ने के लिए गांवों को चिह्नित कर विलेज टूरिज्म कमेटी का गठन किया जायेगा. नेतरहाट के सिरसी ग्राम में विभाग होम स्टे स्कीम की शुरुआत करेगा.

टूरिज्म यूनिट शुरू करने पर बिजली की दरों में 30 प्रतिशत तक की छूट दी जायेगी

निवेशकों को लोन इंटरेस्ट में 50% सब्सिडी पांच वर्षों के लिए उपलब्ध करायी जायेगी

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें