1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand science film festival organized in lohardaga for the first time 45 films to be shown grj

Jharkhand News: झारखंड में पहली बार साइंस फिल्म फेस्टिवल का हो रहा आयोजन, दिखायी जायेंगी 45 फिल्में

झारखंड में पहली बार साइंस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है. इसमें फिक्शन, शॉर्ट फिल्म, डॉक्यूमेंट्री एवं एनिमेशन का आनंद ले सकेंगे. इसमें देशभर के नामचीन फिल्म मेकर शिरकत करेंगे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News: साइंस फिल्म फेस्टिवल
Jharkhand News: साइंस फिल्म फेस्टिवल
सोशल मीडिया

Jharkhand News: झारखंड में पहली बार साइंस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है. लोहरदगा जिले के शीला अग्रवाल सरस्वती विद्या मंदिर में 29 अप्रैल से साइंस फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत होगी और एक मई को इसका समापन होगा. तीन दिनों तक चलने वाले इस साइंस फिल्म फेस्टिवल में कुल 45 फिल्में दिखायी जायेंगी. साइंस फॉर सोसाइटी झारखंड की ओर से इसका आयोजन किया जा रहा है.

ये फिल्में देख सकेंगे

साइंस फिल्म फेस्टिवल में विभिन्न श्रेणियों में 45 फिल्में दिखायी जायेंगी. इनमें मूविंग अपस्ट्रीम: गंगा (नदी की यात्रा), यशपाल अ लाइफ इन साइंस (प्रो यशपाल की जीवनी पर आधारित), झरिया ( पद्मश्री सिमोन उरांव के जीवन पर आधारित) एवं अंकुर (मराठी फिल्म) समेत अन्य शामिल हैं. आप साइंस फिल्म फेस्टिवल में फिक्शन, शॉर्ट फिल्म, डॉक्यूमेंट्री एवं एनिमेशन का आनंद ले सकेंगे. इसमें देशभर के नामचीन फिल्मकार प्रबाल महतो, अजय टीजी, दीपक बाड़ा, श्रीप्रकाश समेत अन्य शिरकत करेंगे. यहां फिल्मकार प्रबाल महतो की फिल्म दिखाई जाएगी. वे फिल्म मेकिंग वर्कशॉप भी आयोजित करेंगे.

दिखायी जायेंगी 45 फिल्में

साइंस फिल्म फेस्टिवल के को-ऑर्डिनेटर विकास कुमार बताते हैं कि तीन दिवसीय साइंस फिल्म फेस्टिवल में कुल 45 फिल्में दिखायी जायेंगी. इस समारोह में देश के कई नामचीन फिल्म मेकर शिरकत करेंगे और लोगों से संवाद करेंगे. इस फेस्टिवल में इनकी फिल्म दिखायी जायेगी.

झारखंड में पहली बार साइंस फिल्म फेस्टिवल

साइंस फॉर सोसायटी, झारखंड के महासचिव डीएनएस आनंद बताते हैं कि झारखंड में पहली बार साइंस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन लोहरदगा में किया जा रहा है. साइंस फिल्म फेस्टिवल के आयोजन का उद्देश्य युवाओं को फिल्म के प्रति जागरूक करना है और उनमें समझ विकसित करना है, ताकि इस दिशा में काम करने के प्रति उनकी रुचि बढ़ सके.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें