1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand rajyasabha election 2020 3 candidates for 2 seats in jharkhand voting on 19 june 2020

Rajya Sabha Chunav : झारखंड में 2 सीट के लिए 3 प्रत्याशी मैदान में, दिलचस्प हुआ मुकाबला, वोटिंग 19 जून को

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Rajya sabha Chunav : (ऊपर) कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने की रणनीति बन रही है, तो (नीचे) एनडीए ने भाजपा उम्मीदवार के पक्ष में एकजुटता दिखायी.
Rajya sabha Chunav : (ऊपर) कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने की रणनीति बन रही है, तो (नीचे) एनडीए ने भाजपा उम्मीदवार के पक्ष में एकजुटता दिखायी.
Prabhat Khabar

रांची : झारखंड में राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Chunav) दिलचस्प मोड़ पर है. 2 सीटों के लिए 19 जून, 2020 को सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक मतदान होगा. मैदान में 3 प्रत्याशी हैं. आंकड़ों के खेले में झामुमो (JMM) प्रत्याशी शिबू सोरेन (Shibu Soren) और भाजपा (BJP) प्रत्याशी दीपक प्रकाश (Dipak prakash) की जीत सुनिश्चित मानी जा रही है. वहीं, एक अन्य प्रत्याशी कांग्रेस (Congress) के शहजादा अनवर (Shajada anwar) हैं, जिन्होंने मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है. आंकड़े नहीं होने के बावजूद कांग्रेस उनकी जीत पक्की बता रही है. बाकायदा इसकी रणनीति भी बना रही है.

राज्यसभा चुनाव को लेकर गुरुवार (18 जून, 2020) को झारखंड के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के आवास पर पार्टी नेताओं की बैठक हुई. बैठक में कांग्रेस के पर्यवेक्षक पीएल पूनिया समेत सभी मंत्रीगण एवं विधायक शामिल हुए. इस दौरान कांग्रेस प्रत्याशी शहजादा अनवर की जीत की रणनीतिक बनायी गयी. इससे पहले बुधवार (17 जून, 2020) को मुख्यमंत्री आवास में झामुमो, कांग्रेस और राजद विधायकों बैठक हुई, जिसमें यूपीए प्रत्याशी को जिताने की रणनीति बनायी गयी.

गुरुवार (18 जून, 2020) को भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर समेत पार्टी के अन्य नेताओं ने आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो से उनके आवास पर मिले. इस दौरान राज्यसभा चुनाव में आजसू के सहयोग देने पर बातचीत हुई. झारखंड में आजसू के 2 विधायक सुदेश महतो और लंबोदर महतो हैं. इस मुलाकात में श्री माथुर के अलावा भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह, झारखंड भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी, प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश और संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह भी उपस्थित थे. 16 जून, 2020 को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो से मिल कर राज्यसभा चुनाव की रणनीति पर चर्चा कर चुके हैं.

राज्यसभा चुनाव को लेकर पार्टी विधायकों के साथ विचार-विमर्श के इस दौर में कांग्रेस के अलावा भाजपा भी जुटी है. रांची के सरला बिरला विश्वविद्यालय परिसर में भाजपा की दो दिवसीय बैठक हुई. बैठक में एनडीए के आंकड़े और दूसरे विधायकों का समर्थन जुटाने पर चर्चा हुई. आपको बता दें कि निर्दलीय विधायक सरयू राय और अमित यादव ने भाजपा प्रत्याशी दीपक प्रकाश के पक्ष में वोट करने की बात कही है. निर्दलीय अमित यादव तो भाजपा की दो दिवसीय बैठक में भी शामिल हुए.

झारखंड विधानसभा में 81 सीटें हैं. वर्ष 2019 में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में जेएमएम ने 30 सीटें जीतीं, तो कांग्रेस ने 16 और आरजेडी को 1 सीट पर जीत मिली. दूसरी ओर, बीजेपी के 25, आजसू के 2, माले के 1, एनसीपी के 1 और 2 निर्दलीय विधायक भी जीते. जेवीएम ने तीन सीटें जीती थीं. 2 विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की कांग्रेस में चले गये, तो पार्टी सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने पार्टी का विलय भाजपा में कर दिया.

वर्तमान में सीटों की बात करें, तो अभी झारखंड विधानसभा में कुल 79 सदस्य रह गये हैं. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के दुमका सीट छोड़ देने पर झामुमो के पास 29 विधायक हैं. बेरमो से कांग्रेस विधायक राजेंद्र सिंह का निधन हो चुका है. सो कांग्रेस के पास 15 विधायक रह गये. प्रदीप यादव और बंधु तिर्की के कांग्रेस में शामिल होने पर उसकी संख्या 17 हो गयी. बाबूलाल मरांडी के भाजपा में जाने पर भाजपा की कुल संख्या 26 हो गयी. इस लिहाज से झारखंड विधानसभा में 81 की जगह 79 सदस्य रह गये हैं.

राज्यसभा चुनाव में किसी प्रत्याशी को जीत के लिए 27 वोट चाहिए. ऐसे में झामुमो के शिबू सोरेन की जीत सुनिश्चित मानी जा रही है. झामुमो के पास अपने 29 वोट हैं. इसलिए गुरुजी को किसी और दल के विधायक के समर्थन की जरूरत नहीं है. झामुमो के पास 2 अतिरिक्त वोट बच जाता है, जो जिससे वह अपनी सहयोगी पार्टी कांग्रेस के शहजादा अनवर की मदद कर सकते हैं. शहजादा को 27 वोट चाहिए, लेकिन उसके पास 17 ही विधायक हैं. झामुमो उसे दो वोट दे दो, तो उसके कुल वोटों की संख्या 19 हो जाती है.

इसके बाद कांग्रेस और यूपीए को झारखंड की राज्यसभा की दूसरी सीट जीतने के लिए 8 और विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी. माले और राजद के 1-1 मत को जोड़ दें, तो कांग्रेस की संख्या 21 हो जाती है. अब भी उसके पास 6 वोट कम रह जाते हैं. इसलिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पिछले दिनों आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो से मुलाकात की थी और कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करने की अपील की थी. हालांकि, सुदेश महतो ने स्पष्ट कर दिया है कि उनकी पार्टी का वोट एनडीए उम्मीदवार के पक्ष में ही गिरेगा.

अब अगर भाजपा की बात करें, तो विधानसभा चुनाव में पार्टी के 25 विधायक चुनाव जीते थे. झाविमो का विलय कराकर बाबूलाल मरांडी के भाजपा में आने पर यह संख्या संख्या 26 हो गयी. आजसू का 2 वोट भाजपा को मिलेगा, यह सुदेश महतो स्पष्ट कर चुके हैं. इस तरह दीपक प्रकाश को 28 मत मिल जायेंगे. निर्दलीय विधायक सरयू राय और अमित यादव भी भाजपा के पक्ष में वोट करने की बात कह चुके हैं. इस तरह उसे कुल 28 वोट मिल जायेंगे और भाजपा उम्मीदवार दीपक प्रकाश की जीत सुनिश्चित हो जायेगी.

Posted By : Sameer Ranjan

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें