1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. hemant soren to organise all party meet on coronavirus pandemic today

Coronavirus Lockdown Jharkhand : आज कोरोना का एक भी नया मामला नहीं, 341 जांच रिपोर्ट आने बाकी

By Mithilesh Jha
Updated Date
सर्वदलीय बैठक में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा गया.
सर्वदलीय बैठक में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा गया.

hemant soren all party meet in jharkhand to tackle coronavirus lockdown रांची : झारखंड (Jharkhand) में तीन दिन से कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) शुक्रवार (10 अप्रैल, 2020) को सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting) की. बैठक में उन्होंने सभी दलों के नेताओं से पूछा कि इस संकट से उबरने के लिए सरकार को क्या करना चाहिए. उन्होंने सरकार की तैयारी से भी सभी दलों के नेताओं को अवगत कराया. वह राज्य के सांसदों और विधायकों के साथ भी बैठक करेंगे. बैठक में कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा करेंगे. इस दौरान लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर भी विचार हो सकता है. संकट की इस घड़ी में सरकार एक साथ कई मोर्चे पर काम कर रही है. एक ओर लोगों को स्वस्थ रखने के लिए पूरे शहर को सैनिटाइज किया जा रहा है, तो दूसरी तरफ लोगों का हक मारने वाले जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है. लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए भी सरकार और उसके तंत्र को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है.

email
TwitterFacebookemailemail

झारखंड में आज कोरोना का एक भी नया मामला नहीं 

झारखंड में आज कोरोनावायरस का एक भी नया मामला नहीं आया है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार अबतक कुल 1681 सैंपल कलेक्ट किये गये हैं, जिनमें 1326 सैंपलों की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आयी है. वहीं 341 की जांच रिपोर्ट आनी अभी बाकी है. झारखंड में कोरोना संक्रमण के पॉजिटिव मामले कुल 14 हैं, जिसमें 7 मामले रांची के, 6 मामले बोकारो के और एक मामला हजारीबाग का है. राज्य में कोरोना संक्रमण से बोकारो में एक शख्स की मौत हो गयी है.

email
TwitterFacebookemailemail

जन वितरण प्रणाली दुकानदार पर FIR, लाभुकों को कम राशन देने का आरोप

रांची : जन वितरण प्रणाली के अंतर्गत खाद्यान्न वितरण में अनियमितता करने वाले पीडीएस दुकानदारों के खिलाफ जिला प्रशासन का सख्त रवैया जारी है. इसी क्रम में कार्डधारियों को कम राशन वितरण करने के आरोप में एक जन वितरण प्रणाली दुकानदार के खिलाफ एफआई आर दर्ज कराया गया है. रांची जिला अंतर्गत तमाड़ प्रखंड के जन वितरण प्रणाली दुकानदार भरत किशोर साहू के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया गया है. भरत किशोर साहू का लाइसेंस नंबर 18/88 है, जिन्हें जनवितरण प्रणाली के अंतर्गत ग्राम पंचायत पुंडीदीरी दुकान आवंटित किया गया था.

अंत्योदय राशन कार्ड धारियों को कम राशन दिए जाने की शिकायत की जांच प्रखंड विकास पदाधिकारी तमाड़ ने की. जांच में दुकानदार के खिलाफ शिकायत सही पायी गयी, जिसके बाद तमाड़ थाने में भरत किशोर साहू के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी. जिसका थाना कांड संख्या 14/2020 है. जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने कार्रवाई करते हुए दुकानदार को तत्काल निलंबित कर दिया है.

email
TwitterFacebookemailemail

वन विभाग झारखंड ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिये 29,07,052 रुपये 

कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए झारखंड वन विभाग के पदाधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा अपने एक दिन से लेकर तीन दिनों तक का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा कराया गया. जिसमें अभी तक 29,07,052 रुपये की राशि मुख्यमंत्री राहत कोष में डिमांड ड्राफ्ट के द्वारा जमा करा दी गयी है. साथ ही विभाग द्वारा सूचित किया गया है कि उनके पास और भी राशि जमा होगी तो उसे भी राहत कोष में दान कर दिया जायेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

समस्या उत्पन्न कर रहे असामाजिक तत्वों पर होगी कार्रवाई : हेमंत

सर्वदलीय बैठक में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखंड में कोरोना कभी भी विकराल रूप ले सकता है. उन्होंने कहा कि जो लोग रोग छुपा रहे हैं, वे मौत को दावत दे रहे हैं. ऐसे लोग जांच करवाने के लिए आगे आयें. मुख्यमंत्री ने कहा लॉकडाउन टूटने के बाद राज्य के बाहर से करीब 7 लाख लोग आयेंगे. उनकी व्यवस्था करनी होगी. सीएम ने कहा कि सभी मिलकर इस महामारी से लड़ेंगे. हेमंत ने कहा कि कुछ असामाजिक तत्व समस्या उत्पन्न कर रहे हैं, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी.

email
TwitterFacebookemailemail

तबलीगी जमात पर टिप्पणी करके फंस गये रामगढ़ के शिक्षा पदाधिकारी

कोरोना वायरस संक्रमण के बीच तबलीगी जमात के बारे में फेसबुक पर टिप्पणी करने वाले रामगढ़ के शिक्षा पदाधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. उनसे सात दिन के अंदर जवाब देने के लिए कहा गया है. उनकी टिप्पणी को संप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास माना गया है. कहा गया है कि यदि तय समय के भीतर उन्होंने जवाब नहीं दिया, तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी.

email
TwitterFacebookemailemail

कोरोना संक्रमण के संकट से निबटने के लिए सर्वदलीय बैठक

कोरोना वायरस के संक्रमण के संकट से निबटने के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलायी. बैठक में मुख्यमंत्री ने सभी दलों के नेताओं से राय मांगी कि इस संकट से किस तरह से निबटा जा सकता है. सभी दलों के नेताओं ने मुख्यमंत्री को भरोसा दिलाया कि इस संकट से राज्य को उबारने में वे उनकी मदद करेंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

जमशेदपुर के दारोगा के परिवार को अनगड़ा में किया गया क्वारेंटाइन

रांची के हिंदपीढ़ी में कोरोना वायरस से संक्रमित परिवार मछली का कारोबार करता है. अनगड़ा की एक महिला उसके यहां से मछली लेकर जाती थी अपने गांव में बेचने. अनगड़ा के इस परिवार को उसके घर में ही क्वारेंटाइन कर दिया गया है. सभी के सैंपल कोविड19 की जांच के लिए भेजे गये हैं. मछली बेचने वाली महिला का बेटा जमशेदपुर में दारोगा है.

email
TwitterFacebookemailemail

सैनिटाइज करने के बाद हो रही गैस सिलिंडर की डिलीवरी

गैस सिलिंडरों को किया जा रहा सैनिटाइज.
गैस सिलिंडरों को किया जा रहा सैनिटाइज.
गुरु स्वरूप मिश्र

झारखंड की राजधानी रांची में गैस सिलिंडर को भी सैनिटाइज करने के बाद ही ग्राहकों के घर पर उसकी डिलीवरी की जा रही है. इसका उद्देश्य यह है कि किसी भी तरह किसी भी व्यक्ति तक कोरोना का वायरस नहीं पहुंच पाये. लॉकडाउन के दौरान गैस की डिलीवरी जारी है, ताकि लोगों को दिक्कतों का सामना न करना पड़े.

email
TwitterFacebookemailemail

लॉकडाउन में कोई भूख से न मरे, मरांडी ने हेमंत को लिखा पत्र

भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को एक पत्र लिखा है. इसमें उन्होंने कहा है कि सरकार यह सुनिश्चित करे कि किसी भी गांव में लॉकडाउन के दौरान किसी भी व्यक्ति की भूख से मौत नहीं हो. मरांडी ने कुछ सलाह भी मुख्यमंत्री को दी है. उन्होंने कहा है कि चूंकि स्कूल बंद हैं, इसलिए शिक्षकों के माध्यम से एक-एक गांव में सभी गरीब परिवारों तक राशन पहुंचाने की सरकार व्यवस्था करे.

email
TwitterFacebookemailemail

महाराष्ट्र में फंसे गढ़वा के 27 मजदूरों ने सरकार से की भावुक अपील

अकोला के एक गांव में फंसे गढ़वा के मजदूर लौटना चाहते हैं अपने गांव.
अकोला के एक गांव में फंसे गढ़वा के मजदूर लौटना चाहते हैं अपने गांव.
दिनेश

महाराष्ट्र के अकोला जिला के एक गांव में झारखंड के गढ़वा जिला के 27 मजदूर फंसे हुए हैं. ये लोग घर लौटना चाहते हैं. कंस्ट्रक्शन कंपनी में काम करने के लिए वहां गये थे. लॉकडाउन की वजह से मुश्किल में हैं. इन लोगों ने हेमंत सोरेन सरकार और गढ़वा जिला प्रशासन से अपील की है कि उनके घर लौटने की व्यवस्था की जाये.

email
TwitterFacebookemailemail

हिंदपीढ़ी सील, फिर भी लग रही है भीड़

हिंदपीढ़ी को सील किये जाने के बाद ऐसा था हाल.
हिंदपीढ़ी को सील किये जाने के बाद ऐसा था हाल.

झारखंड की राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी इलाके में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के मिलने के बाद पूरे क्षेत्र को सील कर दिया गया है. बावजूद इसके, लॉकडाउन का सख्ती से पालन नहीं हो रहा है. गलियों में काफी संख्या में लोग एक साथ देखे जा रहे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

एक दर्जन पीडीएस डीलर निलंबित

कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन के दौरान लाभुकों को राशन की आपूर्ति में गड़बड़ी करने वाले एक दर्जन जनवितरण प्रणाली के दुकानदारों को प्रशासन ने निलंबित कर दिया है. प्रखंड विकास पदाधिकारी/अंचलाधिकारी/प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी की संयुक्त जांच में अनियमितता मिलने के बाद यह कार्रवाई की गयी. दुकानदारों पर कम राशन देने, अंगूठा लगवाकर राशन नहीं देने एवं एक माह का राशन देकर दो माह का इंट्री कराने के आरोप थे.

email
TwitterFacebookemailemail

मलयेशियाई महिला की दूसरी रिपोर्ट पॉजिटिव

हिंदपीढ़ी की एक मस्जिद में कोरोना वायरस पॉजिटिव मिली मलयेशियाई महिला की दूसरी रिपोर्ट आ गयी है. राज्य की पहली कोरोना संक्रमित इस विदेशी महिला की दूसरी रिपोर्ट आ गयी है. इसमें भी वह कोरोना वायरस से संक्रमित पायी गयी है.

email
TwitterFacebookemailemail

रांची : झारखंड (Jharkhand) में तीन दिन से कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) शुक्रवार (10 अप्रैल, 2020) को सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting) करेंगे. इसके बाद वह राज्य के सांसदों और विधायकों के साथ भी बैठक करेंगे. बैठक में कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा करेंगे. इस दौरान लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर भी विचार हो सकता है. संकट की इस घड़ी में सरकार एक साथ कई मोर्चे पर काम कर रही है. एक ओर लोगों को स्वस्थ रखने के लिए पूरे शहर को सैनिटाइज किया जा रहा है, तो दूसरी तरफ लोगों का हक मारने वाले जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है. लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए भी सरकार और उसके तंत्र को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें