34.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

झारखंड में एक ऐसा गांव, जहां हर घर की बेटी खेलती है फुटबॉल

खेल के क्षेत्र में जब हॉकी और फुटबॉल की बात होती है तो राष्ट्रीय नहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर झारखंड का नाम सामने आता है. यहां की बेटियों ने जहां हॉकी में पूरी दुनिया को अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है, वहीं फुटबॉल में भी अपनी प्रतिभा की छाप छोड़ी है. (रांची से दिवाकर सिंह की खास रिपोर्ट)

खेल के क्षेत्र में जब हॉकी और फुटबॉल की बात होती है तो राष्ट्रीय नहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर झारखंड का नाम सामने आता है. यहां की बेटियों ने जहां हॉकी में पूरी दुनिया को अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है, वहीं फुटबॉल में भी अपनी प्रतिभा की छाप छोड़ी है. इनकी इसी प्रतिभा के कारण भारतीय टीम में भी इन्हें जगह मिली है. फुटबॉल का क्रेज भी लगातार बढ़ रहा है. ऐसा ही फुटबॉल का क्रेज झारखंड के रांची जिले के एक गांव चारीहुजीर में है. ये झारखंड का इकलौता गांव है, जहां हर घर की एक बेटी फुटबॉल खेलती है और झारखंड से लेकर भारतीय टीम में अपनी जगह भी बना चुकी है. यहां की बेटियां को देखकर यहां के लड़के भी फुटबॉल के अभ्यास में जुट गये हैं. दस साल पहले शुरू हुआ था प्रयास : चारीहुजीर गांव के मैदान में सुबह और शाम 250 से 300 बालिका फुटबॉलर अभ्यास करती दिख जाती हैं. इसकी शुरुआत 10 साल पहले 2013 में हुई थी. फुटबॉल के कोच आनंद गोप ने बताया कि शुरुआत यहां 15 लड़कियों से हुई थी. उस दौरान जब अभ्यास के लिए ये मैदान में आती थी तो लड़के इनका मजाक उड़ाते थे. गांव के कुछ लोगों को भी आपत्ति थी कि लड़कियों हाफ पैंट पहनकर कैसे फुटबॉल खेलेंगी. इसके बाद मैंने गांव के लोगों से बात की और उन्हें इस खेल के बारे में समझाया. इसमें मुझे छह महीने लग तब जाकर गांव के लोग राजी हुए. धीरे-धीरे लड़कियां मैदान में आने लगी. इसके बाद झारखंड फुटबॉल टीम में जब चार से पांच लड़कियों का चयन हुआ. वो राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता खेल कर जब गांव लौटी तो लोग उनके और गांव के बारे में जानने लगे. इसके बाद प्रत्येक घर के लोगों ने अपनी बेटियों को फुटबॉल खेलने के लिए भेजना शुरू किया. आज यहां 250 से 300 बालिका फुटबॉल अभ्यास करती हैं. वहीं अंशु कच्छप और नेहा कुमारी के आइकॉन बनने के बाद फुटबॉल का क्रेज और भी बढ़ गया.

Also Read: ‘इंग्लैंड के लिए यह एक कठिन सीरीज…’, जानें सौरव गांगुली ने क्यों दिया ये बड़ा बयान
माताओं ने अपनी बेटियों को किया प्रोतशाहित

पहले कम लड़कियां यहां अभ्यास के लिए आती है. लेकिन अब जागरुकता बढ़ी है और माताओं ने अपनी बेटियों को आगे बढ़ाने के लिए फुटबॉल का प्रशिक्षण दिलवाना शुरू कर दिया है. अब पूरे गांव और लगभग पंचायत की सभी गांव की लड़कियां यहां अभ्यास करने आती है.

Also Read: IND vs ENG TEST: चौथे दिन इंग्लैंड की पारी समाप्त, भारत के सामने 231 रनों का लक्ष्य
गांव के 300 घरों से आती है बेटियां

हुंडुर पंचायत के अंतर्गत चारीहुजीर गांव आता है. यहां लगभग 300 घर हैं जहां की बेटियां फुटबॉल खेलने आती है. इस पंचायत की मुखिया रजनी देवी बताती हैं कि जब आनंद गोप ने यहां फुटबॉल का प्रशिक्षण लड़कियों को देना शुरू किया था, तब इसका विरोध भी हुआ था. लेकिन आज स्थिति बदल चुकी है. केवल इसी गांव से नहीं बल्कि पूरे हुंडुर पंचायत के अंतर्गत जितने भी गांव हैं वहां की लड़कियां अब फुटबॉल का प्रशिक्षण लेने आती हैं. हमें भी गर्व होता है कि यहां की अनिता कुमारी और नीतू लिंडा भारतीय महिला फुटबॉल टीम की सदस्य रह चुकी हैं और फीफा विश्व कप खेल चुकी हैं

Also Read: IND vs USA U19 WC: जानें कब और कहां मुफ्त में देख सकते हैं ये मुकाबला

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें