1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. father travels hundreds of km by bicycle to save the life of son suffering from thalassemia disease cm hemant took cognizance instructed godda dc to help smj

थैलेसीमिया बीमारी से ग्रसित बेटे की जान बचाने पिता सैकड़ों किमी साइकिल से करते हैं सफर, CM हेमंत ने लिया संज्ञान, गोड्डा डीसी को मदद करने का दिया निर्देश

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
गोड्डा में दिलीप यादव अपने बीमार बेटे को इलाज के लिए साइकिल से करते हैं सैकड़ों किलोमीटर का सफर.
गोड्डा में दिलीप यादव अपने बीमार बेटे को इलाज के लिए साइकिल से करते हैं सैकड़ों किलोमीटर का सफर.
ट्विटर

Jharkhand News (रांची) : झारखंड के गोड्डा में एक पिता अपने बेटे की जान बचाने के लिए हर महीने सैकड़ों किलोमीटर का सफर साइकिल से तय करते हैं. पिता दिलीप यादव का करीब 5 साल का बेटा विवेक थैलेसीमिया की बीमारी से जूझ रहा है. दिलीप यादव मजदूरी करते हैं. इस संबंध में सीएम हेमंत सोरेन समेत बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी से मदद की गुहार एक पत्रकार ने लगायी.

दिलीप यादव का बेटा विवेक थैलेसीमिया की बीमारी से ग्रसित है. उसे हर महीने ब्लड ग्रुप A की जरूरत पड़ती है. इसी ब्लड की व्यवस्था के लिए पिता दिलीप यादव को हर महीने 400 किलोमीटर से अधिक साइकिल से सफर करना पड़ता है. डॉक्टरों ने इस बीमारी के इलाज में करीब 10 लाख का रुपये खर्च आने की बात कही थी. लेकिन, मजदूरी कर भरण पोषण करने वाले दिलीप यादव के पास इलाज के लिए इतने पैसे नहीं थे. इसी कारण हर महीने अपने गांव से 400 किलोमीटर की दूरी तय कर बेटे को खून चढ़ाने दिलीप साइकिल से ले जाते हैं.

इधर, दिलीप यादव के बेटे विवेक की ऐसी स्थिति की जानकारी पत्रकार सोहन सिंह ने सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए सीएम हेमंत सोरेन और बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी को ट्वीट कर मदद की अपील की. मदद की गुहार पर सीएम हेमंत सोरेन और बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी दोनों ने पहल शुरू कर दी है.

सीएम हेमंत सोरेन ने मामले को संज्ञान में लेते हुए थैलेसीमिया रोग से पीड़ित विवेक को ‘मुख्यमंत्री गंभीर रोग उपचार योजना’ के तहत मदद पहुंचाने का निर्देश गोड्डा डीसी को दिया है. साथ ही मदद की जानकारी उन्हें देने की बातें भी कही है.

वहीं, बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी ने बाल अधिकार संरक्षण आयोग और बाल विकास विभाग को ट्वीट कर पीड़ित विवेक की मदद करने का आग्रह किया है. कुणाल षाड़ंगी के इस आग्रह पर बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने इसे संज्ञान में लेकर हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें