22.1 C
Ranchi
Thursday, February 22, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeराज्यझारखण्डनेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी का बड़ा बयान- केंद्र में कांग्रेस रहती, तो हेमंत इतने दिनों तक नहीं रहते सीएम

नेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी का बड़ा बयान- केंद्र में कांग्रेस रहती, तो हेमंत इतने दिनों तक नहीं रहते सीएम

अमर बाउरी ने कहा कि शिबू सोरेन को पहली बार भाजपा ने ही राज्यसभा भेजा था. एक आदिवासी महिला को देश के सर्वोच्च पद पर बैठने का भाजपा ने ही किया.

रांची: विधानसभा के विशेष सत्र में विश्वास मत के विरोध में नेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी ने कहा कि कांग्रेस का आदिवासी प्रेम केवल ढोंग है. उसने मधु कोड़ा को मुख्यमंत्री बना कर जेल भेजवाया. शिबू सोरेन को भी जेल कांग्रेस ने ही भेजवाया. कांग्रेस नहीं चाहती है कि आदिवासी, दलित और पिछड़ों का विकास हो. अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार होती, तो हेमंत सोरेन इतने दिनों तक मुख्यमंत्री नहीं रहते.

अमर बाउरी ने कहा कि शिबू सोरेन को पहली बार भाजपा ने ही राज्यसभा भेजा था. एक आदिवासी महिला को देश के सर्वोच्च पद पर बैठने का भाजपा ने ही किया. उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन सरकार भ्रष्टाचार के संगीन आरोपों की वजह से गयी. चार वर्ष में तत्कालीन मुख्यमंत्री को इस्तीफा देना पड़ा. यहां वंशवाद व परिवारवाद ने घुन लगा दिया था. पहली बार सोरेन परिवार के बाहर के व्यक्ति चंपाई सोरेन को मुख्यमंत्री बनने का अवसर मिला. उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन आदिवासी लीडर हो सकते हैं. आदिवासियों, दलितों व पिछड़े के नेता नहीं हो सकते हैं. इन्होंने अपनी करनी से ऐसी स्थिति उत्पन्न की है. अगर हेमंत सोरेन सही हैं, तो अपनी बात कोर्ट में रखें. गलत नैरेटिव सेट करने की कोशिश नहीं करें.

Also Read: हेमंत सोरेन जी, भाजपा की वजह से ही 4 साल चल पाई आपकी सरकार, विधानसभा में बोले अमर बाउरी

राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान सत्ता पक्ष के विधायकों की ओर से किये जा रहे विरोध पर श्री बाउरी ने कहा : सरकार के पहले कदम से साफ हो गया है कि उसकी मंशा क्या है? राज्यपाल सरकार का लिखा हुआ अभिभाषण पढ़ रहे थे. सरकार की ओर से लिख कर दिये गये उपलब्धियों को बता रहे थे, लेकिन सत्ता पक्ष की हूटिंग से जाहिर होता है कि सरकार को अपने काम पर भी विश्वास नहीं है. यही नहीं सत्ता पक्ष के विधायकों पर भी सरकार को विश्वास नहीं है. यहीं वजह है कि इन्हें हैदराबाद ले जाया गया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में विभिन्न राज्यों में करीब 90 बार से अधिक राष्ट्रपति शासन लगा. इंदिरा गांधी के कार्यकाल में सबसे अधिक 50 बार राष्ट्रपति शासन लगा. वहीं, मोदी सरकार आने के बाद कहीं भी राष्ट्रपति शासन नहीं लगा.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें