30.5 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Ranchi Lok Sabha: रांची लोकसभा के सबसे अंतिम बूथ पर 85 फीसदी मतदान

Ranchi Lok Sabha: रांची लोकसभा के सबसे अंतिम बूथ पर, जहां न सड़क है, न शुद्ध पेयजल की व्यवस्था. वैसे गांव में 85 फीसदी लोगों ने मतदान किया.

Ranchi Lok Sabha|रांची, मनोज सिंह : रांची लोकसभा के ओरमांझी प्रखंड के उत्तर दिशा में स्थित जावाबेड़ा गांव में बना बूथ रांची लोकसभा क्षेत्र का अंतिम बूथ है. इसके बाद हजारीबाग लोकसभा क्षेत्र पड़ता है. बुनियादी सुविधाओं से वंचित इस गांव में कुल 449 वोटर हैं. इसमें से 386 लोगों ने मतदान किया.

Ranchi Lok Sabha: गांव तक जाने वाली सड़क जर्जर, पेयजल नहीं

पहाड़ों के बीच स्थित गांव के राजकीयकृत उत्क्रमित मध्य विद्यालय में बूथ बना है. ओरमांझी से कुच्चू जाने के क्रम में 7-8 किलोमीटर उत्तर दिशा में यह गांव बसा है. गांव तक जानेवाली सड़क जर्जर है. शुद्ध पेयजल की भी व्यवस्था नहीं है.

इलाज के लिए जाना पड़ता है 10 किलोमीटर दूर

गांव में स्वास्थ्य केंद्र भी नहीं है. इलाज के लिए लोगों को 10 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है. बेरोजगारी के कारण लोग रोजगार की तलाश में शहरों की ओर जाते हैं. शनिवार को इस गांव में लोकतंत्र के महापर्व लोकसभा चुनाव का उत्साह देखते ही बना.

हर दिन समस्या से जूझने वालों के चेहरे पर नहीं दिखी शिकन

रोज समस्याओं से जूझनेवाले लोग के चेहरे पर परेशानियों को लेकर कोई शिकन नहीं दिख रही थी. मतदानकर्मियों का उन्होंने दिल खोल कर स्वागत किया. उनके रहने और खाने-पीने में कोई दिक्कत नहीं हो, इसका ख्याल रखा जा रहा था.

ग्रामीणों ने की मतदानकर्मियों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था

गांव में कोई होटल व दुकान नहीं होने के कारण ग्रामीणों ने ही उनके खाने-पीने की व्यवस्था की. नाश्ता से लेकर चाय तक की उत्तम व्यवस्था थी. गांव के आसपास में कई टोला बसे हैं. हर टोले के लोग यथासंभव सहयोग कर रहे थे. हर वर्ग के लोगों में चुनाव को लेकर काफी उत्साह था. सुबह से ही कतारबद्ध हो लोग मतदान के लिए अपनी बारी का इंतजार करते दिखे.

रांची के सुदूर गांव में 86 फीसदी लोगों ने अपने वोट डाले

यही कारण है कि एक ओर शहरों में 60 से 62 फीसदी तक मत पड़े. वहीं, इस सुदूर गांव में 86 फीसदी लोगों ने मताधिकार का प्रयोग किया. कुछ लोग गांव में नहीं थे, इस कारण मतदान नहीं कर सके. वर्ना 386 से अधिक वोट पड़ जाते.

प्रचार करने गए भाजपा नेता से ग्रामीणों ने की थी सड़क की मांग

यह गांव पूर्व सांसद रामटहल चौधरी के पैतृक गांव कुच्चू से करीब सात किलोमीटर दूर है. वहीं कुच्चू में ही राज्यसभा के वर्तमान सांसद आदित्य साहू का भी घर है. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता वहां प्रचार करने के लिए भी गये थे. गांव वालों ने उनसे सड़क की मांग भी की थी.

पूर्व पारा टीचर रानी मांझी ने कहा- 20 साल पहले बनी थी सड़क

गांव की पूर्व पारा शिक्षिका मुन्नी रानी मांझी कहती है कि 30 साल पहले शादी कर जब गांव आयी थी. उस समय रास्ते की जगह पगडंडियां थी. बाद में गांव के लोगों ने ही श्रमदान कर कच्चा रास्ता बनाया. पहाड़ को काट कर चलने के लायक रास्ता बनाया . बाद में रामगढ़ जिले से एक रास्ता जोड़ा गया. 20 साल पहले सड़क बनायी गयी थी.

पत्थर ढोनेवाले हाइवा की वजह से जर्जर हो गई गांव की सड़क

रास्ता बनने के बाद इधर से पत्थर ढोनेवाला हाइवा चलने लगे. इस कारण सड़क जर्जर हो गयी. युवक मंजय बेदिया का कहते हैं कि इलाज कराने के लिए लोगों को 10 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है. अगर कोई बीमार पड़ जाये, तो सड़क पर ही दम तोड़ देगा. इसके बावजूद मतदान को लेकर उत्साह में कमी नहीं है.

इसे भी पढ़ें

Lok Sabha Election 2024 Phase six Voting PHOTOS: रांची, धनबाद में लोकतंत्र के महापर्व का उत्साह चरम पर, सुबह से ही लाइन में लगे लोग

घोर नक्सल प्रभावित इलाके में वोट देने के लिए उमड़ी मतदाताओं की भीड़, देखें PHOTOS

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें