रांची : बैंक ऑफ बड़ौदा, देना बैंक और विजया बैंक हुए एक

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
रांची : बैंक ऑफ बड़ौदा, देना बैंक और विजया बैंक ने सोमवार से एकीकृत होकर काम करना शुरू कर दिया है. तीनों बैंकों के एकीकरण के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा भारत के सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक बन गया है.
अब देश भर में बैंक ऑफ बड़ौदा की 9500 से अधिक शाखाएं, 13400 से अधिक एटीएम और 85000 से अधिक कर्मचारी होंगे. जो 120 मिलियन से अधिक ग्राहकों को सेवा प्रदान करेंगे. बैंक के पास 15 लाख करोड़ से अधिक का कारोबार होगा. झारखंड में तीनों बैंकों के मिलने से 135 शाखाएं हो जायेंगी. जिनमें बैंक ऑफ बड़ौदा की 94, विजया बैंक की 16 और देना बैंक की 22 शाखाएं होंगी.
इसके अलावा 194 एटीएम हो जायेंगे. बैंक ऑफ बड़ौदा के 162, विजया बैंक के 15 और देना बैंक के 17 एटीएम शामिल है. यह जानकारी जमशेदपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय प्रमुख राकेश मानिक ने सोमवार को मेन रोड स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में आयोजित प्रेसवार्ता में दी. उन्होंने बताया कि तीनों बैंकों के मिलने से झारखंड में बैंक का कारोबार 8707.62 लाख करोड़ रुपये का हो जायेगा.
ग्राहकों को परेशानी न हो, इसलिए पूर्व की भांति जारी रहेगी सेवा
उप महाप्रबंधक ने बताया कि तीनों बैंकों के ग्राहकों को कोई परेशानी नहीं हो, इसके लिए पूर्व की भांति ग्राहक सेवा जारी रहेगी. तीनों बैंकों के आइटी सिस्टम को एक प्लेटफाॅर्म पर लाने में अभी समय लगेगा.
इस प्रक्रिया में छह माह का समय लग सकता है. तब तक वर्तमान खाता संख्या, चेक बुक और पासबुक स्वीकृत किये जायेंगे. आइएफएससी कोड भी वही रहेगा. ग्राहकों को परेशान होने की जरूरत नहीं है. सभी तरह के लेनदेन ग्राहक कर सकेंगे. आरटीजीएस पर कोई चार्ज नहीं लगेगा. एटीएम और चेकबुक भी वही रहेगा. चेक बुक समाप्त होने के बाद नया चेकबुक जारी किया जायेगा. अभी नये एटीएम कार्ड और क्रेडिट कार्ड जारी नहीं किये जायेंगे.
छह माह तक ग्राहक अपनी शाखा में रुपये का लेनदेन करेंगे. ग्राहकों को किसी भी प्रकार की समस्या हो, वो तुरंत नजदीकी शाखा से संपर्क करें. मौके पर बीओबी रांची शाखा के मुख्य प्रबंधक सुखेश्वर कुमार, देना बैंक के मुख्य प्रबंधक अमित कुमार और विजया बैंक के मुख्य प्रबंधक मनीष कुमार सहित अन्य उपस्थित थे.
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें