40.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

प्रधानमंत्री के 75 मिनट के साहेबगंज दौरे पर झारखंड सरकार ने खर्च कर दिये 9 करोड़, यानी प्रति सेकेंड 20,000 रुपये

साहेबगंज/रांची : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 1 घंटे 15 मिनट की साहेबगंज यात्रा पर झारखंड सरकार ने 9 करोड़ रुपये खर्च कर दिये. इसका बिल भी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमअो) को भेज दिया गया. जवाब में पीएमअो ने राज्य सरकार से खर्च की आॅडिट रिपोर्ट मांगी है. राज्य सरकार की ओर से जो बिल भेजा गया […]

साहेबगंज/रांची : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 1 घंटे 15 मिनट की साहेबगंज यात्रा पर झारखंड सरकार ने 9 करोड़ रुपये खर्च कर दिये. इसका बिल भी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमअो) को भेज दिया गया. जवाब में पीएमअो ने राज्य सरकार से खर्च की आॅडिट रिपोर्ट मांगी है.

राज्य सरकार की ओर से जो बिल भेजा गया है, उसमें 44 लाख रुपये का खर्च भोजन की व्यवस्था पर दिखाया गया है. बताया गया है कि प्रधानमंत्री के आगमन से पूर्व जिला प्रशासन ने मुख्य सचिव के निर्देश पर शहर को खूबसूरत रूप देने का पूरा प्रयास किया था. कई सड़काें को चमकाया गया. कई हेलीपैड बनाये गये. अतिथियों के लिए ठहरने, खाने-पीने व वाहन की व्यवस्था की गयी थी.

साहेबगंज में पीएम मोदी का एलान गंगा के सहारे लायेंगे आर्थिक क्रांति

दरअसल, छह अप्रैल को प्रधानमंत्री साहेबगंज में गंगा नदी पर मल्टी-मोडल टर्मिनल का शिलान्यास करने के लिए झारखंड आये थे. प्रधानमंत्री की आव-भगत, शहर की खूबसूरती बढ़ाने के लिए की गयी साज-सज्जा के साथ-साथ सुरक्षा पर जिला प्रशासन ने 9 करोड़ रुपये खर्च करने का दावा किया. इस खर्च की गणना सेकेंड में करें, तो पीएम के झारखंड में रहने का एक सेकेंड का खर्च 20,000 रुपये पड़ा.

इसका बिल भी प्रधानमंत्री कार्यालय को भेज दिया गया. बताया जाता है कि जो बिल पीएमअो को भेजा गया है, उसमें अतिथियों के भोजन के एक प्लेट की कीमत 1,100 रुपये थी. बिल में शामिल खर्च से पीएमअो नाराज हो गया. पीएमअो ने राज्य सरकार से खर्च की ऑडिट रिपोर्ट मांगी.

पीएम आज साहेबगंज में, 4000 करोड़ की योजनाएं होंगी शुरू

पीएमअो का पत्र मिलने के बाद राज्य सरकार ने साहेबगंज जिला प्रशासन को पत्र लिख कर उसकी आॅडिट रिपोर्ट मांगी. राज्य सरकार की ओर से ऑडिट रिपोर्ट मांगे जाने पर शनिवार को डीसी डॉ शैलेश कुमार चौरसिया ने अपर समाहर्ता अनमोल कुमार सिंह व डीपीआरओ प्रभात शंकर के साथ गोपनीय बैठक की.

बैठक में खर्च की ऑडिट रिपोर्ट तैयार कराने पर चर्चा हुई. सूत्रों के अनुसार, ऑडिट में गैर-सरकारी सड़कों के निर्माण व सौंदर्यीकरण पर सवाल उठ सकते हैं. भोजन में 1100 रुपये के प्लेट पर भी सवाल उठ सकते हैं.

प्रधानमंत्री साहेबगंज दौरा : सड़क व रेल मार्ग की तुलना में वाटर -वे के ये हैं फायदे

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि पीएम ने 6 अप्रैल को साहेबगंज से करीब 4,000 करोड़ रुपये की योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन किया था. प्रधानमंत्री ने साहेबगंज में गंगा पुल और मल्टी मोडल हब का शिलान्यास, गोविंदपुर-जामताड़ा-दुमका-बरहेट-साहेबगंज पथ का उद्घाटन किया. 311 किलोमीटर लंबी यह सड़क 1368 करोड़ की लागत से बनी है. प्रधानमंत्री ने साहेबगंज व्यवहार न्यायालय में 90 किलोवाट व सदर अस्पताल में 70 किलोवाट के सोलर पावर प्लांट का भी उदघाटन किया.

साहेबगंज में 34 करोड़ की लागत से बननेवाले 50 हजार लीटर क्षमता के डेयरी प्लांट का भी पीएम ने शिलान्यास किया था. इतना ही नहीं, उन्होंने सखी मंडलों को स्मार्ट फोन के साथ-साथ आदिम जनजाति बटालियन के जवानों को नियुक्ति पत्र भी दिया था.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें