1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jamshedpur
  5. jharkhand government school trending on social media beauty gardening study bengal people praising grj

झारखंड का ये सरकारी स्कूल सोशल मीडिया पर क्यों कर रहा है ट्रेंड, बंगाल के लोग भी कर रहे हैं जमकर तारीफ

झारखंड और पश्चिम बंगाल की सीमा पर स्थित चांदुआ मध्य विद्यालय इन दिनों सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है. स्कूल की साफ-सफाई, खूबसूरती एवं विद्यालय परिसर के बाग-बगीचे लोगों को काफी आकर्षित कर रहे हैं. पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल के लोग भी इसकी तारीफ कर रहे हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News: चांदुआ मध्य विद्यालय
Jharkhand News: चांदुआ मध्य विद्यालय
प्रभात खबर

Jharkhand News: झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के घाटशिला अनुमंडल के चाकुलिया प्रखंड की बिरदोह पंचायत स्थित चांदुआ मध्य विद्यालय इन दिनों सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है. स्कूल की साफ-सफाई, खूबसूरती एवं विद्यालय परिसर के बाग-बगीचे लोगों को काफी आकर्षित कर रहे हैं. चांदुआ मध्य विद्यालय झारखंड और पश्चिम बंगाल की सीमा पर स्थित है. इस स्कूल की खूबसूरती की सराहना न सिर्फ झारखंड, बल्कि पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल के लोग भी कर रहे हैं.

कोरोना काल में स्कूल को सजाया-संवारा

चांदुआ मध्य विद्यालय के प्रधानाचार्य धीरेंद्र नाथ बास्के ने विद्यालय को खूबसूरती दी है. उन्होंने बताया कि स्कूल के बच्चों को बेहतर माहौल देने एवं बच्चों को आकर्षित करने के लिए विद्यालय को खूबसूरत बनाया गया है. इसका असर भी देखने को मिल रहा है. स्कूल में बच्चों की संख्या भी बढ़ रही है. कोरोना काल के दौरान स्कूल बंद हो गये थे. उस दौरान विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्य, विद्यालय के प्रधानाचार्य, शिक्षक बीआरपी एवं सीआरपी के साथ मिलकर इस स्कूल को सजाना संवारना शुरू किया. इसका असर कोरोना के बाद जब स्कूल खुला तो देखने को मिला.

चांदुआ मध्य विद्यालय
चांदुआ मध्य विद्यालय
प्रभात खबर

खूबसूरती के साथ पढ़ाई भी बेहतर

स्कूल की साफ-सफाई एवं खूबसूरती से आकर्षित होकर अभिभावक और बच्चे स्कूल पहुंचने के लिए आतुर होने लगे. प्रधानाचार्य धीरेंद्र नाथ बास्के ने बताया कि विद्यालय में फिलहाल 198 विद्यार्थी पढ़ाई कर रहे हैं. लगभग चार-पांच वर्ष के अथक परिश्रम के बाद विद्यालय को इस स्थान पर पहुंचाया जा सका है. बिरदोह पंचायत के मुखिया का भी काफी सहयोग मिला है. उन्होंने बताया कि बच्चों की पढ़ाई में भी काफी सुधार देखने को मिला है. पिछले वर्ष विद्यालय के 4 बच्चों का चयन नवोदय विद्यालय में हुआ था. इस वर्ष भी 2 बच्चों का चयन एकलव्य विद्यालय में हुआ है.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें