1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. jharkhand crime news divyang jayaram slit by throat in gumla in land dispute missing for 2 days smj

Jharkhand Crime News : जमीन विवाद में गुमला में दिव्यांग जयराम की गला रेतकर हत्या, दो दिन से था गायब

गुमला के सिसई थाना क्षेत्र में दिव्यांग जयराम उरांव की गला रेतकर हत्या कर दी गयी. पुलिस जमीन विवाद में हत्या होने की आशंका जता रही है. इस मामले को लेकर 4 लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
गुमला के सिसई में दिव्यांग की मौत मामले की जांच करती पुलिस.
गुमला के सिसई में दिव्यांग की मौत मामले की जांच करती पुलिस.
प्रभात खबर.

Jharkhand Crime News (गुमला) : गुमला जिला अतर्गत सिसई थाना क्षेत्र के सियांग नदीटोली निवासी 55 वर्षीय जयराम उरांव की अज्ञात अपराधियों ने गला रेतकर हत्या कर दी. वह एक पैर से दिव्यांग था. मृतक सियांग गांव करमा बासी पर्व मनाने गया था. दो दिनों से लापता था. रविवार को सियांग गांव के खेत में जयराम का शव मिला. पुलिस ने शव बरामद कर पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया. परिवार के लोगों ने जमीन विवाद में जयराम की हत्या होने की आशंका व्यक्त की है. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.

पूछताछ के लिए 4 लोग हिरासत में

जयराम उरांव शुक्रवार को सियांग गांव करमा बासी पर्व मनाने गया था. जिसके बाद से वह गायब था. परिजन उसकी तलाश कर रहे थे. रविवार की सुबह ग्रामीणों ने खेत में शव को देखा. इसके बाद इसकी सूचना सिसई पुलिस को दी गयी. SDPO मनीष चंद्र लाल एवं थाना प्रभारी अभिनव कुमार घटनास्थल पहुंचे और शव को कब्जे में लिया. थानेदार अभिनव कुमार ने बताया कि 55 वर्षीय जयराम उरांव की गला रेत कर हत्या की गयी है.

मृतक की हत्या किसी दूसरे स्थान पर कर शव छुपाने की नियत से गांव के बाहर खेत में शव को फेंका गया है. शव को देखने से लगता है कि दो से तीन दिन पूर्व ही इसकी हत्या की गयी है. अनुसंधान में मामला जमीन विवाद का लग रहा है. पुलिस सभी पहलुओं पर जांच कर रही है. संदेह के आधार पर 4 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.

मृतक एक पैर से दिव्यांग था

मृतक के भतीजा धर्मवीर उरांव ने सिसई थाना में अज्ञात लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराया है. उन्होंने कहा कि शुक्रवार की सुबह 10 बजे चाचा जयराम उरांव सियांग बस्ती करमा बासी मनाने गया था. शाम तक घर नहीं लौटने पर हमलोग सियांग गांव खोजने के लिए गये, लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला. मेरा चाचा एक पैर से विकलांग थे और उस गांव के कुछ लोगों से पुस्तैनी 22 एकड़ जमीन को लेकर वर्षों से विवाद था. अक्सर जान मारने की धमकी दिया जाता था. जयराम उरांव कभी कभार शराब का सेवन भी करते थे.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें