1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. fishing in idle coal mines increase income gumlas daughter payoja giving presentation smj

बेकार पड़े कोयला खदानों में मत्स्य पालन से बढ़ेगी आय, गुमला की पायोजा ने प्रजेंटेशन देकर बटोरी सुर्खियां

बेकार पड़े कोयला खदानों में मत्स्य पालन को बढ़ावा देकर कोल पिट्स के आसपास के लोगों की आमदनी में बढ़ोतरी होगी. इसी को ध्यान में रखकर गुमला की बेटी पायोजा मोहंती ने पश्चिम बंगाल के एक कार्यक्रम में अपनी प्रजेंटेशन देकर सराहना बटोरी है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news: बेकार पड़े कोयला खदानों में मत्स्य पालन को लेकर पायोजा मोहंती ने दी प्रस्तुति.
Jharkhand news: बेकार पड़े कोयला खदानों में मत्स्य पालन को लेकर पायोजा मोहंती ने दी प्रस्तुति.
प्रभात खबर.

Jharkhand news: मात्स्यिकी विज्ञान महाविद्यालय, गुमला (College of Fisheries Science, Gumla) की द्वितीय वर्ष की छात्रा पायोजा मोहंती ने झारखंड में बेकार पड़े कोयला खदानों में केज में मछली पालन करने का प्रारूप (पोस्टर) तैयार की है. पायोजा मोहंती के इस प्रारूप की राष्ट्रीय स्तर पर सराहना मिली है.

गुमला की बेटी पायोजा की हुई तारीफ

गत 22 से 24 मार्च, 2022 तक प्रोफेशनल फिशरीज ग्रेजुएट फोरम एवं केंद्रीय अंतर स्थलीय अनुसंधान संस्थान बैरकपुर, पश्चिम बंगाल में एक कॉन्फ्रेंस हुआ था. जिसमें पायोजा मोहंती ने बेकार पड़े कोयला खदानों में केज में मछली पालन करने का प्रारूप की प्रस्तुति दी. कॉन्फ्रेंस में पायोजा मोहंती की इस प्रस्तुति की काफी तारीफ की गयी. मात्स्यिकी विज्ञान महाविद्यालय, गुमला के एसोसिएट डीन डॉ एके सिंह एवं प्राध्यापक प्रशांत जाना के मार्गदर्शन में पायोजा मोहंती ने असंभव कार्य को प्रारूप के माध्यम से संभव कर दिखाया है.

कोयला खदानों में केज में मछली का पालन हो

कॉलेज के डीन डॉ एके सिंह ने बताया कि बैरकपुर में आयोजित तीन दिवसीय कॉन्फ्रेंस मुख्यत: वर्ष 2030 तक मात्स्यिकी के क्षेत्र में निरंतरता को प्राप्त करने में सहायक प्रोटोकॉल पर था. पायोजा मोहंती की इस प्रस्तुति की उप महानिदेशक (मात्स्यिकी) आईसीएआर डॉ जे जाना तथा अन्य विशेषज्ञों ने इस सुझाव की सराहना करते हुए कहा कि यह कोल पिट्स के आसपास के समुदायों के आजीविका को लाभान्वित कर सकता है. यदि कोल पिट्स के आसपास के क्षेत्रों के लोग बेकार पड़े कोयला खदानों में केज में मछली का पालन करेंगे, तो न केवल वह क्षेत्र मछली उत्पादन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होगा, बल्कि मछली पालन करने वाले लोग आर्थिक रूप से उन्नति भी करेंगे.

कॉलेज प्रशासन ने पायोजा को दी बधाई

पायोजा मोहंती की इस उपलब्धि पर कॉलेज के एसोसिएट डीन डॉ एके सिंह, प्राध्यापक प्रशांत जाना, डॉ जगपाल, ओमप्रवेश कुमार रवि, श्वेता कुमारी, हरिओम वर्मा, डॉ जयराज पी, गुलशन कुमार, डॉ ताशोक लिया, ज्ञानदीप गुप्ता, केएस विस्डम, डॉ विरेंद्र कुमार, संजयनाथ पाठक आदि ने पायोजा मोहंती को बधाई दिया है.

रिपोर्ट : जगरनाथ पासवान, गुमला.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें