1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. dhanbad
  5. wife goes to jail in husband murder case in rajaranj family refuses to keep destitute children without father sam

राजगंज में पति की हत्या मामले में पत्नी गयी जेल, पिता के बिना बेसहारा बच्चों को रखने से परिजनों ने किया इनकार

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : मृतक चंद्रकांत टुडू एवं जेल गयी मालती देवी के तीनों नाबालिग बच्चे.
Jharkhand news : मृतक चंद्रकांत टुडू एवं जेल गयी मालती देवी के तीनों नाबालिग बच्चे.
प्रभात खबर.

Jharkhand news, Dhanbad news : राजगंज (सुबोध चौरसिया) : धनबाद जिला अंतर्गत राजगंज के दलदली निवासी चंद्रकांत टुडू हत्या मामले में पत्नी मालती देवी को जेल भेजे जाने के बाद उसके तीनों नाबालिग बच्चों आज बेसहारा हो गये हैं. सर से पिता का साया उठा. मां जेल में हैं और दोनों चाचा इन बच्चों को अपने साथ रखने से साफ इनकार कर दिया है. इसी कारण तीनों बच्चों को रविवार की रात राजगंज थाना में बितानी पड़ी. सोमवार को राजगंज पुलिस को मालती के पुत्र निलेश, प्रशांत और पुत्री प्रतिभा को सुरक्षित हाथों में सौंपने एवं वापस घर भेजने को लेकर काफी मशक्कत करनी पड़ी. अपने भाई चंद्रकांत की हत्या में पत्नी मालती देवी का हाथ होने की बात सामने आने के बाद बड़े भाई अनिल टुडू एवं विनोद टुडू ने बच्चों को अपनाने से साफ इनकार कर दिया है.

दोनों बड़े भाई काफी नाराज बताये जाते हैं. उनकी नाराजगी पुलिस के लिए सिरदर्द बन गयी है. काफी सोच-विचार के बाद पुलिस ने झामुमो के प्रखंड अध्यक्ष रतिलाल टुडू और धावाचिता के मनसा राम मुर्मू की देखरेख में बच्चों को दलदली स्थित उनके दादा के घर भिजवाया. यहां तीनों बच्चे अकेले हैं.

राजगंज पुलिस, झामुमो नेता तथा अन्य लोगों ने चंद्रकांत टुडू के बड़े भाई अनिल टुडू से बात की. उन्हें समझाया, लेकिन अनिल ने बच्चों की जिम्मेदारी लेने से साफ इनकार कर दिया. हालांकि, उसने कहा कि बच्चे तो अपने ही हैं. उसने बच्चों के रहने और राशन आदि का इंतजाम अपने स्तर से करने की बात कही. राजगंज पुलिस ने गांव वालों से भी बच्चों की देखभाल करने की अपील की है.

सामाजिक स्तर पर पहल की कवायद

राजगंज थाना के प्रभारी थानेदार राजेंद्र चौधरी ने बताया कि सोमवार को उन्होंने स्वयं रतिलाल टुडू एवं मनसा राम मुर्मू की सहमति से बच्चों को उनके घर दलदली पहुंचाया. चंद्रकांत के बड़े भाई अनिल टुडू ने राशन-पानी की व्यवस्था का जिम्मा लिया है. गांव वालों को भी बच्चों की देखभाल करने की बात कही गयी है. मृतक के बड़े भाई अनिल टुडू सोनोत संताल समाज के केंद्रीय सचिव भी हैं.

अनिल ने कहा कि बच्चे फिलहाल अपने घर पर हैं. इनलोगों के सुरक्षित भविष्य के लिए जल्द ही पारिवारिक एवं सामाजिक स्तर पर बैठक कर आवश्यक निर्णय लिया जायेगा. निर्णय चाहे जो हो, इन अनाथ बच्चों के सामने उनका जीवन अंधकारमय नजर आ रहा है, क्योंकि जो जुर्म उनलोगों ने नहीं किया, उसकी सजा उनके अपने उन्हें दे रहे हैं.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें