1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. deogarh
  5. deoghar rope accident 46 lives saved in 46 hours cm hemant soren said action taken against culprits soon smj

देवघर रोपव हादसा : 46 घंटे में 46 लोगों की बची जान, CM हेमंत सोरेन बोले- दोषियों पर जल्द होगी कार्रवाई

देवघर रोपवे हादसे में 46 घंटे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान ट्रॉली में फंसे 46 लोगों को सुरक्षित निकाला गया, वहीं तीन लोगों की मौत इस हादसे में हुई. इस हादसे पर सीएम हेमंत सोरेन ने दुख प्रकट करते हुए उच्चस्तरीय जांच और दोषियों पर कार्रवाई की बात कही है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news: बरहेट में सीएम हेमंत सोरेन ने देवघर रोपवे हादसे में दोषियों पर कार्रवाई की कही बात.
Jharkhand news: बरहेट में सीएम हेमंत सोरेन ने देवघर रोपवे हादसे में दोषियों पर कार्रवाई की कही बात.
ट्विटर.

Deoghar Ropeway Accident: देवघर स्थित त्रिकुट रोपवे हादसे का रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया. 46 घंटे तक चले इस रेस्क्यू ऑपरेशन में 46 लोगों की जान बचायी गयी. वहीं, तीन लाेगों की मौत इस हादसे में हुई. इस मामले को सीएम हेमंत सोरेन ने गंभीरता से लेते हुए उच्च स्तरीय जांच कराने और दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की बात कही. साथ ही हताहत होने वाले लोगों की मदद के लिए जल्द ही निर्णय लेने की बात भी कही है.

हताहतों की मदद के लिए जल्द होगा निर्णय

बरहेट विधानसभा के पतना में सीएम श्री सोरेन ने कहा कि त्रिकूट पहाड़ हादसे का रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा हो चुका है. दुर्भाग्य से इस हादसे में हमने कुछ लोगों को खो दिया. वहीं, अपनी जान जोखिम में डाल कर लोगों की मदद करने वाले एयरफोर्स, आर्मी, NDRF और ITBP के जवानों तथा प्रशासन को बधाई दी है. साथ ही शीघ्र ही मामले की उच्चस्तरीय जांच करा कर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने और इस हादसे में मृतक के परिजन और घायल लोगों की मदद के लिए जल्द निर्णय लेने की बात कही है.

46 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

10 अप्रैल की शाम करीब 4 बजे हुए हादसे के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ. जिला प्रशासन समेत स्थानीय लोगों के सहयोग से रेस्क्यू शुरू हुआ. इसके बाद NDRF की टीम ने मोर्चा संभाला. राज्य सरकार की पहल पर केंद्र सरकार ने इस हादसे को गंभरीता से लेते हुए भारतीय वायुसेना और अर्द्धसैनिक बलों को बचाव कार्य में लगाया. 11 अप्रैल की सुबह से दो हेलीकाॅप्टर और गरुड़ कमांडों ने भी मोर्चा संभाला. 11 अप्रैल को दिन भर चले रेस्क्यू ऑपेरशन में ट्रॉली में फंसे 34 लोगों को सुरक्षित निकाला गया. हालांकि, इस ऑपरेशन में दुमका के एक व्यक्ति की एयरलिफ्ट के दौरान गिरने से मौत हो गयी. वहीं, 12 अप्रैल की दोहपर दो बजे तक चले ऑपरेशन में ट्रॉली में फंसे 12 लोगों को सुरक्षित निकाला गया. इसमें बच्चे भी शामिल रहे. इस ऑपरेशन के दौरान देवघर की एक महिला की भी गिरने से मौत हो गयी. इस तरह से इस हादसे में तीन लोगों की मौत हो गयी, जबकि 46 लोगों को सुरक्षित निकाला गया.

देवघर डीसी ने जताया आभार

इधर, देवघर डीसी सह जिला दंडाधिकारी मंजूनाथ भजंत्री ने भी त्रिकुट रोपवे में फंसे लोगों की सकुशल रेस्क्यू पर सेना के जवान सहित सहयोग करने वाले सभी के प्रति आभार जताया है. कहा कि इस हादसे में फंसे लोगों को दूसरे दिन सकुशल बाहर निकाल लिया गया है. मंगलवार की सुबह शेष बचे 13 लोगों को सकुशल रेस्क्यू किया गया. वहीं, रेस्क्यू के दौरान एक महिला की मौत हुई है.

रिपोर्ट : संजीत मंडल, देवघर.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें