1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. coronavirus in chatra no special preparations to deal with the third wave of corona in chatra pregnant and midwife women have not been getting nutrition for four months srn

चतरा में कोरोना की तीसरी लहर से निबटने के लिए कोई विशेष तैयारी नहीं, गर्भवती व धात्री महिलाओं को चार माह से पोषाहार नहीं मिल रहा

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
चतरा में कोरोना की तीसरी लहर से निबटने के लिए कोई विशेष तैयारी नहीं
चतरा में कोरोना की तीसरी लहर से निबटने के लिए कोई विशेष तैयारी नहीं
FILE PIC

चतरा : वैश्विक महामारी की दूसरी लहर का प्रभाव कम होता दिख रहा है. तीसरी लहर कभी भी आने की संभावना है. कोरोना की तीसरी लहर का प्रभाव बच्चों में ज्यादा होने की आशंका है. कोरोना की संभावित तीसरी लहर, वाइट व ब्लैक फंगस सीधे तौर पर बच्चों को प्रभावित कर सकता है. जिले में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोई विशेष तैयारी नहीं की गयी है. जिले के आंगनबाड़ी केंद्रों में नामांकित बच्चों के अलावा गर्भवती व धात्री महिलाओं को चार माह से पोषाहार नहीं मिल रहा है. जनवरी माह के बाद जिले में पोषाहार का वितरण नहीं हुआ है. जिले में कुपोषित बच्चे हैं. आंगनबाड़ी केंद्र से जुड़े हुए हैं. अधिकतर बच्चे सुदूरवर्ती व पिछड़े गांवों के हैं, जहां साफ-सफाई व्यवस्था नहीं के बराबर है. वर्तमान में सदर अस्पताल में बने एमटीसी (कुपोषण केंद्र) में कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर (सीएचओ) रह रहे हैं. इस तरह कुपोषण केंद्र बंद है.

सदर अस्पताल में तैयारी

जिला महामारी विशेषज्ञ आशुतोष कुमार ने कहा कि सदर अस्पताल में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर दो शिशु विशेषज्ञ कार्यरत हैं. पियट्री वार्ड व एसेनसीएल वार्ड बनाया जा रहा है, जहां बच्चों को रखा जायेगा. कुपोषित बच्चों के लिए सदर अस्पताल में बने एमटीसी (कुपोषण केंद्र) का विस्तार किया जायेगा.

जिला समाज कल्याण पदाधिकारी ने कहा

जिला समाज कल्याण पदाधिकारी सूरजमनी कुमारी ने बताया कि आंगनबाड़ी सेविकाओं को अपने-अपने पोषक क्षेत्र में भ्रमण करने को कहा गया है. सेविकाएं बच्चों के अभिभावकों को कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर जागरूक कर रही हैं. घर-घर जाकर लोगों के ऑक्सीजन लेवल की जांच करने में सहयोग कर रही हैं. पोषाहार के तहत चावल का आवंटन प्राप्त हो गया है. बहुत जल्द जेएसएलपीएस को उपलब्ध करा दिया जायेगा. जेएसएलपीएस द्वारा आंगनबाड़ी सेविकाओं को चावल उपलब्ध कराया जायेगा. इसके बाद बच्चों के घर-घर चावल पहुंचा दिया जायेगा.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें