24.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

दो दिन से लापता बेरमो के युवक का शव मिला, हत्या का आरोप

दो दिन से लापता बेरमो के युवक का शव मिला, हत्या का आरोप

फुसरो. बेरमो थाना क्षेत्र अंतर्गत पुराना बीडीओ ऑफिस स्थित बंगाली पाड़ा निवासी अमृत रजक के पुत्र मोहन रजक (35 वर्ष) का शव बुधवार की सुबह रहिमगंज के समीप गोमो-बड़काकाना रेल लाइन के किनारे झाड़ी में मिला. सिर कुचला हुआ था और दोनों आंखें बाहर निकली हुई थी. पैर व हाथ टूटा भी हुआ था. परिजनों ने हत्या का आरोप लगाया है. मोहन 17 जून की रात आठ बजे से लापता था. परिजनों ने मंगलवार को इस संबंध में आवेदन बेरमो थाना में दिया था. बुधवार को शव मिलने की जानकारी पाकर बेरमो थाना प्रभारी अशोक कुमार दलबल के साथ पहुंचे. लोगों की मदद से शव को झाडी से निकलवाया. शव को पुलिस पोस्टमार्टम के लिए तेनुघाट भेज रही थी, लेकिन परिजनों व लोगों ने फुसरो-करगली मुख्य मार्ग को रानीबाग के पास जाम कर दिया. थाना प्रभारी के समझाने के बाद शव को एम्बुलेंस से बेरमो थाना लाया गया. इसके बाद पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था. पोस्टमार्टम के बाद शव फुसरो लाया गया तो फिर परिजनों व लोगों ने फुसरो निर्मल महतो चौक के समीप सड़क जाम कर दिया. लोगों ने हत्यारों की गिरफ्तारी, परिजनों को सरकारी प्रावधान के अनुसार मुआवजा व योजना का लाभ दिलाने की मांग की. गिरिडीह सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी भी पहुंचे और मामले की जानकारी ली. बेरमो सीओ संजीत कुमार पहुंचे और 24 घंटे में आरोपी की गिरफ्तारी, मृतक की पत्नी सुनीता देवी को विधवा पेंशन, पारिवारिक लाभ, आंगनबाड़ी केंद्र में रोजगार, मृतक के बच्चों की डीएवी स्कूल ढोरी में नि:शुल्क पढ़ाई कराने का लिखित आश्वासन दिया. इसके बाद सड़क जाम हटा. मौके पर अर्चना सिंह, राधा देवी, संतोष महतो, सिकंदर ठाकुर, महेंद्र चौधरी, अनिल कुमार, संतोष रवानी, अशोक रवानी, आकाश सिंह, रमेश स्वर्णकार, जितेंद्र सिंह आदि मौजूद थे. 17 जून की रात को घर से निकला था मोहन मोहन रजक 17 जून की रात आठ बजे परिजनों को बिना कुछ बताये अपने घर से निकला था. देर रात तक नहीं लौटा तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की. उसका मोबाइल भी स्विच ऑफ बता रहा था. जिसके बाद परिजनों ने बेरमो थाना में आवेदन दिया. कॉल ट्रेस में मोहन के मोबाइल के लोकेशन रानीबाग के पास बताया गया. मंगलवार की रात परिजन रानीबाग के पास रेल लाइन के रास्ते पर गये तो उसके मोबाइल का कवर मिला. डुमरी प्रखंड में है पैतृक गांव मोहन रजक चार भाइयों में सबसे छोटा था. वह ड्राइवर का काम करता था. उसकी ससुराल फुसरो के शांतिनगर में है. दो पुत्र आदित्य कुमार व आर्यन कुमार हैं. पोस्टमार्टम के बाद मोहन का शव दाह संस्कार के लिए पैतृक गांव गिरिडीह के डुमरी प्रखंड अंतर्गत सोना पहाड़ी स्थित चौधरी बांध ले जाया गया. फुसरो में आपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने में सरकार विफल : सांसद सड़क जाम स्थल पहुंचे गिरिडीह सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी ने कहा कि फुसरो में आपराधिक घटनाएं काफी बढ़ गयी हैं. इसे रोकने में राज्य सरकार और पुलिस-प्रशासन विफल है. यही स्थित पूरे राज्य में है. फुसरो में दिनदहाड़े फायरिंग और हत्या की घटनाएं हो रही है. इसकी सुध स्थानीय विधायक कुमार जयमंगल सिंह लेना उचित नहीं समझ रहे हैं. फुसरो में जिन दो दुकानों में फायरिंग की घटना हुई, उनके संचालकों से भी नहीं मिले. मामले का जल्द किया जायेगा उद्भेदन : थाना प्रभारी बेरमो थाना प्रभारी अशोक कुमार ने कहा कि घटना के कारणों का पता लगाया जा रहा है. सीसीटीवी फुटेज की भी जांच की जा रही है. आरोपी को जल्द पकड़ कर मामले का उद्भेदन किया जायेगा. पोस्टमार्टम रिपोर्ट से भी मामले का काफी कुछ खुलासा होगा.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें