40.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

भगता परब: बोकारो में पीठ छिदवाकर व अंगारों पर चलकर दिखायी आस्था, 30 फीट की ऊंचाई पर झूले भगतिया

भगता परब पर बोकारो में पीठ छिदवाकर व अंगारों पर चलकर लोगों ने आस्था दिखायी. इस दौरान 30 फीट की ऊंचाई पर भगतिया झूले. रात में छऊ नृत्य का आयोजन किया गया. इसमें बंगाल के कलाकारों ने कार्यक्रम प्रस्तुत किया.

कसमार (बोकारो): झारखंड के बोकारो जिले के कसमार प्रखंड के प्राचीन सिंहपुर शिवालय (मड़प) में आयोजित भगता परब (मंडा परब व चड़क पूजा) के दौरान रविवार को भगतियाओं ने अपने भगवान शिव व बूढ़ा बाबा को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के कठोर व हैरतअंगेज रस्मों को निभाया. इसके तहत भगता झूला का आयोजन भी हुआ. इसमें करीब दो दर्जन भगतियाओं ने अपनी पीठ को लोहे की हूक से छिदवाकर उसके उसके सहारे करीब 30 फुट की ऊंचाई पर झूले. इससे पहले शिवालय परिसर में दर्जनों भगतियाओं ने ”फूलखुंदी” की रस्म निभाई. इसमें भगतिया ब्रह्ममुहूर्त में आग के दहकते अंगारों पर चले, जबकि सुबह 8:30 बजे से दोपहर करीब 11 बजे तक भगतियाओं ने भगता झूलन में हिस्सा लिया.

छऊ नृत्य का भी आयोजन
झूलने की रस्म अदायगी निकटवर्ती शायर बांध से शुरू हुई. सबसे पहले परंपरा के अनुसार खैराचातर के बाउरी परिवार के सदस्य (पाट भगतिया) पंचम बाउरी ने पीठ छिदवाकर झूलने की परंपरा निभाई. उसके बाद अशोक महतो, विनोद रसलीन, सुनील करमाली, अनिल करमाली, उज्ज्वल जायसवाल, सचिन कपरदार, कृष्णा कपरदार, सावन करमाली, जयराम पाहन, मुरलीधर कपरदार, गयाराम महतो, सोनाराम कालिंदी, लखिन्द्र साव, शक्तिराम कालिंदी, दीपक नायक, सचिन महतो, रोहित महतो, मधुसूदन पाहन, सुभाष महतो, विभीषण महतो, नागेश्वर कालिंदी, कृष्णा कपरदार आदि भगतिया बारी-बारी से पीठ छिदवाकर झूले. इस दौरान उनके घर की कोई महिला सदस्य (खासकर पत्नी और अविवाहित होने की स्थिति में मां) खंभा के नीचे सिर पर लोटा में पानी लेकर खड़ी रही. इधर, रात को छऊ नृत्य का आयोजन भी हुआ. बंगाल के कलाकारों ने कार्यक्रम प्रस्तुत किया.

सांसद, विधायक व जयराम भी पहुंचे
शनिवार की देर रात को स्थानीय सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी, विधायक डॉ लंबोदर महतो तथा जेबीकेएसएस के नेता जयराम महतो भी सिंहपुर शिवालय पहुंचे तथा भगता परब में शामिल हुए. इस दौरान सभी ने मंदिर में मत्था टेककर क्षेत्र की सुख-समृद्धि की कामना की तथा सभी भगतियाओं को इस परब की शुभकामनाएं दी. सांसद ने कहा कि भगता परब हमारी मूल संस्कृति का एक अभिन्न अंग है. इसे संजो कर रखने की जरूरत है.

ALSO READ: खरना के साथ छठव्रतियों का निर्जला उपवास शुरू

मुस्तैद थी पूजा कमेटी
इधर, पूजा को शांतिपूर्ण संपन्न कराने में पूजा कमेटी के सभी पदाधिकारी व सदस्य मुस्तैद थे. मौके पर समाजसेवी कौशल्या देवी, सुजीत कुमार, पंसस विनोद कुमार महतो, मुखिया प्रतिनिधि घनश्याम महतो, पूजा कमेटी के अध्यक्ष रंजीत कुमार साव, सचिव घनश्याम नायक, कोषाध्यक्ष शंकर महतो, फुलसुसारी मनोज कुमार सिंह, सुफलचंद्र महतो, अधीरचंद्र शर्मा, अजय कुमार महतो, लालमोहन महतो, सुरेश साव, लखन साव, भरत तिवारी, सुनील शर्मा, मिथिलेश महतो, मानुराम महतो, विष्णु जायसवाल, रूपेश साव, प्रो सुनील करमाली, काशीनाथ महतो, अशोक महतो, कमलेश्वर महतो, दशरथ महतो, लालू कालिंदी, मुकेश घांसी, दीपक घांसी, धनंजय घांसी, बैजनाथ डोम, श्रीमंत डोम, विनोद डोम, मदन डोम, विश्वनाथ डोम, लखीकांत महतो, राकेश साव, देवाशीष दे, अनंत महतो, जयप्रकाश महतो आदि मौजूद थे. फूलसुसारी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि सोमवार को बकरा बलि एवं अन्य कई परंपराओं के निर्वहन के साथ भगता परब का विधिवत समापन होगा.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें