कर्मा गांव में घर का ताला तोड़ 10 लाख की संपत्ति की चोरी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

काराकाट : थाना क्षेत्र के कर्मा गांव में घर का ताला तोड़ कर सात लाख रुपये के सोना-चांदी के आभूषण व तीन लाख नकद रुपये की चोरी का मामला प्रकाश में आया है. घटना बुधवार की रात की है, जिसका खुलास गुरुवार की रात को हुआ, जब गृहस्वामी व उनके परिजन एक शादी समारोह से लौट कर घर आये. कर्मा गांव निवासी बैजनाथ यादव अपने परिवार के साथ 17 फरवरी को एक शादी समारोह में भाग लेने नासरीगंज गये थे.

घर में ताला बंद था. 19 फरवरी की शाम जब परिवार घर लौटा, तो मुख्य गेट का ताला टूटा देख व सकते में आ गये. इसके बाद देखा तो घर के अंदर के कमरों के ताले टूटे थे. कमरे के अंदर का बक्सा, गोदरेज सभी टूटा पड़ा था. सामान बिखरा था. गृहस्वामी ने बताया कि गोदरेज में रखे सोने व चांदी के आभूषण, जिसकी कीमत सात लाख रुपये व नकद करीब तीन लाख रुपये की चोरी हुई है.
भीषण चोरी में लूट चुके सामान से आहत परिजनों व महिलाओं में चीख- पुकार मच गई. गृहस्वामी ने अज्ञात के विरुद्ध थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी है. इस संबंध में काराकाट थाने के परिक्ष्यमान एएसपी शौर्य सुमन ने बताया कि चोरी की घटना की प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है. घटना की जांच की जा रही है.
बिक्रमगंज में डीएसपी निवास के पास दो दुकानों को बनाया निशाना
बिक्रमगंज कार्यालय. शहर के सासाराम रोड में डीएसपी आवास से महज 200 मीटर की दूरी पर दो गुमटीनुमा दुकानों का ताला तोड़ नकदी सहित हजारों रुपये की संपत्ति की चोरी कर ली. पिछले एक माह से लगातार हो रही चोरी की घटनाओं से शहर के व्यवसायी जहां दहशत में हैं, वहीं पुलिस किसी भी घटना का खुलासा तक नहीं कर पायी है.
चोरों ने सोना वाच व गिफ्ट कार्नर दोनों का ताला तोड़ कर चोरी कर ली. सोना वाच से पांच हजार रुपये नकदी व 20 हजार रुपये की घड़ियां की चोरी हुई हैं. दुकानदार चुनी बेगम ने बताया कि पति की मौत के बाद दुकान ही एक मात्र परिवार के पालन पोषण का सहारा है. इस घटना के बाद भोजन के लाले पड़ जायेंगे.
वहीं गिफ्ट पार्लर से 10 हजार रुपये नकदी के साथ 50 हजार रुपये की संपत्ति की चोरी हुई है. दुकानदार बहादुर प्रसाद ने बताया कि घटना के संबंध में पुलिस को सूचना देने के बाद भी कोई देखने तक नहीं आया. इस संबंध में डीएसपी राजकुमार बताते हैं कि पुलिस प्रतिदिन गश्ती करती है. दुकानदारों को भी सावधान रहना चाहिए. सभी मिल कर पहरे की व्यवस्था करें. बिना सहयोग के चोरी रोकना संभव नहीं है.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें