बिहार कांग्रेस में बवाल : पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी पर गिर सकती है गाज, दिल्ली भेजी गयी रिपोर्ट

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : महागठबंधन छोड़करमुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भाजपा के साथदोबारा से मिलकरबिहारमें एनडीए सरकार का गठन करने के बाद से कांग्रेस के एक गुट के टूटकर जदयू में शामिल होने की चर्चाओं के बीच पार्टी आलाकमानद्वारा तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष अशोक चौधरी को हटाकर कादरी को पार्टी की प्रदेश इकाई का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त कियेजानेके बाद से हीप्रदेश कांग्रेस मेंजारीघमासानथमता नहीं दिख रहा है.इसबीच आज बिहार प्रदेश कांग्रेस के राज्य प्रतिनिधियों का सम्मेलन बुलाया गया था. इस दौरान सदाकत आश्रम के अंदर व बाहर जमकर हंगामा हुआ. प्रदेश कांग्रेस की ओर से इस बारे में पार्टी आलाकमान को रिपोर्ट भेजी गयी है. चर्चा है कि इस मामले में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है और उन्हें पार्टी से बाहर किया जा सकता है.

दरअसल, पटना में आज राज्य प्रतिनिधियों के सम्मेलन में भाग लेनेसदाकतआश्रम पहुंचे कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं के बीच जमकर मारपीट हुई. कांग्रेस के नाराज कार्यकर्ताओं ने प्रवेश द्वार पर रोक लगाये जाने के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और पीएम नरेंद्र मोदी के समर्थन में नारे लगाये.इसदौरान अशोक चौधरीकेसाथ ही उनके गुट के नेताओं व कार्यकर्ताओं केसाथ धक्का-मुक्की गयी. साथ ही अशोक चौधरी के समर्थकों के कपड़े भी फाड़ दिये गये. बढ़तेबवाल केमद्देनजर सदाकत आश्रम के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गयी. जिसके बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय सदाकत आश्रम पुलिस छावनी में परिवर्तित हो गया.

इससे पूर्व रविवार को प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने स्पष्ट रूप से कहा कि कांग्रेस आलाकमान के खिलाफ बोलनेवाले व पार्टी विरोधी काम में लिप्त लोगों पर पार्टी अनुशासनात्मक कार्रवाई करेगी. सदाकत आश्रम में पहली बार बुलाये गये प्रेस कांफ्रेंस उन्होंने कहा कि सोमवार को सदाकत आश्रम में प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रतिनिधियों की सम्मेलन बुलायी गयी है. सम्मेलन में बिहार के चुनाव पदाधिकारी व राज्यसभा सांसद प्रदीप भट्टाचार्य शामिल रहेंगे. जो प्रदेश प्रतिनिधि निर्वाचित घोषित कियेगये हैं उन्हें सम्मेलन में आने का निमंत्रण दिया जा चुका है.

वहीं प्रेस कांफ्रेंस में राजद के साथ कांग्रेस के तालमेल के बावजूद पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस नेता डॉ अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा कि कांग्रेस बिहार में लालू प्रसाद की 'बी' टीम बनकर नहीं रहेगी. कांग्रेस हमेशा देश मे नंबर वन रही है और आगे भी रहेगी. उन्होंने कहा कि ऐसे लालू प्रसाद के साथ गठबंधन का फैसला बिहार कांग्रेस के नेताओं को नहीं आलाकमान काे करना है.

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वे जहां रहते हैं सौ फीसदी रहते हैं. राजद को 2010 में छोड़ चुके हैं. प्रदेश प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा कि पार्टी में किसी के साथ कोई विरोधाभास नहीं है. सभी के साथ एकजुट होकर पार्टी को मजबूत करना है. सम्मेलन में आने के लिए डॉ अशोक चौधरी भी आमंत्रित किये गये हैं. एक सवाल के जवाब में डॉ अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा कि वे कोई गाय-बैल तो हैं नहीं कि कोई उन्हें सम्मेलन में बांधकर लाया जायेगा.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें