31.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

पूर्वजों की धरोहर को संरक्षित करने की जरूरत : डॉ विमल

अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस के अवसर पर संग्रहालय सप्ताह कार्यक्रम की हुई शुरूआत

नवादा सदर. कला संस्कृति एवं युवा विभाग बिहार सरकार के संग्रहालय निदेशालय के तत्वावधान में नारदः संग्रहालय, नवादा में अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस के अवसर पर संग्रहालय सप्ताह का आयोजन किया गया. 18 से 25 मई 2024 तक संग्रहालय सप्ताह के तहत कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे. शनिवार को इस कार्यक्रम की विधिवत शुरूआत की गयी. इंटैक चेप्टर की भागीदारी से आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ पूर्व सिविल सर्जन डॉ विमल प्रसाद सिंह, शिक्षाविद जीवन ज्योति पब्लिक स्कूल के निदेशक डॉ आरपी साहु व इंटेक के कन्वीनर वीणा मिश्रा ने दीप जलाकर किया.

अतिथि डॉ विमल प्रसाद सिंह ने कहा कि पूर्वजों ने जो कुछ दिया है, उसे संरक्षित करने की जरूरत है. नवादा में विरासत के रूप में सीतामढी, अपसढ, पार्वती, आंती जैसे कई जगह है जहां पर पुरानी मूर्तियां जीर्ण-शीर्ण मंदिरों में रखे गये हैं. इंटैक का नवादा चैप्टर इन प्रतिमाओं का सूचिकरण करके संरक्षित करेगा. कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए नवादा इंटैक चेप्टर के कन्वीनर प्रो बच्चन पांडेय ने आयोजन की महत्ता बताते हुए कहा कि विरासत को आने वाली पीढ़ी के लिए संग्रहालय में सजाकर रखने की जरूरत है. गांव देहातों में फैली विरासत को संरक्षित करने के लिए काम किया जायेगा. पौराणिक अवशेष, पुराने पर्व, लोकगाथा, लोकगीत आदि को बताने की जरूरत है. नारद: संग्रहालय को स्थापित करने वाले तत्कालीन डीएम स्व नरेंद्र पाल सिंह व उनके सहयोगी जयनंदन मिश्रा के प्रति कार्यक्रम में आभार प्रकट किया गया.

बच्चों को कार्यक्रम से जोड़ा गया:

संग्रहालय दिवस कार्यक्रम में स्कूल के बच्चों को जोडा गया, ताकि बेहतर परिणाम लाया जा सके. नये बच्चों को हमारी धरोहर से रूबरू होने का मौका मिलेगा. स्वागत भाषण करते हुए उमाशंकर रजक ने कहा कि इंटैक नवादा चैप्टर धरोहरों को संरक्षित करने में अपनी भूमिका निभायेगी. माता पिता, दादा दादी परिवार के अन्य बुर्जुगों का सम्मान भी धरोहर का संरक्षण ही है. वीणा मिश्रा ने कहा कि हिंदी हमारी मातृभाषा है और मगही बोलचाल की भाषा है. इसका भी संरक्षण करना चाहिए. अशोक समदर्शी, सुरेंद्र सिंह आदि ने जिला व आसपास के एतिहासिक धरोहरों पर चर्चा की.

आयोजित की जायेंगी प्रतियोगिताएं:

कार्यक्रम का संचालन समाजसेवी श्रवण कुमार बरनवाल ने अपनी अनोखे अंदाज में किया. मंच पर आसीन अतिथियों के साथ-साथ सुरेंद्र कुमार, अशोक समदर्शी, सुंदर मुखिया, पंकज कुमार निदेशक डीपीएस स्कूल आदि ने बच्चों को विरासत के बारे में पूर्ण जानकारी दी. संग्रहालय के बारे में बच्चों को विस्तृत जानकारी भी दी गयी. कार्यक्रम में जीवन ज्योति पब्लिक स्कूल, कन्हाई इंटर स्कूल, डीपीएस पब्लिक स्कूल, गांधी इंटर विद्यालय, डीएभी पब्लिक स्कूल, बीपीएस स्कूल, राजकीय कन्या मध्य विद्यालय, कन्या इंटर विद्यालय, ब्राइट माइंड पब्लिक स्कूल, मॉडर्न इंग्लिश स्कूल, न्यू एरा अकैडमी, इराकी उर्दू गर्ल्स हाइस्कूल आदि के बच्चों ने भाग लिया. वर्ग दो से वर्ग पांच तक जूनियर वर्ग में तथा वर्ग 6 से वर्ग 10 तक के सिनियर बालक बालिकाओं ने कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज करायी. कार्यक्रम का शुभारंभ उद्घाटन के पश्चात बच्चों को संग्रहालय का परिभ्रमण कर प्रतियोगिता व संग्रहालय देखो और जवाब दो प्रतियोगिता के प्रति बच्चों को प्रेरित किया गया. नारदा संग्रहालय नवादा के सदस्य मोहम्मद आमिर, श्याम सुंदर पासवान, सुनीता कुमारी, प्रदीप कुमार, गगन मिश्रा, जितेंद्र दास, समीर राज, रवि वर्मा, गायत्री देवी, विकास कुमार, देवी कमोद्वा देवी आदि लोगों ने मिलकर कार्यक्रम को सफल बनाया.

प्रतियोगिताओं के लिए तिथि निर्धारित19 मई को ””संग्रहालय देखो जवाब दो”” प्रश्नोत्तरी एवं निबंध प्रतियोगिता

21 मई को विरासत क्विज की प्रतियोगिता22 मई को स्थल चित्रांकन प्रतियोगिता

23 मई को संग्रहालय विरासत संभाषण प्रतियोगिता24 मई को प्रतियोगिता के रिजल्ट की घोषणा व पुरस्कार वितरण

सभी विद्यालय के शिक्षक व शिक्षिकाओं ने अपना सहयोग दिया. अंत में शिवकुमार प्रसाद ने धन्यवाद कर कार्यक्रम का समापन किया. कार्यक्रम को सफल बनाने में पूर्व प्रधानाचार्य प्रोजेक्ट कन्या इंटर विद्यालय इंद्रदेव प्रसाद आदि जूटे रहे.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें