ठंड व शीतलहर रहेगी जारी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बिहारशरीफ : जिले में ठंड व शीतलहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. ठंड व शीतलहर की वजह से लोग ठिठुर रहे हैं. पारा थोड़ा चढ़ा, मगर ठंड व ठिठुरन में कोई कमी नहीं दिखायी पड़ रही है. गुरूवार को अधिकतम तापमान 21 डिग्री, जबकि न्यूनतम तापमान 14 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. ठिठुरन व ठंड की वजह से ठिठुर रहे लोगों को कोई राहत नहीं मिल पायी है. बर्फीली पछुआ हवा के चलने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है.

गुरुवार को दिन भर सूर्य बादलों की ओट में छिपा रहा. इसके कारण लोग दिन भर अलाव तापने को मजबूर हुए. लोग सुबह व शाम में ठंड का कहर अधिक देखा जा रहा है. ठंड की वजह से लोग घरों में दुबके रहे. दुकानदारों द्वारा सर्दी व ठंड से बचने के लिये डिब्बे, गत्ता, लकड़ी व हीटर का उपयोग किया जा रहा है.
घरों में लोग कागज, लकड़ी जलाकर ठंड से बचते दिखे. शाम ढलते ही बाजारों में सन्नाटा पसर जा रहा है. नगर निगम द्वारा शहरी गरीब व असहाय लोगों को ठंड व ठिठुरन से बचाने के लिये सभी चौक-चौराहों पर अलाव की व्यवस्था की गयी है. वहीं नगर निगम के सभी वार्डों में गरीब व असहाय लोगों के बीच वितरण करने के लिए 9200 कंबल की व्यवस्था की गयी है.
इन कंबलों को सभी वार्ड पार्षदों को वितरण करने के लिये दिया गया है. वार्ड पार्षद अपने अपने मोहल्लों के गरीब व असहाय लोगों को चिह्नित कर कंबल वितरित कर रहे हैं. सबसे ज्यादा परेशानी ग्रामीण क्षेत्र के गरीब व असहाय लोगों को हो रही है. ग्रामीण क्षेत्र के गरीबों के लिये पुआल ही आसरा है.
शुक्रवार से फिर ठंड बढ़ने की संभावना
मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो आने वाले दिनों में भी ठंड व शीतलहर के जारी रहने के आसार है. शुक्रवार से ठंड व शीतलहर में और बढ़ोतरी होने की संभावना जतायी जा रही है. आसमान में बादल छाये रहने व बूंदाबांदी होने की भी संभावना व्यक्त की जा रही है.
इस दौरान सुबह में कोहरा भी छाने का अंदेशा है. आने वाले सोमवार तक ठंड व शीतलहर बरकरार रहने की संभावना व्यक्त की जा रही है. सिविल सर्जन डॉ राम सिंह ने बताया कि कड़ाके की ठंड की वजह से दिल के मरीजों व ब्लड प्रेशर के रोगियों के साथ ही गठिया के रोगियों की परेशानी बढ़ सकती है.
कोलकाता जा रही वृद्धा की ठंड से मौत
छपरा से कोलकाता जा रही एक वृद्ध महिला की मौत बिहारशरीफ पहुंचने पर ठंड से हो गयी. मृतका छपरा निवासी 70 वर्षीया मोती देवी है. पुत्र तारकेश्वर सिंह ने बताया कि वह बुधवार की दोपहर परिजनों के साथ छपरा से स्कॉर्पियो से अपने मां की हार्ट बीमारी के इलाज के लिए कोलकाता ले जा रहे थे.
लेकिन बिहारशरीफ पहुंचने पर संध्या में उनकी तबीयत अचानक बिगड़ गयी. सांस फूलने लगी और वह अचेत हो गयी. आनन फानन में वह मां को लेकर परिजनों के साथ सदर अस्पताल पहुंचे और चिकित्सक को दिखाया. लेकिन चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें