25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

मान्यता की प्रति जमा करने के बाद शुरू होगी वोकेशनल कोर्स में दाखिले की प्रक्रिया

Process of admission in vocational courses

:: बीबीए-बीसीए कोर्स में दाखिले के लिए इस वर्ष से एआइसीटीई से मान्यता लेना किया गया है अनिवार्य ———————————— वरीय संवाददाता, मुजफ्फरपुर बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजाें में संचालित बीसीए और बीबीए कोर्स में नामांकन लेने के लिए इस वर्ष से एआइसीटीइ से मान्यता लेना अनिवार्य कर दिया गया है. विश्वविद्यालय के कॉलेजों की ओर से एआइसीटीइ के पोर्टल पर आवेदन करने के बाद सशर्त मान्यता दे दी गई है. अब कॉलेजों की ओर से नामांकन की प्रक्रिया शुरू करने को लेकर विश्वविद्यालय से मांग की जा रही है. विश्वविद्यालय की ओर से कॉलेजों को कहा गया है कि बीबीए-बीसीए कोर्स के संचालन को लेकर अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद की ओर से स्वीकृति यदि मिल गई हो तो उसकी प्रति विश्वविद्यालय में जमा कराएं. इसके लिए 30 अप्रैल तक का समय कॉलेजों को दिया गया है. इसके बाद वोकेशनल कोर्स में दाखिले की प्रक्रिया शुरू करने पर विचार किया जाएगा. मिली जानकारी के अनुसार कुछ कॉलेजों ने बीबीए और बीसीए कोर्स के संचालन को लेकर एआइसीटीइ के पोर्टल पर आवेदन ही नहीं किया है. रामेश्वर कालेज ने अब तक एआइसीटीइ पोर्टल पर आवेदन नहीं किया है. ऐसे में आवेदन नहीं करने वाले कॉलेजों में इस कोर्स पर ग्रहण लग सकता है. परिषद की ओर से कहा गया है कि कॉलेजों को इसी शर्त पर प्रोविजनल मान्यता दी गई है कि कोर्स को लेकर उनकी ओर से उपलब्ध कराई गई जानकारी का भौतिक सत्यापन किया जाएगा. यदि आधारभूत संरचना से लेकर अन्य जानकारी में किसी प्रकार का अंतर पाया जाता है तो मान्यता तत्काल प्रभाव से समाप्त भी की जा सकती है. ———————– नामांकन की प्रक्रिया शुरू करने की मांग मुजफ्फरपुर. विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय व्यवसायिक पाठ्यक्रम कर्मचारी संघ ने विश्वविद्यालय की सीसीडीसी को पत्र लिखकर वोकेशनल कोर्स में दाखिले की प्रक्रिया शुरू करने की मांग की है. कहा है कि एआइसीटीइ को आवेदन करने के बाद उनकी ओर से दिए गये प्रोविजनल मान्यता की प्रति भी उपलब्ध कराई जा चुकी है. ऐसे में सत्र 2024-27 में वोकेशनल कोर्स में दाखिले की प्रक्रिया शुरू की जाए. यदि इस प्रक्रिया में विलंब होगा तो इसका सीधा असर नामांकन पर होगा. संघ ने कहा है कि पिछले वर्ष नामांकन में विलंब होने के कारण बड़ी संख्या में विद्यार्थी अन्य शहरों की ओर पलायन कर गये थे.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें