रेलवे की लापरवाही से यात्रियों को खतरा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

सोमवार की देर रात सवा दो घंटे तक मनकट्ठा रेलवे स्टेशन पर खड़ी रही 63204 अप 63204 पटना-किऊल इएमयू

लखीसराय : रेलवे द्वारा पैसेंजर ट्रेनों के परिचालन में यात्री सुविधाओं एवं उनकी सुरक्षा को नजरअंदाज कर छोटे स्टेशनों पर ट्रेनों को रोके जाने से यात्रियों की जान खतरे में है.
इस दौरान ऐसे स्टेशनों पर अपराधी अपनी करतूतों को अंजाम देने से पीछे नहीं हटते है़ं ऐसा ही एक वाक्या सोमवार की देर रात मनकट्ठा रेलवे स्टेशन पर हुई. जहां रात 10.45 मिनट पर पटना-किऊल इएमयू पैसेंजर ट्रेन मनकट्ठा स्टेशन आयी. एकदम छोटे व विरान स्टेशन पर रात के 1.08 बजे तक ट्रेन को रोक कर रखा गया़ इस दौरान दो अपराधियों ने ट्रेन में एक यात्री से लूट का प्रयास के दौरान यात्री को चाकू मारकर घायल कर दिया़ वहीं सोमवार की रात ही 63211 अप झाझा-पटना इएमयू में किऊल-मोकामा रेलखंड के डूमरी हॉल्ट के समीप अपराधियों ने तीन यात्रियों के साथ छिनतई कर नगदी सहित
मोबाइल छीन फरार हो गये़ एक ही रात दो ट्रेनों में अलग-अलग स्टेशनों पर यात्रियों से हथियार दिखाकर लूट की इस घटना के बाद यात्रियों में दहशत है. यात्रियों का कहना है कि पैसेंजर हो या एक्सप्रेस ट्रेन रेलवे सभी के यात्री से किराया तो वसूलती है लेकिन पैसेंजर ट्रेन के यात्रियों की समय व सुरक्षा का ख्याल नहीं रखती़ यहां तक की पैसेंजर ट्रेनों में सुरक्षा बल की भी व्यवस्था भी नहीं रहती है़
मनकट्ठा रेलवे स्टेशन पर जिस ट्रेन में घटना घटी उस ट्रेन में सुरक्षा बलों की उपलब्धता के सवाल पर किऊल के आरपीएफ निरीक्षक पंकज कुमार गुप्ता ने बताया कि इएमयू ट्रेन में आरपीएफ की व्यवस्था नहीं है़
इधर, मनकट्ठा स्टेशन पर सवा दो घंटे से अधिक समय तक इएमयू ट्रेन के खड़े रखे जाने के सवाल पर किऊल स्टेशन के प्रबंधक सुशील कुमार चौधरी ने बताया कि कंट्रोल के दिशा निर्देश के तहत ट्रेनों का परिचालन होता है़ लेकिन सवा दो घंटे तक ट्रेन के खड़े रखने को उन्होंने अनुचित बताया़ हालांकि उन्होंने कहा कि कुछ कारण होगा तभी ट्रेन को रोक कर रखा होगा़
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें