31.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

हर हाल में किसानों के बीच गुणवत्तापूर्ण बीज हो उपलब्ध : डीडीसी

जिला स्तरीय खरीफ कर्मशाला सह प्रशिक्षण में किसानों को मोटा अनाज उपज के प्रति किया गया जागरूक

कटिहार. शहर के टाउन हॉल में मंगलवार को कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंध अभिकरण आत्मा की ओर से जिला स्तरीय खरीफ कर्मशाला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का उद्घाटन डीडीसी अमित कुमार, डीएओ सुधीर कुमार, जिला उद्यान पदाधिकारी ओमप्रकाश मिश्रा और पटना से आये उपनिदेशक उद्यान बिहार पटना के डॉ राकेश कुमार ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर किया. इस मौके पर डीडीसी ने खरीफ मौसम में होनेवाली फसलों को विस्तार से बताया व विभाग से दिये गये लक्ष्य को पूरा करने पर बल दिया. साथ ही उन्होंने हर हाल में किसानों के बीच गुणवत्तापूर्ण बीज उपलब्ध कराने पर बल दिया. इससे पूर्व जिला स्तरीय खरीफ कर्मशाला सह प्रशिक्षण में किसानों को खरीफ सीजन में होने वाली फसलों को विस्तार से प्रशिक्षण व जानकारी उपलब्ध कराया गया. विभाग द्वारा मिले वित्तीय वर्ष 2024-25 में खरीफ फसल के लक्ष्य को पूरा करने को लेकर जिला कृषि पदाधिकारी सुधीर कुमार द्वारा टीप्स दिया गया. उन्होंने बीटीएम, एटीएम, बीएओ और किसान सलाहकार को किसान के साथ टुकड़ों में बैठक कर इसकी जानकारी देने का निर्देश दिया. सुदामा ठाकुर ने बताया कि जिला स्तरीय खरीफ महोत्सव के बाद 29 मई से 15 जून तक प्रखंडों में प्रखंड स्तर पर भी किया जायेगा. कलेस्टर में मिलेज की खेती पर विशेष रूप से फोकस दिया गया. आत्मा के उप परियोजना निदेशक एसके झा ने बताया कि कटिहार में जीआई टेग की संभावना पर फोकस डाला. उन्होंने जूट से संबंधित अवसरों को लेकर विस्तार पूर्वक जानकारी दी. मौके पर सहायक निदेशक उद्यान के ओमप्रकाश मिश्रा, सहायक निदेशक रसायन के इंद्रजीत मंडल, सहायक निदेशक कृषि अभियंत्रण कटिहार निशांत कुमार, केवीके के वैज्ञानिक पंकज कुमार, जिला गब्य विकास पदाधिकारी, जिला मत्स्य पदाधिकारी, डीडीएम नाबार्ड, जिला के प्रगतिशील किसान सहित एटीएम, बीटीएम, किसान सलाहकार समेत अन्य माैजूद थे.

नयी तकनीक से सिमेन से सहवाल नस्ल की जनेगी बाछी

पशुपालन पदाधिकारी ने किसानों को बताया कि पहली बार नयी तकनीक का सिमेन विभाग को उपलब्ध है. उन्होंने बताया कि इस सिमेन को पशुओं में देने से सहवाल नस्ले की बाछी ही जनेगी. इसके लिए शुल्क की भी चचा की गयी. इसके लिए जुलाई माह में गब्य विकास योजना के लिए किसान ऑनलाइन कर सकते हैं.

कदवा, बारसोई अमदाबाद की मिट्टी नमूना लेने में काफी पीछे

मिट्टी जांच प्रयोगशाला के सहायक निदेशक रसायन इंद्रजीत मंडल ने नये वित्तीय वर्ष के लिए विभाग से मिले मिट्टी जांच को लेकर किसानों को जानकारी दी. उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा इस बार 15 हजार का लक्ष्य है. जिसमें दस हजार पूरा हो गया है. जून 15 तक सभी लक्ष्य को पूरा कर लेने का आश्वासन दिया. इसके लिए बीटीएम, एटीएम व किसान सलाहकार को मिलकर करना है. उन्होंने मिट्टी नूमना को लेकर समेली, हसनगंज, कटिहार में बेहतर बताया. जबकि कदवा, बारसोई और अमदाबाद प्रखंड को और अधिक मेहनत करने पर जोर दिया गया.

छह सत्रों में पौधा संरक्षण विभाग चलायेगा पाठशाला

पौधा संरक्षण विभाग के सहायक निदेशक रोमी कुमारी ने बताया कि नये वित्तीय वर्ष में छह सत्रों में किसान पाठशाला लगाया जायेगा. ट्रेप लगाकर फसलों की सुरक्षा के बारे में जानकारी दी. ट्रेप लगाकर फसल सुरक्षा कीट प्रबंधन किया जा सकता है. इसमें 75 प्रतिशत अनुदान की बात बतायी गयी. कृषि अभियंत्रण के निशांत कुमार ने बताया कि राज्य सरकार की योजना के तहत समूह बनाकर यंत्र दिया जायेगा.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें