1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. kaimur
  5. kaimur cyber fraud criminals sending message to consumer to cut electricity

बिहार में साइबर ठगी के नए तरीके से सावधान, उपभोक्ताओं को बिजली काटने का भेज रहे फ्रॉड मैसेज

कैमूर में साइबर अपराधी बिजली कंज्यूमर को बकाया बिल के मैसेज के साथ एक मोबाइल नंबर और बिल जमा करने के लिए लिंक भेज रहे हैं. मैसेज में यह भी सूचित किया जा रहा है कि बिल एक सीमित अवधि तक जमा नहीं करने पर कनेक्शन काट दिया जायेगा.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
साइबर ठग उपभोक्ताओं को बिजली काटने का भेज रहे फ्रॉड मैसेज
साइबर ठग उपभोक्ताओं को बिजली काटने का भेज रहे फ्रॉड मैसेज
प्रतीकात्मक तस्वीर

कैमूर में भभुआ के वार्ड 21 के रहनेवाले सूर्यप्रकाश श्रीवास्तव बिजली उपभोक्ता हैं. शुक्रवार को उनके मोबाइल पर मैसेज आता है कि आपका बिजली कनेक्शन आज रात 9.30 बजे कट जायेगा. क्योंकि आपका पिछला बिजली बिल अपडेट नहीं हुआ है. कृपया तुरंत बिजली अफसर के नंबर 9083927186 पर संपर्क करिए. हालांकि, यह पूरा मैसेज इंग्लिश में होता है.

रिचार्ज के नाम पर उपभोक्ताओं को फंसाने का प्रयास

सूर्यप्रकाश ने बिजली कट जाने के भय से आनन-फानन में मैसेज में दिये गये नंबर पर कॉल किया. लेकिन, उधर से फोन काट दिया जाता है. पुनः उनके नंबर पर फिर से एक मैसेज भेजा जाता है कि आप जल्द से जल्द दिये गये लिंक से पैसे जमा कर दीजिए. लेकिन, इतनी प्रकिया पर पढ़े-लिखे सूर्यप्रकाश चौकन्ने हो गये और जब उन्होंने पता किया, तो विद्युत विभाग द्वारा बताया गया कि साउथ बिहार पावर लिमिटेड इस प्रकार से उपभोक्ताओं को मैसेज नहीं भेजती. गौरतलब है कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगने के बाद से रिचार्ज के नाम पर भभुआ शहर में भी उपभोक्ताओं को फंसाने का प्रयास साइबर ठगों द्वारा अब शुरू कर दिया गया है.

बिजली कनेक्शन काटने का दिखाया जा रहा डर 

साइबर अपराधी बिजली कंज्यूमर को बकाया बिल के मैसेज के साथ एक मोबाइल नंबर और बिल जमा करने के लिए लिंक भेज रहे हैं. मैसेज में यह भी सूचित किया जा रहा है कि बिल एक सीमित अवधि तक जमा नहीं करने पर कनेक्शन काट दिया जायेगा. मैसेज में दिये गये नंबर पर कॉल करने पर फोन काट दिया जाता है और फिर एक मैसेज भेजा जाता है कि आप दिये गये लिंक से पैसे जमा कीजिए. लिंक के जरिये उपभोक्ताओं से ओटीपी भी लिया जाता है.

साइबर ठग एनीडेस्क एप भी करा रहे डाउनलोड

जानकारी के अनुसार, साइबर अपराधी लोगों को बिल जमा करने के लिए व्यूअर एप या एनीडेस्क एप डाउनलोड करा कर अपने खाते में 10 रुपये भेजने को कहते हैं. उपभोक्ता द्वारा बताये गये एप के माध्यम से रकम ट्रांसफर कर देने पर अपराधी उनके खाते को अपने नियंत्रण में कर मनचाही रकम अपने खाते में स्थानांतरित कर लेते हैं. बिजली कंपनी ने उपभोक्ताओं को ऐसे फ्रॉड मैसेज करने वाले लोगों से सावधान रहने की सलाह दी है. कहा कि वे ऐसे मैसेज से सतर्क रहें. साथ ही ऐसी किसी भी जानकारी के लिए स्थानीय बिजली विभाग के कार्यालय से तुरंत संपर्क करें.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें