27.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

गया-राजगीर के बाद अब नवादा में हर घर पहुंचेगा गंगाजल, सीएम नीतीश कुमार इस दिन करेंगे उद्घाटन

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 15 दिसंबर को नवादा में गंगा जल आपूर्ति योजना का लोकार्पण करेंगे. गंगा जल आपूर्ति योजना के पहले चरण में गया, बोधगया और राजगीर में सीएम ने इस योजना का 2022 में उद्घाटन किया था. अब दूसरे चरण में नवादा शहर में हर घर गंगाजल की आपूर्ति की जायेगी.

बिहार में गंगा जल आपूर्ति योजना के दूसरे चरण में नवादा शहर में हर घर गंगाजल की आपूर्ति की जायेगी. इसका लोकार्पण मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आगामी 15 दिसंबर को नवादा में करेंगे. जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने सोमवार को यह जानकारी दी. उन्होंने सोमवार को नवादा के भौरा में इस योजना के कार्यों का स्थल निरीक्षण किया और लोकार्पण की तैयारियों की समीक्षा की. इस दौरान अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद सहित जल संसाधन विभाग के वरीय अधिकारीगण मौजूद थे. संजय झा ने कहा कि मुख्यमंत्री के दूरगामी जल जीवन हरियाली अभियान के तहत गंगा नदी की बाढ़ के पानी को जल संकट वाले शहरों में ले जाकर पेयजल के रूप में उपयोग करने की परिकल्पना को जमीन पर उतारा गया है.

योजना के पहले चरण में गया-राजगीर में हुआ था उद्घाटन

संजय झा ने बताया कि गंगा जल आपूर्ति योजना के तहत पहले चरण में गया, बोधगया और राजगीर शहरों में शुद्ध पेयजल के रूप में हर घर गंगा जल की आपूर्ति हो रही है. पहले चरण के कार्यों का मुख्यमंत्री ने नवंबर 2022 में लोकार्पण किया था. इस वर्ष राजगीर मलमास मेला में पहुंचे करीब दो करोड़ और गयाजी धाम में पितृपक्ष महासंगम में पहुंचे करीब 15 लाख श्रद्धालुओं ने भी गंगा जल का उपयोग किया.

Undefined
गया-राजगीर के बाद अब नवादा में हर घर पहुंचेगा गंगाजल, सीएम नीतीश कुमार इस दिन करेंगे उद्घाटन 2

टंकी में जमा होगा एक लाख गैलन पानी

इधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संभावित कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन पूरी तत्परता से योजनाओं को अंतिम रूप देने में जुट गया है. कंस्ट्रक्शन के एक अधिकारी ने बताया कि प्रोजेक्ट के तहत शहर में अंडरग्राउंड टैंक का हो रहा निर्माण लगभग पूरा हो चुका है. इस निर्माण को पूरा करने के लिए 200 से 250 मजदूर युद्धस्तर पर लगे हुए हैं. समय सीमा से पहले निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाएगा। भूमिगत टैंक का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है. इस टैंक की लंबाई और चौड़ाई 10.50/11.50 मीटर है. भूमिगत टैंक की ऊंचाई 23 फीट है. यह टैंक जमीन के 18 फीट नीचे और 5 फीट ऊपर है. इस पानी टंकी में कुल एक लाख गैलन पानी एकत्रित होगा और शहर के पुराने 23 वार्डों में पानी की आपूर्ति की जायेगी. निर्माण अधिकारी ने बताया कि जो नया भूमिगत पानी का टैंक बनाया जा रहा है, उससे पहले से काम कर रहे टैंक में पानी की सप्लाई की जाएगी और वहां से शहर को पानी की समुचित व्यवस्था की जाएगी.

कई स्थानों पर बनाए जा रहे वाटर पोस्ट

इसके साथ ही शहर में कई स्थानों पर वाटर पोस्ट बनाये जा रहे हैं, जिसमें पीने के लिए गंगाजल की आपूर्ति की जायेगी. वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट के माध्यम से शहर के अंदर घरों तक पेयजल के रूप में गंगाजल पहुंचाया जा रहा है. डीएम आशुतोष कुमार वर्मा ने योजना को अंतिम रूप देने के लिए अधिकारियों को अल्टीमेटम दे रखा है. शहर के अंदर प्रखंड कार्यालय के निकट, भगत सिंह चौक, समाहरणालय प्रजातंत्र चौक के पास, सूचना जनसंपर्क कार्यालय के निकट वाटर पोस्ट बनाया गया है. यहां सप्लाइ के माध्यम से गंगा का पानी पेयजल के रूप में आम लोगों को उपलब्ध हो पायेगा.

पाइपलाइन बिछाने का काम पूरा

वाटर पोस्ट तक पानी की सप्लाइ बनाने को लेकर जमीन में गड्ढा करके पाइपलाइन बिछाने का काम पूरा कर लिया गया है. वाटर पोस्टर का निर्माण करके उसमें टाइल्स मार्बल आदि लगाये गये हैं. शहर के अंदर बनाये गये वाटर पोस्ट में पानी का टेप लगाया गया है. इससे आम लोगों को गंगा का जल साफ करके पीने के लिए उपलब्ध कराया जायेगा. सदर प्रखंड के पौरा गांव में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बनाया गया है, जहां से गंगाजल को फिल्टर करके लोगों को पीने के लिए घरों तक आपूर्ति की जायेगी. जिला प्रशासन की ओर से योजना को अंतिम रूप देने के लिए टास्क दिया गया है. इसे पूरा करने के लिए सभी अधिकारी जुटे हैं. शहर के अंदर निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए अधिकारी रात दिन जुटे हुए हैं. नगर पर्षद के अधिकारियों ने कहा कि पेयजल आपूर्ति के लिए वाटर पोस्ट निर्माण कार्य लगभग पूरा कर लिया गया है. प्रजातंत्र चौक के निकट बनाये गये यात्री शेड की मरम्मत करायी जा रही है.

समाहरणालय परिसर को किया जा चकाचक

मुख्यमंत्री के कार्यक्रम को लेकर समाहरणालय परिसर को भी चकाचक किया जा रहा है. मुख्य द्वार में लगे बोर्ड के अलावा परिसर के अंदर के कार्यालय को भी सुंदर रूप दिया जा रहा है. मुख्यमंत्री का काफिला समाहरणालय के पास संभव है कि रुके. पौरा गांव में जलापूर्ति योजना के फिल्टर प्लांट का उद्घाटन इसी रास्ते से होकर जाकर करना है. प्रशासन के अधिकारी इस रास्ते के सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करते हुए दिख रहे हैं. समाहरणालय परिसर में सभी कार्यालयों के अंदर साफ-सफाई और जरूरी व्यवस्थाएं बनायी जा रही है.

Also Read: गांव की आबादी 1200 से अधिक फिर भी नहीं कोई स्कूल, फरियादी की समस्या पर सीएम नीतीश कुमार ने दिया निर्देश

घरों तक पानी पहुंचाने के लिए दिया गया है टास्क

डीएम के द्वारा जलापूर्ति योजना के तहत सभी घरों तक गंगा जलापूर्ति योजना का सफल संचालन को लेकर पीएचइडी और आने संबंधित विभाग के अधिकारियों को टास्क दिया गया है. शहर में बनाये गये चार संप हाउस के माध्यम से सभी घरों तक वाटर की सप्लाइ होगी. बनाये गये संप हाउस को भी दुरुस्त बनाकर अंतिम रूप देने के लिए सोमवार तक का समय डीएम ने दिया है.

Also Read: बिहार में लैंड कन्वर्जन पोर्टल शुरू, ऑनलाइन आवेदन कर कृषि भूमि को करा सकेंगे कमर्शियल, जानिए कैसे…

ड्रीम प्रोजेक्ट में है शामिल

मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट गंगाजल परियोजना के तहत शहर के हर एक घरों में गंगाजल की सप्लाय दी जाएगी. पौरा में बना रहे पानी संयंत्र से भूमिगत टंकी में पानी लाया जाएगा. और इस टंकी के माध्यम से लोगों के घरों तक गंगाजल पहुंचाया जाएगा. टंकी का निर्माण कर पिछले 6 महीना से लगातार जारी है. पानी की सप्लाई के लिए परिसर के अंदर दो ट्रांसफार्मर स्पेशली प्रोजेक्ट के लिए लगाया गया है. ट्रांसफार्मर से सप्लाई सिर्फ प्रोजेक्ट में ही दिया जाएगा. ताकि आने वाले समय में किसी भी तरह का कोई भी दिक्कत का सामना न करना पड़े. और सुचारू रूप से गंगाजल की सप्लाई हो सके. दी गई अवधि से पहले पूरी कर लिया जाएगा. मुख्यमंत्री के आगमन की संभावित तिथि 15 दिसंबर निर्धारित है इसके लिए 12 दिसंबर को इसे हैंडओवर कर दिया जायेगा.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें