1. home Home
  2. sports
  3. cricket
  4. india vs new zealand t20i rahul dravid rohit sharma will have excellent coordination aml

India vs New Zealand T20I: राहुल द्रविड़-रोहित शर्मा के बीच होगा बेहतरीन तालमेल, पूर्व दिग्गज का दावा

गावस्कर ने कहा कि अगर आप उन दोनों के स्वभाव को देखें तो वे काफी समान हैं. रोहित राहुल द्रविड़ की तरह ही शांत स्वभाव के हैं. इसलिए मुझे लगता है कि उनका तालमेल काफी अच्छा होगा क्योंकि दोनों एक-दूसरे को अच्छी तरह समझेंगे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Rahul Dravid and Rohit Sharma
Rahul Dravid and Rohit Sharma
Twitter

नयी दिल्ली : भारत के पूर्व कप्तान और दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर का मानना है कि टीम इंडिया के नये मुख्य कोच राहुल द्रविड़ और टी-20 कप्तान रोहित शर्मा के बीच अच्छा तालमेल होगा क्योंकि दोनों का 'स्वभाव' काफी हद तक एक जैसा है. जयपुर में बुधवार से शुरू हो रही तीन मैचों की टी-20 सीरीज में भारत और न्यूजीलैंड के बीच आमना-सामना होगा. मुख्य कोच द्रविड़ और पूर्णकालिक टी20 इंटरनेशनल कप्तान रोहित के लिए यह पहला कार्यभार है.

गावस्कर ने स्टार स्पोर्ट्स शो फॉलो द ब्लूज में कहा कि अगर आप उन दोनों के स्वभाव को देखें तो वे काफी समान हैं. रोहित राहुल द्रविड़ की तरह ही शांत स्वभाव के हैं. इसलिए मुझे लगता है कि उनका तालमेल काफी अच्छा होगा क्योंकि दोनों एक-दूसरे को अच्छी तरह समझेंगे. गावस्कर ने कहा कि जब वह खेलते थे तो हम सोचते थे कि जब तक राहुल द्रविड़ क्रीज पर हैं, तब तक भारतीय बल्लेबाजी सुरक्षित और मजबूत है.

उन्होंने कहा कि यही कारण है कि मेरा मानना ​​​​है कि मुख्य कोच की नयी जिम्मेदारी जो उन पर आयेगी, वह बेहतर कर सकेंगे इसे इसी तरह से संभालेंगे जैसे बल्लेबाज के तौर पर पारी को संभालते थे. भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को को भी लगता है कि निश्चित है कि द्रविड़ एक बहुत ही सफल कोच बनेंगे क्योंकि वह ड्रेसिंग रूम में आने के साथ बहुत सारे आश्वासन लाते हैं.

गंभीर ने कहा कि वह एक बहुत सफल खिलाड़ी थे, फिर वह एक बहुत ही सफल कप्तान बन गये और मुझे यकीन है कि वह एक बहुत ही सफल कोच भी बनने जा रहा है. उस ड्रेसिंग रूम में उसके साथ, मुझे लगता है कि वह बहुत आश्वासन लाते हैं, उन्होंने 100 से अधिक टेस्ट मैच खेले हैं और उनके अनुभव से टीम को काफी फायदा होगा.

द्रविड़ ने भारत के लिए एक क्रिकेटर के रूप में काफी समय बिताया है. वे देश के महानतम बल्लेबाजों में से एक हैं. उन्होंने इंग्लैंड और वेस्ट इंडीज में टेस्ट सीरीज जीत के लिए भारत की कप्तानी की और 164 मैचों में 13288 रन के साथ टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में चौथे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं. उन्होंने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 10,000 से अधिक रन बनाए और 2003 के आईसीसी विश्व कप के फाइनल में पहुंचने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें