1. home Hindi News
  2. religion
  3. sawan somvar 2020 puja vidhi these 10 mantras of lord shiva which will be fulfilled by chanting all your wishes

Sawan Somvar 2020, Puja Vidhi: भगवान शिव के ये 10 मंत्र, जिसे जाप करने से सभी मनोकामनाएं होगी पूर्ण

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
सावन की पहली सोमवारी आज, ऑनलाइन दर्शन दे रहे बाबा भोलेनाथ
सावन की पहली सोमवारी आज, ऑनलाइन दर्शन दे रहे बाबा भोलेनाथ
twitter

Sawan Somvar 2020, Vrat, Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Katha, Puja Time, Mantra, Aarti, Shiv Chalisa in Hindi : सावन का महीना शुरू हो गया है. सावन महीने में सोमवार दिन का काफी महत्व है. इस दिन भक्त उपवास रखकर भगवान शिव का जलाभिषेक करते है. सावन महीना 06 जुलाई से ही प्रारंभ हो चुका है. वहीं सावन माह का पहला सोमवार भी बीत चुका है. अब शिव भक्त दूसरे सोमवार का इंतजार कर रहे है. सावन महीने का दूसरा सोमवार 13 जुलाई को है.

इस बार सावन महीने की शुरुवात ही सोमवार के दिन से हुआ है. वहीं, सावन की समाप्ति भी सोमवार के दिन ही हो रही है. सावन महीने की शुरुआत और समाप्ति दोनों ही सोमवार के दिन हो रहा है. सावन भगवान शिव की उपासना का महीना माना जाता है. श्रावण मास के सोमवार बहुत ही सौभाग्यशाली माने जाते हैं. मान्यता है कि सावन सोमवार की व्रत रखने से सभी तरह की मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं. आइए जानते हैं श्रावण सोमवार व्रत की पूजा विधि, कथा, मुहूर्त और मंत्र...

कब-कब पड़ रहे हैं सावन के सोमवार

- सावन का पहला सोमवार 06 जुलाई 2020 जो बीत चुका है.

- सावन का दूसरा सोमवार 13 जुलाई 2020

- सावन का तीसरा सोमवार 20 जुलाई 2020

- सावन का चौथा सोमवार 27 जुलाई 2020

- सावन का पांचवा सोमवार 03 अगस्त 2020

ऐसे करें पूजा

इस महीने में सुबह जल्दी उठें और स्नान करके साफ कपड़े पहनकर भगवान शिव की पूजा करें.

- पूजा स्थान की अच्छी तरह साफ-सफाई करें, और वहां गंगाजल का छिड़काव करें.

- आसपास के मंदिर में जाकर शिवलिंग पर जल व दूध का अभिषेक भी करें.

- इसके बाद भगवान शिव और शिवलिंग को चंदन का तिलक लगाएं.

- इसके बाद भगवान शिव को सुपारी, पंच अमृत, नारियल, बेल पत्र, धतूरा, फल, फूल आदि अर्पित करें.

- अब दीपक जलाएं और भगवान शिव का ध्यान लगाएं.

- इसके बाद शिव कथा व शिव चालीसा का पाठ कर, महादेव की आरती करें.

शिव के अन्य प्रभावशाली मंत्र

- ओम साधो जातये नम:।।

- ओम वाम देवाय नम:।।

- ओम अघोराय नम:।।

- ओम तत्पुरूषाय नम:।।

- ओम ईशानाय नम:।।

-ॐ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय।।

रूद्र गायत्री मंत्र

ॐ तत्पुरुषाय विदमहे, महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्र: प्रचोदयात्।।

महामृत्युंजय गायत्री मंत्र

– ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्द्धनम्‌।

उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्‌ ॐ स्वः भुवः ॐ सः जूं हौं ॐ ॥

महामृत्युंजय मंत्र

– ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।

उर्वारुकमिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

शिव जी का मूल मंत्र

– ऊँ नम: शिवाय।।

इस मंत्र का जाप करने से हर प्रकार की समस्या से छुटकारा मिलता है.

News posted by : Radheshyam kushwaha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें