29.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Sawan 2024: सावन में हरी चुड़ी और साड़ी क्यों पहनी जाती है, जानें पटना के ज्योतिषाचार्य से इसका धार्मिक महत्व

Sawan 2024: सावन माह भगवान शिव को समर्पित होता है. लेकिन सावन मास में हरे रंग का अधिक प्रयोग क्यों किया जाता है. आप देखते होंगे कि सावन का महीना शुरू होते ही महिलाएं हाथों में हरी-हरी चूड़ियां और साड़ी पहनती हैं. हर किसी के मन में यह सवाल उठता है कि आखिरकार सावन मास में हरे रंग का इतना महत्व क्यों है. यह बात हर कोई जानना चाहता है कि सावन में हरी चूड़ी और साड़ी का आखिर इतना महत्व क्यों है…

Sawan 2024: सावन के महीने में आपने देखा होगा कि हरे रंग के कपड़े और हरे रंग की चूड़ियां ही पहनी जाती है. अक्सर महिलाएं हरे रंग की चूड़ी और हरे रंग के कपड़े पहनती हैं. आज हम आपको बताएंगे कि आखिर सावन के महीने में हरा रंग क्यों पहना जाता है. सावन में हरे रंग को क्यों शुभ माना जाता है. सावन के महीने में हरे रंग की चूड़ियां का आखिर इतना महत्व क्यों होता है. आइए जानते है सावन महीने में हरे रंग धार्मिक महत्व क्या है-

सावन में हरियाली के फायदें

पटना के ज्योतिषाचार्य श्रीपति त्रिपाठी ने प्रभात खबर को बताया कि सावन मास में हरे रंग का बहुत सारे फायदें हैं. भगवान भोलेनाथ को हरियाली बहुत ज्यादा पसंद है और इनका विधि विधान के साथ पूजन भी सावन मास में किया जाता है. अगर आप हरे रंग का कपड़ा पहनते हैं तो इससे आपका मन भी प्रसन्न रहता है. इसलिए सावन महीने में विशेष रूप से हरे रंग का खास महत्व होता है. सावन में हरियाली तीज का व्रत भी रखा जाता है. महिलाएं सावन में हरे रंग की चूड़ियां पहनना पसंद करती हैं. वहीं हरे रंग की साड़ी सलवार सूट सब कुछ हरे रंग का ही पहनती हैं. सावन के महीने में बारिश की वजह से आसपास का वातावरण में हरियाली होती है. चारों तरफ हरे भरे पेड़ पौधे आंखों को सुकून देते हैं

हरे रंग का धार्मिक महत्व

हरे रंग का धार्मिक महत्व बहुत ही ज्यादा है. सावन में विशेष रूप से भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा होती है. पूजा में विवाहित महिलाएं माता पार्वती को 16 श्रृंगार का सामान में हरी रंग की चूड़ियां अर्पित करती हैं. ऐसा भी कहा जाता है कि हरा रंग पति और पत्नी के बीच प्रेम को बढ़ाता है. इसीलिए सावन के महीने में हरे रंग की चूड़ियां और कपड़े पहनने की भी परंपरा है. हरे रंग को सुहाग का प्रतीक भी माना गया है. इस महीने में महीलाएं हरियाली तीज का व्रत रखकर देवों के देव महादेव और माता पार्वती जी की पूजा करती हैं. हरियाली तीज व्रत में हरा रंग का कपड़ा ही पहना जाता है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सावन मास में हरे रंग का कपड़ा पहनने पर बुध ग्रह का दोष दूर होता है. हरे रंग के कपड़े पहनने से कुंडली में बुध ग्रह मजबूत होते है.

Also Read:Rahu Ketu Dosh ke Upay: राहु-केतु और मंगल दोष के साथ शनि के प्रकोप से भी मिलेगी मुक्ति, सिर्फ घर के बाहर लगा दें ये पौधा

कुंडली में बुध ग्रह होते हैं मजबूत

ज्योतिषाचार्य श्रीपति त्रिपाठी कहा कि जिस व्यक्ति की कुंडली में बुध ग्रह मजबूत होते है. कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति मजबूत होने से आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. सावन के महीने में हरे रंग के कपड़े पहनने से भाग्य प्रभावित होता है. सावन के महीने में हरे रंग का कपड़ा पहनने पर सोया हुआ भाग्य जाग जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हरे रंग को सौभाग्य का प्रतीक भी माना गया है. सावन के महीने में हरे रंग के कपड़े और हरे रंग की चूड़ियों को पहनने का नियम प्राचीन काल से ही चल रहा है. पहले के समय में भी लोग सावन महीने में हरे रंग की चूड़ियां और हरे कपड़े ही पहनते थे.

सावन में हरा रंग के कपड़े पहनने पर होती है सौभाग्य में वृद्धि

ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से सौभाग्य में वृद्धि होती है, जो लोग सावन के महीने में हरे रंग के कपड़े पहनते हैं. उनपर भोले बाबा अत्यंत प्रसन्न रहते हैं. वहीं सावन के महीने में हरे रंग की चूड़ियां पहनने वाली महिलाओं पर भगवान विष्णु की कृपा भी बरसती है. कुछ ज्योतिष यह भी मानते हैं कि हर रंग प्रकृति का प्रतीक है. सभी रंग प्रकृति से जुड़ा हुआ है, जिसके कारण इसका सीधा असर आपके भाग्य पर पड़ता है. सावन के महीने में महिलाओं को हरा रंग पहनना चाहिए. इससे उनके सुहाग की सलामती रहती है और भगवान भोलेनाथ का आशीर्वाद भी मिलता है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें