Advertisement

ranchi

  • Oct 11 2018 6:37AM

आज ओड़िशा के तट से टकरायेगा चक्रवाती तितली तूफान, झारखंड मे बारिश शुरू

आज ओड़िशा के तट से टकरायेगा चक्रवाती तितली तूफान, झारखंड मे बारिश शुरू
भुवनेश्वर/रांची : बंगाल की खाड़ी पर बन रहे दबाव के कारण आये चक्रवाती तूफान ‘तितली’ ने बुधवार को प्रचंड रूप ले लिया. तूफान ओड़िशा और आंध्र प्रदेश तट की ओर बढ़ रहा है. यह तूफान 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है. मौसम विभाग के अनुसार, गुरुवार की सुबह तक इसकी तीव्रता और बढ़ेगी और 145 किमी तक की रफ्तार से हवाएं चलने के आसार हैं. 
 
अभी यह तूफान ओड़िशा के गोपालपुर के दक्षिण-पूर्व से करीब 280 किमी दूर है. चक्रवात ‘तितली’ गुरुवार की सुबह ओड़िशा-आंध्र तट से टकरा सकता है.  तूफान तितली का झारखंड के कई हिस्सों में असर दिखने लगा है. मौसम बदल चुका है. रांची में बुधवार रात हल्की फुहार भी शुरू हुई.
 
माैसम विभाग का अलर्ट : मौसम विभाग ने 11 अक्तूबर (गुरुवार) को मध्य झारखंड (यथा  रांची, बोकारो, गुमला, हजारीबाग, खूंटी व रामगढ़) तथा दक्षिणी झारखंड  (पूर्वी और पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला व सिमडेगा) में भारी वर्षा की चेतावनी जारी की है. वहीं विभाग के अनुसार 12 अक्तूबर  (शुक्रवार) को मध्य व दक्षिणी झारखंड के अलावा देवघर, धनबाद, दुमका, गिरिडीह, गोड्डा,  जामताड़ा, पाकुड़ व साहेबगंज में एक-दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है.  
 
मौसम विभाग ने कहा है कि इन जिलों में 65 से लेकर 115 मिमी तक बारिश हो सकती है. मौसम विभाग अनुसार शनिवार से लोगों को राहत मिलेगी. 
 
उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ेगी तितली
 
साइक्लोन तितली बंगाल की खाड़ी में आया है. इसका केंद्र ओडिशा का गोपालपुर और आंध्रप्रदेश का कलिंगापटट्नम जिला है. इससे उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ने की उम्मीद है. धीरे-धीरे एक-दो दिनों में इसके कमजोर होने की उम्मीद है. रांची स्थित मौसम केंद्र के निदेशक बीके मंडल के अनुसार झारखंड के करीब-करीब सभी जिलों में इसका असर रहेगा. कहीं आंशिक और कहीं-कहीं व्यापक असर रहने की उम्मीद है.
 
इसके मद्देनजर ओड़िशा सरकार ने पांच तटीय जिलों में लोगों से घरों को खाली करा लिया है. एनडीआरएफ और ओडीआरएएफ की टीम को तैनात कर दिया है. इन इलाकों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है. बुधवार को तटीय ओड़िशा के कुछ इलाकों में बारिश हुई. मौसम विभाग ने शुक्रवार तक कई इलाकों में भारी से बहुत भारी वर्षा और कुछ इलाकों में अत्यधिक भारी बारिश का अनुमान जताया है.  
 
इधर, मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बुधवार को हालात का जायजा लिया. पटनायक ने राज्यभर में भारी बारिश के अनुमान के मद्देनजर सभी स्कूलों, कॉलेजों और आंगनवाड़ी केंद्रों को गुरुवार और शुक्रवार को बंद रखने के आदेश दिये हैं. गुरुवार को होने वाले कॉलेज छात्र संघ चुनाव भी रद्द कर दिये गये हैं. मुख्य सचिव ने बताया कि गंजम के जिला प्रशासन ने गोपालपुर इलाके में पहले ही लोगों से घरों को खाली कराना शुरू कर दिया है. अभी तक 1,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है.
 
सूबे में आज व कल 115.5 मिमी बारिश की आशंका

गुरुवार को इन जिलों में होगी बारिश
 
मध्य झारखंड (यथा  रांची, बोकारो, गुमला, हजारीबाग, खूंटी और रामगढ़) तथा दक्षिणी झारखंड  (पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला और सिमडेगा)  
 
शुक्रवार को इन जिलों में बारिश संभव
 
मध्य व दक्षिणी झारखंड के अलावा देवघर, धनबाद, दुमका, गिरिडीह, गोड्डा,  जामताड़ा, पाकुड़ व साहेबगंज में एक-दो स्थानों पर बारिश हो सकती है.
 
झारखंड के सभी जिलों में इसका असर रहेगा. कहीं आंशिक और कहीं-कहीं व्यापक असर रहने की उम्मीद है.
बीके मंडल, निदेशक मौसम केंद्र, रांची
 
ओड़िशा में तीन लाख लोगों को हटाया गया

यहां भारी बारिश संभव
 
गंजम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, खुर्दा, नयागढ़, कटक, जाजपुर, भद्रक और बालासोर.
 
300 नौकाएं तैयार 
 
जिला आपात अभियान केंद्र और नियंत्रण कक्षों को सतर्क रहने को कहा गया है. 300 इंजनयुक्त नौकाओं को तैनात किया गया है. 1,000 एनडीआरएफ कर्मी ओड़िशा, आंध्र व बंगाल में तैनात है.
 
इधर, अरब सागर में ‘लुबान’ सक्रिय
 
अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान ‘लुबान’ से दक्षिण भारत के कई हिस्सों में बारिश हो सकती है. मौसम विभाग के अनुसार, अगले तीन दिनों में लोबान दक्षिण ओमान और यमन कोस्ट की ओर बढ़ने की संभावना है. इस वजह से केरल, तमिलनाडु, पुडुचेरी में भारी बारिश हो सकती है. विभाग ने बताया कि ‘लुबान’ का गरज के साथ बौछारें और जलस्तर में वृद्धि को छोड़कर गोवा के तट पर कोई बड़ा असर नहीं होगा. विभाग अगले 24 घंटे के दौरान मछुआरों से समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है.

Advertisement

Comments

Advertisement