Advertisement

muzaffarpur

  • Sep 15 2018 5:41AM

राफेल घोटाले का सच बतायेगी कांग्रेस

राफेल घोटाले का सच बतायेगी कांग्रेस
मुजफ्फरपुर : फ्रांस से लड़ाकू विमान की खरीद में मोदी सरकार ने 41 हजार करोड़ का घोटाला किया है. समाज के प्रबुद्ध वर्ग इस बात को जानते हैं, लेकिन आम अवाम इस घोटाले से अवगत नहीं है. कांग्रेस सभी लोगों को मोदी सरकार की ओर से किये जाने वाले इस घोटाले के बारे में बतायेगी व केंद्र सरकार के झूठ का पर्दाफाश करेगी. 
 
 मोदी सरकार ने सिर्फ राफेल घोटाला ही नहीं किया है. वायुसेना से सलाह लिये बिना 126 राफेल लड़ाकू जहाजों के प्रस्तावित खरीद को घटा कर 36 कर दिया. यह देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ है. उक्त बातें सांसद डॉ अखिलेश प्रसाद सिंह ने कही. वे शुक्रवार को कांग्रेसी नेताओं की ओर से रेडक्राॅस सभागार में आयोजित राफेल घोटाला पोल खोल जन संवाद को संबोधित कर रहे थे. 
 
 सांसद ने कहा कि मोदी लड़ाकू विमान की कीमत बताने से हमेशा बचते रहे, लेकिन फ्रांस के प्रेसिडेंट ने इसकी कीमत सार्वजनिक कर दी. कांग्रेस इस मुद्दे से जनता को अवगत करा रही है, जिससे लोगों को यह समझ में आये कि राफेल घोटाले में उनकी मेहनत की कमाई का पैसा है. 
 
सांसद ने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस मजबूत हो रही है. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस मजबूती के साथ जीत पक्की करेगी. हालांकि, उन्होंने लोकल स्तर पर हो रही गुटबाजी को तत्काल दूर करने को कहा. उन्होंने कहा कि आपसी तालमेल व जनता से जुड़ कर ही कांग्रेस जिले में मजबूत हो सकती है. उन्होंने इशारे में कहा कि उन्हें यहां हाेने वाली हर गतिविधि की जानकारी है. ऐसी स्थिति में कांग्रेस का विकास नहीं होगा. 
 राजद के प्रदेश प्रवक्ता डाॅ इकबाल शमी ने कहा कि जिला नेता विहीन है. हमारी सोच में जनता के साथ जुड़ कर समाज सेवा की भावना होती तो पार्टियां मजबूत होती. अध्यक्षता महेश्वर प्रसाद सिंह ने की. 
 
 इस मौके पर सुरेश शर्मा नीरज, मुकेश त्रिपाठी, संजीव कुमार महंथ, पूर्व विधायक गुलाम जिलानी वारसी, कांग्रेस के जिला प्रभारी सूरज दास, उमेश कुमार त्रिवेदी, नवल किशोर शर्मा, अरविंद सिंह, प्रो राम प्रताप नीरज, धर्मवीर शुक्ला,  शंभु सिंह सहित अन्य नेता मौजूद थे. 
 धन्यवाद ज्ञापन संजीव कुमार महंथ ने किया.  कार्यक्रम के अंत में इं रावल ने अपने साथियों के साथ कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की. इसमें मुरारी शरण सिंह व सुनील कुमार ओझा मुख्य रूप से शामिल थे.
 

Advertisement

Comments

Advertisement