1. home Hindi News
  2. national
  3. with the increasing cases of corona black marketing of remedisvir the price of a drug is one and a half to two lakh rupees pkj

कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ बढ़ रही है रेमडेसिविर की कालाबाजारी, एक दवा की कीमत डेढ़ से दो लाख रुपये

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ बढ़ रही है रेमडेसिविर की कालाबाजारी
कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ बढ़ रही है रेमडेसिविर की कालाबाजारी
फाइल फोटो

बढ़ते कोरोना संक्रमण की बीच रेमडेसिविर की कालाबाजारी भी बढ़ने लगी है. अपनी तय कीमत से दो गुना तीन गुना नहीं 1000 गुना ज्यादा कीमत पर बेची जा रही है. इस दवा को लेकर कालाबाजारी जोरों पर है. मुंबई की क्राइम ब्रांच ने छापेमारी में 272 रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किया है. इसका इस्तेमाल कालाबाजारी में किया जाना था. इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है.

इस दवा की बढ़ती मांग का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि आजतक में चल रही एक खबर के अनुसार रेमडेसिविर की एक खुराक की कीमत डेढ़ से दो लाख रुपये तक हो गयी है. इस दवा के कई जगहों पर लंबी- लंबी लाइन लगी है तो कई जगहों पर बहुत ज्यादा पैसे खर्च करके लोग ब्लैक में खरीद रहे हैं.

एक रिपोर्ट के अनुसार इस दवा की मांग 28 मार्च से 50 गुना बढ़ी है. भारत में सात ऐसी कंपनियां हैं जो इस दवा को बनाती है और कंपनियों ने अधिक उत्पादन का आदेश दे दिया है. बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले को लेकर इस दवा की डिमांड बढ़ रही है लेकिन इसकी सप्लाई उतनी नहीं हो पा रही है. ऐसे में कई दवा दुकानदार इसकी कालाबाजी कर रहे हैं. सिर्फ महाराष्ट्र ही नहीं देश के कई राज्यों में इस दवा की किल्लत है.

देश के कई राज्यों से रेमडेसिविर के कालाबाजारी की खबरें आ रही है. मुंबई में क्राइम ब्रांच ने दो लोगों को गिरफ्तार किया तो कई राज्यों में छापेमारी जारी है. दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रेदश जैसे राज्य जहां कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी है वहां इस दवा की किल्लत ज्यादा है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें