1. home Hindi News
  2. national
  3. mns chief news non bailable warrant against raj thackeray in 2008 case by maharashtra court smb

MNS चीफ राज ठाकरे की बढ़ीं मुश्किलें, 2008 के मामले में कोर्ट ने जारी किया नॉन बेलेबल वारंट

महाराष्ट्र में जारी लाउडस्पीकर और हनुमान चालीसा को लेकर जारी विवाद के बीच महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे की परेशानी बढ़ने वाली है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
MNS Chief Raj Thackeray News: राज ठाकरे के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, जानें क्या है मामला
MNS Chief Raj Thackeray News: राज ठाकरे के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, जानें क्या है मामला
फाइल

MNS Chief Raj Thackeray News: महाराष्ट्र में जारी लाउडस्पीकर और हनुमान चालीसा को लेकर जारी विवाद के बीच महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे की परेशानी बढ़ने वाली है. दरअसल, मनसे चीफ राज ठाकरे के खिलाफ बीड जिले की परली कोर्ट ने 2008 के एक मामले में नॉन बेलेबल वारंट जारी किया है. उधर, बॉम्बे हाईकोर्ट में एक याचिका दायर कर राज ठाकरे के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का केस दायर करने का निर्देश देने की मांग की गई है.

जानें क्या है मामला

बता दें कि साल 2008 में मनसे कार्यकर्ताओं ने राज ठाकरे के समर्थन में परिवहन निगम की बसों पर पथराव कर दिया था. इस घटना को लेकर पुलिस ने केस दर्ज किया था. इस संबंध में मामला दर्ज किया गया था. अब इसी मामले को लेकर कोर्ट ने मनसे चीफ राज ठाकरे के खिलाफ नॉन बेलेबल वारंट जारी किया है. बताया जा रहा है कि परिवहन निगम बसों पर पथराव के मामले की सुनवाई कोर्ट में शुरू होने के बाद राज ठाकरे को अकसर कोर्ट में पेश होने के लिए कहा जाता था. हालांकि, राज ठाकरे किसी भी सुनवाई में शामिल नहीं हुए. जमानत के बावजूद लगातार तारीखों पर हाजिर नहीं होने पर गैर जमानती वारंट जारी किया गया.

लाउडस्पीकर मामले में भी बढ़ने वाली है परेशानी

इधर, राज ठाकरे के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में एक याचिका दायर कर राष्ट्रद्रोह का केस दायर करने का निर्देश देने की मांग की गई है. याचिका पुणे के एक्टिविस्ट हेमंत पाटिल ने दायर की है. इसमें कहा गया है कि राज ठाकरे के खिलाफ देशद्रोह का केस दायर करने के लिए महाराष्ट्र सरकार व मुंबई पुलिस को निर्देश दिया जाए. इसके पीछे वजह बताते हुए याचिका में कहा गया है कि राज ने 1 मई को औरंगाबाद रैली के जरिए अशांति फैलाने का प्रयास किया. याचिका में कहा गया है कि कि ठाकरे ने औरंगाबाद रैली में एनसीपी चीफ शरद पवार के खिलाफ बात की, जिससे पार्टी कार्यकर्ताओं में अशांति हो सकती है और इससे राज्य में शांति भंग हो सकती है.

औरंगाबाद में दर्ज की जा है चुकी FIR

बता दें कि राज ठाकरे के भाषण के बाद औरंगाबाद पुलिस ने उनकी रैली के वायरल वीडियो को देखकर मनसे प्रमुख के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. राज ठाकरे ने 3 मई तक मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने का अपना अल्टीमेटम दोहराया था, जिसमें विफल रहने पर वे 4 मई से अजान की तुलना में दोगुनी मात्रा में हनुमान चालीसा बजाएंगे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें