1. home Home
  2. national
  3. kisan andolan delhi remove barricading started from gazipur border rahul gandhi tweet amh

Kisan Andolan: 'अभी तो सिर्फ दिखावटी बैरिकेड हटे, जल्द ही तीनों कृषि विरोधी कानून भी हटेंगे',बोले राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया है. उन्होंने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि अभी तो सिर्फ़ दिखावटी बैरिकेड हटे हैं, जल्द ही तीनों कृषि विरोधी क़ानून भी हटेंगे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
राहुल गांधी ने किया किसानों के समर्थन में ट्वीट
राहुल गांधी ने किया किसानों के समर्थन में ट्वीट
pti

Kisan Andolan: केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सभी सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों की वजह बंद पड़े रास्तों को दिल्ली पुलिस ने बहाल कर दिया है. गुरुवार को टीकरी बॉर्डर का एक रास्ता खोल दिया गया जिसके बाद आज दिल्ली पुलिस गाजीपुर बॉर्डर पर लगे बैरिकेडिंग हटा रही है.

राहुल गांधी का ट्वीट

इस घटनाक्रम पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया है. उन्होंने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि अभी तो सिर्फ़ दिखावटी बैरिकेड हटे हैं, जल्द ही तीनों कृषि विरोधी क़ानून भी हटेंगे...अन्नदाता सत्याग्रह ज़िंदाबाद! यहां चर्चा कर दें कि दिल्ली-यूपी बॉर्डर के पास गाजीपुर में किसानों के आंदोलन स्थल से दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को बैरिकेडिंग तथा कांटेदार तार हटाना शुरू कर दिया है.

कब लगाया गया था बैरिकेड्स

केन्द्र के तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों की 26 जनवरी को दिल्ली में ‘ट्रैक्टर परेड' के दौरान हुई हिंसा के बाद, पुलिस ने वहां लोहे तथा सीमेंट के बैरिकेड्स और कांटेदार तार लगा दिए थे. पुलिस अधिकारी और मजदूर गाजीपुर में राष्ट्रीय राजमार्ग-9 पर लगाई गई लोहे की कीलों को भी हटाते हुए देखे गए, जहां सैकड़ों किसान नवंबर 2020 से सड़क़ों पर डटे हैं. ज्यादातर किसान भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) से संबद्ध हैं.

क्या कहा था सुप्रीम कोर्ट ने

कृषि कानूनों के खिलाफ विभिन्न किसान संगठनों के प्रदर्शन की अगुवाई संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) कर रहा है. अवरोधक हटाने का काम सुप्रीम कोर्ट के 21 अक्टूबर के निर्देश के बाद किया जा रहा है, जिसमें कोर्ट ने दिल्ली के सीमावर्ती सिंघू, टिकरी और गाजीपुर में विरोध प्रदर्शनों के कारण बाधित सड़कों को खोलने को कहा था. कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों का कहना है कि ये कानून किसानों के हित में नहीं हैं, जबकि केन्द्र सरकार इन्हें किसान-समर्थक बता रही है.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें