1. home Hindi News
  2. national
  3. india china faceoff the battalion which is a hero in kargil war monitor china border respond to every challenge on lac rjh

भारत- चीन सीमा की निगरानी अब ये बटालियन करेगी, जानें क्या है खासियत...

By संवाद न्यूज एजेंसी
Updated Date
India china faceoff
India china faceoff
File photo

देहरादून : वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन की चालबाजी के बाद सेना ने सतर्कता बढ़ा दी है. एलएसी पर चीन मौका देखकर घुसपैठ की कोशिश करता रहा है. चीन की हाल की गतिविधियों के मद्देनजर भारतीय सेना ने पथौरागढ़ से लगती लिपुलेख सीमा पर अब तैनाती बढ़ा दी है. अब चीन की इस सीमा पर कारगिल में हीरो रही बटालियन ने मोर्चा संभाल लिया है. लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सेना की नापाक हरकत के बाद से ही सेना खास रणनीति के तहत बटालियनों की तैनाती कर रही है.

सेना के सूत्रों के मुताबिक कारगिल युद्ध में अग्रिम मोर्चे पर पाकिस्तान के दांत खट्टे करने वाली एक बटालियन को लिपुलेख में तैनात किया गया है. यह बटालियन अपने बेहतरीन युद्ध कौशल के लिए जानी जाती है. कारगिल युद्ध के समय इस बटालियन ने पाक समर्थित आतंकवादियों और पाक सेना को नाकों चने चबवा दिए थे. इसके अलावा अर्द्धसिनक बलों को भी जरुरत के हिसाब से तैनात कया गया है. लिपुलेख सीमा पर नाभीढांग से लिपुलेख तक 8 किलोमीटर के दायरे में सेना और सुरक्षा बलों को चौकस किया गया है.

नेपाल सीमा पर भी बढ़ाई गई गश्त

चीन के उकसावे पर नेपाल के बदले तेवर के बाद भारतीय सेना सतर्क है. नेपाल सीमा पर किसी भी तरह की घुसपैठ को रोकने के लिए भारतीय सुरक्षा बलों की टुकड़ी चौबीस घंटे अत्याधुनिक उपकरणों के साथ गश्त कर रही है. सूत्रों के मुताबिक हाल के दिनों में गश्त को तेज किया गया है.

सुरक्षा एजेंसियों को जानकारी मिली है कि नेपाल सशस्त्र प्रहरी बल चीन सीमा पर तिंकर, कौआ और सुनसेरा में नई बीओपी खोलने की तैयार कर रहा है. इससे पूर्व नेपाल दार्चुला जिले में लाली, जौलजीबी, दंतु, और दुमलिंग में बीओपी खोल चुका है. साथ ही नेपाल दार्चुला जिले के खलंगा में गण (हेडक्वार्टर) और छांगरु में गुल्म (कंपनी) की स्थापना कर चुका है. नेपाल ने भारतीय सीमा से सटे क्षेत्रों में पैदल रास्तों का निर्माण भी तेज कर दिया है. इसके बाद से भारतीय सेना ने चौकसी बढ़ाई है.

महत्वपूर्ण ठिकानों की खुफियागिरी की आशंका

सेना को आशंका है कि बीओपी खुलने के बाद नेपाल काली नदी के इस पार गुंजी के मनीला जगह पर भारत के कई महत्वपूर्ण सरकारी कार्यालयों के साथ सेना, आईटीबीपी और एसएसबी की पोस्टों पर आसानी से नजर रख सकता है. नेपाल कालापानी और लिंम्पियाधुरा को अपना बताकर भारत-नेपाल सीमा पर अपनी गतिविधियों को तेज कर रहा है. नेपाल के कई वर्षों से बंद दार्चुला छांगरु पैदल मार्ग को नेपाली सेना के जवान ठीक करने में लगे हैं.

एजेंसियों को जानकारी मिली है कि नेपाल शीघ्र ही दार्चुला से छांगरु तिंकर चीन सीमा पर बन रही 134 किलोमीटर सड़क निर्माण के तहत सुनसेरा तक लगभग 40 किलोमीटर सड़क बनाकर सुनसेरा में बीओपी खोलने की तैयारी कर रहा है. नेपाल सरकार शीघ्र ही सड़क निर्माण कार्य शुरू करने जा रही है. इस बाबत भारतीय सेना चप्पे –चप्पे पर नजर रख रही है.

Posted By : Rajneesh Anand

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें