1. home Hindi News
  2. national
  3. india army news know about first indigenous machine pistol asmi developed jointly by drdo and indian army smb

भारतीय सेना और DRDO ने मिलकर बनायी भारत की पहली स्वदेशी मशीन पिस्तौल ASMI, जानें इसके बारे में सबकुछ

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
India First Indigenous Machine Pistol ASMI
India First Indigenous Machine Pistol ASMI
ANI PIC

Indian Army News Update भारतीय सेना के जवानों के लिए स्वदेशी मशीन पिस्तौल ASMI तैयार किया गया है. भारतीय सेना और डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) द्वारा मिलकर इसे बनाया गया है. भारत की पहली स्वदेशी मशीन पिस्तौल ASMI को भारतीय सेना की प्रदर्शनी में दिखाया गया.

सेना के अधिकारी ने बताया कि ASMI 9एमएम फायर करती है और दुनिया में मौजूद सारे स्कोप इस पर लग सकते हैं. साथ ही इसकी हमला करने की सीमा 100 मीटर है. जानकारी के मुताबिक, डिफेंस फोर्स के 9एमएम पिस्टल की जगह अब इस मशीन पिस्तौल का इस्तेमाल किया जायेगा.

जानिए इसकी खासियत

- यह मशीन पिस्टल 100 मीटर की दूरी तक कर सकती है फायर

- इजरायल के उजी सीरीज का है स्वदेशी मशीन पिस्तौल ASMI

- इसको विकसित करने के दौरान पिछले चार महीने में 300 राउंड की गयी फायरिंग

स्वदेशी जैकेट शक्ति के बारे में भी जानें

भारतीय सेना के जवानों के लिए दुनिया का पहला यूनिवर्सल बुलेटप्रूफ जैकेट भी तैयार किया गया है. इस स्वदेशी जैकेट का नाम शक्ति रखा गया है. इस जैकेट का इस्तेमाल महिला या पुरुष किसी के द्वारा किया जा सकता है. दुनिया का यह पहला फ्लेक्सिबल बॉडी आर्मर भी है.

जहरीली गैस से जवानों की रक्षा के लिए हिमतापक हीटिंग डिवाइस

इससे पहले भारतीय सेना के जवानों के लिए डीआरडीओ द्वारा हिमतापक हीटिंग डिवाइस तैयार किया गया है. भारतीय सेना ने इसके लिए डीआरडीओ को 420 करोड़ का ऑर्डर दिया है. यह हीटिंग डिवाइस जहरीली गैस कार्बन डाई ऑक्साइड से जवानों की जान बचायेगी. जहरीली गैस कार्बन डाई ऑक्साइड से जवानों की मौत भी हो जाती है.

Upload By Samir Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें