1. home Home
  2. national
  3. election dates announcement updates for goa bjp congress aap tmc to make contest hard mtj

Goa Election Date: गोवा की 40 विधानसभा सीटों पर वोटिंग 14 फरवरी को, BJP ने कांग्रेस से छीन ली थी सत्ता

महाराष्ट्र से सटे गोवा में 40 सीटों पर 14 फरवरी को वोटिंग होगी. भाजपा और कांग्रेस के मुकाबले को चतुष्कोणीय बनाने के लिए आम आदमी पार्टी और तृणमूल कांग्रेस भी यहां पहुंच चुकी है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Goa Election Date: आम  आदमी पार्टी और तृणमूल मुकाबले को बनायेंगे रोमांचक
Goa Election Date: आम आदमी पार्टी और तृणमूल मुकाबले को बनायेंगे रोमांचक
Prabhat Khabar

Goa Election Date: चुनाव आयोग ने गोवा समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों की घोषणा कर दी है. सभी पांच राज्यों में 690 विधानसभा सीटों पर 7 चरणों में चुनाव कराये जायेंगे. गोवा (Goa Election Date) में 14 फरवरी (14 February) को दूसरे चरण में वोटिंग होगी. यहां सभी 40 सीटों पर एक साथ मतदान कराये जायेंगे. मतगणना 10 मार्च 2022 को करायी जायेगी और उसी दिन परिणाम घोषित होने की उम्मीद है.

गोवा में सभी 40 विधानसभा सीटों के लिए 21 जनवरी को अधिसूचना जारी कर दी जायेगी. सभी दलों के साथ-साथ निर्दलीय उम्मीदवार भी 28 जनवरी तक चुनावों के लिए नामांकन दाखिल कर पायेंगे. नाम वापसी की आखिरी तारीख 31 जनवरी 2022 रखी गयी है.

देश और दुनिया के पर्यटकों के पसंदीदा पर्यटन स्थल गोवा में वर्ष 2017 के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी कम सीटें जीतकर भी सत्ता पर काबिज हुई थी. सीनियर कांग्रेस लीडर दिग्विजय सिंह उर्फ दिग्गी राजा यह तय करते रहे कि किसको मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया जाये और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने गोवा में अपनी सरकार बना ली.

वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी, जो तब गोवा की सत्ता में थी, को 40 में से सिर्फ 13 सीटों पर जीत मिली थी. कांग्रेस 17 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को एक और अन्य दलों को 9 सीट पर जीत मिली थी. सबसे बड़ी पार्टी सरकार बनाने की जुगत में लगी रही, और दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी ने सरकार का गठन कर लिया.

भारतीय जनता पार्टी के नेता अमित शाह ने नितिन गडकरी को संख्या बल नहीं होने के बावजूद गोवा में सरकार बनाने की जिम्मेदारी सौंपी थी. दिग्गी राजा होटल में योजना बनाते रहे और नितिन गडकरी ने रातोंरात क्षेत्रीय दलों को साधकर उन्हें अपने पाले में कर लिया और मनोहर पर्रीकर, जो तब देश के रक्षा मंत्री थे, के नेतृत्व में गोवा में बीजेपी की सरकार बनवा दी.

हालांकि, इस बार रास्ता आसान नहीं है. तब कांग्रेस और बीजेपी के साथ-साथ कुछ क्षेत्रीय दलों के बीच टक्कर थी. लेकिन, इस बार पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी पार्टी अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के अलावा दिल्ली में सत्तारूढ़ दल आम आदमी पार्टी (आप) भी ताल ठोंकने के लिए गोवा पहुंच चुकी है.

Posted By: Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें