1. home Home
  2. national
  3. america want to make military base in india use indian land against taliban know detail prt

आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़ा होगा अमेरिका, बनाएगा सैन्य बेस? जानें क्यों टेंशन में है पाकिस्तान

तालिबानी आतंकियों के खिलाफ 'ओवर द होराइज़न' हमले के लिए भारत की जमीन पर अमेरिका बेस बनाएगा. खबर है कि आतंकियों पर करारा प्रहार करने के लिए अब अमेरिका भारत की मदद ले सकता है. इसके लिए अमेरिका भारत में बेस बनाने पर भी विचार कर रहा है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़ा होगा अमेरिका
आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़ा होगा अमेरिका
Twitter

क्या आतंकियों पर नकेल कसने के लिए अमेरिका भारत में बेस बना रहा है. अफगानिस्तान पर तालिबानी आतंकियों के खिलाफ 'ओवर द होराइज़न' हमले के लिए भारत की जमीन पर अमेरिका बेस बनाएगा. खबर है कि आतंकियों पर करारा प्रहार करने के लिए अब अमेरिका भारत की मदद ले सकता है. इसके लिए अमेरिका भारत में बेस बनाने पर भी विचार कर रहा है.

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने इस बारे खुलकर तो कुछ नहीं कहा, लेकिन उन्होंने इसकी संभावना से इंकार भी नहीं किया. एक सवाल के जवाब में अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने कहा कि आतंकियों के सफाये के लिए अमेरिका भारत से लगातार संपर्क बनाए हुए है. हालांकि, उन्होंने इस बारे में विस्तृत जानकारी देने से इनकार कर दिया.

वहीं, भारत की ओर से अभी इस मामले पर कुछ भी नहीं कहा गया है. अमेरिकी विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन के बयान का न तो खंड़न किया गया है, और न ही इस बारे में कोई बयान आया है. ऐसे में जाहिर होता है कि आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत सबसे आगे तो खड़ा है. लेकिन वो अमेरिका को अपनी जमीन देगा या नहीं इसपर कुछ साफ नहीं हो पाया है.

इधर, अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से ही पाकिस्तान खुल कर तालिबानी आतंकियों का समर्थन कर रहा है. उन्हें हथियार और सेना के साजों-सामान मुहैया करा रहा है. यहां तक की पंजशीर में उसने तालिबान के समर्थन में हवाई हमले भी कराएं. ऐसे में अमेरिका का भारत के साथ सीधे खड़े हो जाने से पाक की नापाक हरकत पर भी लगाम लग जाएगी.

वहीं खबर है कि, अफगानिस्तान छोड़ने से पहले अमेरिका ने पाकिस्तान पर बेस बनाने की मांग की थी. जिसे पीएम इमरान खान ने खारिज कर दिया था. इसका सीधा मतलब है कि पाकिस्तान नहीं चाहता की कोई भी पाकिस्तान की जमीन का इस्तेमाल तालिबान और आतंकियों के खिलाप न कर सके. क्योंकि वहीं दुनिया में आतंकवाद का पोषण करता है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें