प्रधानमंत्री ने सबरीमला श्रद्धालुओं को ‘‘धोखा'''' किया : कांग्रेस

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

तिरुवनंतपुरम : केरल में विपक्षी कांग्रेस ने रविवार को सबरीमला मुद्दे पर भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा कि लोग भगवान अयप्पा के नाम पर भगवा पार्टी द्वारा किये जा रहे 'नाटक' को बर्दाश्त नहीं करेंगे और श्रद्धालुओं से ‘‘धोखा'' किया गया है. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव (संगठन) के सी वेणुगोपाल ने मोदी और भाजपा पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि पार्टी ने श्रद्धालुओं से ‘‘धोखा'' किया है और वे ‘‘सबरीमला के लिए तभी ईमानदार होते हैं, जब चुनाव और मतदान आता है.'

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने आरोप लगाया कि सबरीमला मुद्दे को बिगाड़ने में केंद्र और राज्य दोनों की मिलीभगत थी. उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री सबरीमला पर नाटक क्यों कर रहे हैं? मैंने चार जनवरी को संसद में मामला उठाया था. मैंने श्रद्धालुओं के अधिकारों की रक्षा के लिए विधायी हस्तक्षेप की मांग की थी.''

वेणुगोपाल ने सवाल किया, ‘क्या प्रधानमंत्री या उनके मंत्री ने संसद में इस मुद्दे पर एक भी शब्द बोला?'' उन्होंने यह उल्लेख किया कि राजग तीन तलाक पर निष्प्रभावी हो गए विधेयक को फिर से लागू करने के लिए अध्यादेश लाया. उन्होंने सवाल किया कि सबरीमला के मामले में उस तरह का उत्साह क्यों नहीं था.

वेणुगोपाल ने कहा, ‘एक अध्यादेश पर्याप्त होता. केंद्र विश्वास के नाम पर हस्तक्षेप कर सकता था. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. मोदी ने कहा कि उनकी पार्टी और सरकार सबरीमला की परंपराओं को समझाते हुए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगी. वे ऐसा बहुत पहले कर सकते थे. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. लोग हर तरह के नाटक को बर्दाश्त कर लेंगे लेकिन चुनावी नाटक के लिए स्वामी अयप्पा के नाम का इस्तेमाल करना सीमा से परे है.'

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने सबरीमला मामले पर विधायी हस्तक्षेप के लिए आधिकारिक तौर पर संसद में कहा है. उन्होंने राज्य में वाम सरकार पर हमला करते हुए कहा कि यह उच्चतम न्यायालय के फैसले को लागू करने के लिए समय मांग सकती थी लेकिन ऐसा नहीं किया.
उन्होंने आरोप लगाया, ‘आरएसएस/ संघ परिवार ने पहाड़ी मंदिर में शांति भंग करने की कोशिश की. ईमानदार श्रद्धालुओं को प्रार्थना करने के उनके अधिकारों से वंचित किया गया. स्थिति को और खराब करने में राज्य और केंद्र सरकार की मिलीभगत थी. सबरीमला मुद्दे को बिगाड़ने के लिए दोनों सरकारें जिम्मेदार थीं.''

वेणुगोपाल ने कहा कि तिरुवनंतपुरम में एक विशेष पर्यवेक्षक नियुक्त करने का कांग्रेस का निर्णय प्रमुख निर्वाचन क्षेत्रों में चुनावी गतिविधियों की निगरानी करने के लिए है. वरिष्ठ नेता नाना पटोले को तिरुवनंतपुरम निर्वाचन क्षेत्र में पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त किया गया है जहां से पार्टी उम्मीदवार शशि थरूर चुनाव लड़ रहे हैं.

उन्होंने मीडिया में आयी उन खबरों का जिक्र किया कि थरूर ने स्थानीय नेताओं द्वारा चुनाव क्षेत्र में उनके लिए चुनाव प्रचार नहीं करने के बारे में कांग्रेस से शिकायत की थी और कहा कि “ये सिर्फ अफवाहें थीं.'' वेणुगोपाल ने कर्नाटक के चित्रदुर्ग में प्रधानमंत्री के काफिले से अलग कार में एसपीजी के दो लोगों द्वारा दो बड़े बक्से ले जाने की वायरल हुए कथित वीडियो क्लिप का हवाला देते हुए कहा कि पार्टी ने चुनाव आयोग से शिकायत की है.

वेणुगोपाल ने अमेठी में कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रही केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के कथित फर्जी डिग्री का मुद्दा भी उठाया और कहा कि उन्होंने चार चुनावों में चार अलग-अलग हलफनामे दिए हैं. वेणुगोपाल ने सवाल किया, ‘2004 में वह कहती हैं कि उन्होंने 2009 में बीए पास किया, यह दिल्ली विश्वविद्यालय से बीकॉम बन गया. 2014 में एक और. अब 2019 में वह कहती हैं कि उन्होंने बीकॉम पास नहीं किया है. ऐसे उम्मीदवार की क्या विश्वसनीयता है?''

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें