24.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

MP Tourism: रानी दुर्गावती के अदम्य साहस का प्रतीक है- रानी दुर्गवाती का किला

11वीं शताब्दी में निर्मित रानी दुर्गवाती का किला कभी एक प्रमुख सिंह गढ़ हुआ करता था. जमीन से तकरीबन 500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस किले से सुरक्षा बल विशेष निगरानी रखा करते थे..

MP Tourism: रानी दुर्गावती किला(Rani Durgawati Fort), जिसे मदन महल किला(Madan Mahal Fort) के नाम से भी जाना जाता है, मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक पहाड़ी के ऊपर स्थित एक ऐतिहासिक किला है.  यह किला, भारत की समृद्ध वास्तुकला और सांस्कृतिक विरासत का एक प्रमाण है, जो 11वीं शताब्दी तक एक प्रमुख सैन्य गढ़ था. यह किला अपनी महत्वपूर्ण वास्तुकला और इसके आसपास की आश्चर्यजनक प्राकृतिक संरचनाओं के लिए व्यापक रूप से प्रसिद्ध है, जो इसे स्थानीय पर्यटकों और इतिहास के प्रति उत्साही लोगों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य बनाता है.

Rani Durgawati Fort Jabalpur Mp
Rani durgawati fort, madan mahal fort, jabalpur madhya pradesh (image source-social media)

रानी दुर्गावती(Rani Durgawati) कौन थीं?

रानी दुर्गावती गोंड राजवंश की एक प्रसिद्ध रानी और योद्धा थीं, जो अपनी बहादुरी और पराक्रम के लिए प्रसिद्ध थीं.उनका जन्म 1524 में हुआ था और गोंड राजा संग्रामशाह के बेटे दलपत शाह से शादी के बाद वे गोंडवाना साम्राज्य की रानी बन गईं. अपने पति की असामयिक मृत्यु के बाद, रानी दुर्गावती ने राज्य की बागडोर संभाली और उल्लेखनीय कौशल और साहस के साथ शासन किया.

Rani Durgawati Image
Rani durgawati queen & warrior of gond dynasty(image source-social media)

उन्हें विशेष रूप से सम्राट अकबर के सेनापति आसफ खान के नेतृत्व में मुगल आक्रमण के खिलाफ उनके प्रतिरोध के लिए याद किया जाता है.अपने वीरतापूर्ण प्रयासों के बावजूद, वह अंततः 1564 में पराजित हुई, और उसने आत्मसमर्पण करने के बजाय मृत्यु को गले लगाना चुना. रानी दुर्गावती की विरासत आज भी प्रेरणा देती है और उनका जीवन प्रतिरोध और शक्ति का प्रतीक है.

किले का निर्माण किसने करवाया?

Rani Durgawati Fort Madan Mahal Jabalpur
Rani durgawati fort, madan mahal fort, jabalpur madhya pradesh (image source-social media)

रानी दुर्गावती किला या मदन महल किले का निर्माण 11वीं शताब्दी में गोंड वंश के वंशज राजा मदन सिंह ने करवाया था.किले ने रणनीतिक सैन्य चौकी जो कि जमीन से तकरीबन 500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जहां से दूर-दूर तक नजर रखीं जाती थी और निवास दोनों के रूप में काम किया. किले की वास्तुकला इसके निर्माताओं की सरलता और संसाधनशीलता को दर्शाती है, जो सैन्य शक्ति और आवासीय आराम का मिश्रण प्रदर्शित करती है. किले के डिजाइन में प्राकृतिक चट्टान संरचनाएं  शामिल हैं, और इसकी ऊंची स्थिति निगरानी और रक्षा के लिए एक रणनीतिक लाभ प्रदान करती थी.

किले के पास प्रसिद्धआकर्षण

1. बैलेंसिंग रॉक: रानी दुर्गावती किले के पास सबसे प्रसिद्ध विशेषताओं में से एक बैलेंसिंग रॉक है.  यह प्राकृतिक संरचना गुरुत्वाकर्षण को चुनौती देती है, जिसमें एक विशाल चट्टान एक छोटे से आधार पर टिकी हुई है.

2.रानी दुर्गावती संग्रहालय: पास में स्थित यह संग्रहालय रानी दुर्गावती की स्मृति को समर्पित है. इसमें मूर्तियों, शिलालेखों और कलाकृतियों का एक समृद्ध संग्रह है जो क्षेत्र के इतिहास और संस्कृति के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं.

3. डुमना नेचर रिजर्व: यह नौका विहार, प्रकृति की सैर और पक्षी देखने के अवसरों के साथ एक शांत वातावरण प्रदान करता है.

4. भेड़ाघाट: आश्चर्यजनक संगमरमर की चट्टानों और धुआंधार जलप्रपात के लिए प्रसिद्ध, भेड़ाघाट जबलपुर के पास एक ज़रूर देखने लायक जगह है.

रानी दुर्गावती किले तक कैसे पहुंचें

निकटतम हवाई अड्डा जबलपुर हवाई अड्डा (डुमना हवाई अड्डा) है, जो किले से लगभग 20 किलोमीटर दूर है.  नियमित उड़ानें जबलपुर को दिल्ली, मुंबई और भोपाल जैसे प्रमुख शहरों से जोड़ती हैं.जबलपुर जंक्शन निकटतम रेलवे स्टेशन है, जो किले से लगभग 6 किलोमीटर दूर स्थित है. जबलपुर सड़क मार्ग से भोपाल, नागपुर और इंदौर जैसे शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है.शहर के विभिन्न हिस्सों से किले तक पहुंचने के लिए नियमित बस सेवाएँ और टैक्सियां उपलब्ध हैं.

  • रानी दुर्गावती किले में आने वाले पर्यटकों के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं है.
  • किला सुबह 8:45 बजे से शाम 5:45 बजे तक खुला रहता है.

इसकी प्रभावशाली वास्तुकला, इसके आस-पास की प्राकृतिक सुंदरता के साथ मिलकर इसे इतिहास प्रेमियों और पर्यटकों के लिए एक आकर्षक गंतव्य बनाती है. 

Also Read-अब सिर्फ झांसी ही क्यों…इन जगहों को भी करिए विजिट, आंखों के सामने छा जाएगा अंग्रेजों का जुल्मो-सितम

भोपाल की Taaj-ul-Masjid पर धूमधाम से मनती है ईद, 24 हजार फुट में है फैली

हाड़ी रानी के बलिदान की कहानी बयां करती ये बावली- आखिर क्या है रहस्य भूल-भुलैया का

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें